ट्रेजेडी किंग यूसुफ खान से ऐसे बने Dilip Kumar, बॉम्बे टॉकीज की मालिक देविका रानी ने दिया था नाम Read it later

यूसुफ खान से ऐसे बने Dilip Kumar

दुनिया में Dilip Kumar के नाम से मशहूर हुए ट्रेजडी किंग के अभिनय की मिसालें दी जाती हैं, लेकिन बता दें कि दिलीप साहब को न तो फिल्मों में काम करने में कोई दिलचस्पी थी और न ही उन्होंने कभी सोचा था कि दुनिया उन्हें उनके असली नाम की जगह ​​किसी और नाम से याद करेगी।

पेशावर के कारोबारी परिवार से ताल्लुक रखने वाले Dilip Kumar के पिता मुंबई में एक बड़े फल व्यापारी थे, इसलिए शुरुआती दिनों से ही दिलीप कुमार को अपने पारिवारिक व्यवसाय से जुड़ना पड़ा। तब दिलीप कुमार बिजनेसमैन मोहम्मद सरवर खान के बेटे यूसुफ सरवर खान के नाम से जाने जाते थे।

 एक दिन जब उन्होंने अपने पिता से कुछ सुना तो दिलीप कुमार अपने पैरों पर खड़े होने के लिए पुणे गए। अंग्रेजी जानने के बाद उन्हें पुणे में ब्रिटिश सेना की कैंटीन में सहायक की नौकरी मिल गई।

उसी समय, उन्होंने अपना सैंडविच काउंटर खोला जो ब्रिटिश सैनिकों के बीच बहुत लोकप्रिय हो गया, लेकिन एक दिन इस कैंटीन में, उन्हें एक कार्यक्रम में भारत की स्वतंत्रता की लड़ाई का समर्थन करने के लिए गिरफ्तार होना पड़ा और उनका काम बंद हो गया।

दिलीप कुमार ने इन अनुभवों का बखूबी वर्णन अपनी आत्मकथा 'द सबस्टेंस एंड द शैडो' में किया है।
TWITTER@NFAIOFFICIAL

दिलीप कुमार ने इन अनुभवों का वर्णन बखूबी अपनी आत्मकथा ‘द सबस्टेंस एंड द शैडो’ में किया है

यूसुफ खान फिर से बॉम्बे (अब मुंबई) लौट आया और अपने पिता की मदद करने लगा। उसने तकिए बेचना भी शुरू कर दिया जो सफल नहीं हुआ।

जब उनके पिता ने उन्हें सेब का बाग खरीदने के लिए नैनीताल जाने का काम सौंपा, तो युसूफ ने केवल एक रुपये के अग्रिम भुगतान पर एक समझौता किया। हालांकि इसमें बगीचे के मालिक की भूमिका अधिक थी, लेकिन यूसुफ को अपने पिता से काफी प्रशंसा मिली।

ऐसे कारोबारी दिनों में आय बढ़ाने के लिए युसूफ खान को एक दिन ब्रिटिश सेना छावनी में लकड़ी के तख्तों की आपूर्ति की नौकरी पाने के लिए दादर जाना पड़ा।

dk4
TWITTER@NFAIOFFICIAL

वे चर्चगेट स्टेशन पर लोकल ट्रेन का इंतज़ार कर रहे थे, तभी उनकी मुलाकात मशहूर मनोवैज्ञानिक डॉ. मसानी से हुई। डॉ मसानी ‘बॉम्बे टॉकीज’ की मालिक देविका रानी से मिलने जा रहे थे।

उन्होंने युसूफ खान से कहा कि तुम क्या जानते हो, तुम्हें वहां कुछ काम मिल सकता है। यूसुफ खान ने पहले तो मना कर दिया लेकिन पहली बार किसी फिल्म स्टूडियो में जाने के आकर्षण के कारण वह मान गया।

बॉम्बे टॉकीज उस दौर का सबसे सफल फिल्म प्रोडक्शन हाउस था
TWITTER@THEDILIPKUMAR

बॉम्बे टॉकीज उस दौर का सबसे सफल फिल्म प्रोडक्शन हाउस था

उन्हें क्या पता था कि उनकी किस्मत बदलने वाली है। बॉम्बे टॉकीज उस दौर का सबसे सफल फिल्म प्रोडक्शन हाउस था। उनकी मालकिन देविका रानी एक फिल्म स्टार होने के साथ-साथ एक अत्याधुनिक और दूरदर्शी महिला थीं।

Dilip Kumar ने अपनी आत्मकथा ‘द सबस्टेंस एंड द शैडो’ में लिखा है कि जब वे उनके केबिन में पहुंचे तो उन्हें देविका रानी एक प्रतिष्ठित महिला मिलीं। दिलीप कुमार का परिचय कराते हुए डॉ. मसानी ने देविका रानी से उनके लिए काम के बारे में बात की।

Dilip Kumar

देविका रानी ने Dilip Kumar से पूछा कि क्या उन्हें उर्दू आती है? इससे पहले कि दिलीप कुमार हां में जवाब दे पाते, डॉक्टर मसानी ने देविका रानी को उनके परिवार और फलों के कारोबार के बारे में बताना शुरू कर दिया, जो पेशावर से मुंबई पहुंची थीं। 

इसके बाद देविका रानी ने Dilip Kumar से पूछा कि क्या आप एक्टर बनोगे? इस सवाल के साथ ही देविका रानी ने उन्हें 1250 रुपये मासिक की नौकरी की पेशकश की। डॉक्टर मसानी ने दिलीप कुमार को इसे स्वीकार करने का इशारा किया।

लेकिन दिलीप कुमार ने इस ऑफर के लिए देविका रानी का शुक्रिया अदा करते हुए कहा कि उन्हें न तो काम करने का अनुभव है और न ही सिनेमा की समझ।

तब देविका रानी ने दिलीप कुमार से पूछा कि आप फल व्यवसाय के बारे में कितना जानते हैं, दिलीप कुमार का जवाब था, “हां, मैं सीख रहा हूं।”

देविका रानी ने तब Dilip Kumar से कहा कि जब आप फल व्यवसाय और फलों की खेती के बारे में सीख रहे होंगे, तो आप फिल्म बनाना और अभिनय भी सीखेंगे।

साथ ही उन्होंने यह भी कहा, “मुझे एक युवा, अच्छे दिखने वाले और शिक्षित अभिनेता की जरूरत है। मुझे आप में एक अच्छा अभिनेता बनने की क्षमता दिखाई देती है।”

1250 रुपए मासिक वेतन बाॅम्बे टॉकीज जॉइन किया
DILIP KUMAR

1250 रुपए मासिक वेतन में बाॅम्बे टॉकीज जॉइन किया

वर्ष 1943 में 1250 रुपये की राशि कितनी बड़ी थी, इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि Dilip Kumar को यह ऑफर सालाना लगा। उन्होंने डॉ मसानी से इसकी पुष्टि करने के लिए कहा और जब मसानी ने देविका रानी से पूछ कर बताया तो दिलीप कुमार को विश्वास हो गया। फिर 1250 रुपये प्रति माह है और दिलीप साहब ने इस प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया और बॉम्बे टॉकीज के अभिनेता बन गए।

बॉम्बे टॉकीज में शशिधर मुखर्जी और अशोक कुमार के अलावा अन्य प्रसिद्ध लोगों ने अभिनय की बारीकियां सीखना शुरू कर दिया। इसके लिए उन्हें रोजाना सुबह दस बजे से सुबह छह बजे तक स्टूडियो में रहना पड़ता था।

एक सुबह जब वे स्टूडियो पहुंचे तो उन्हें मैसेज आया कि देविका रानी ने उन्हें अपने केबिन में बुलाया है।

Dilip Kumar

Dilip Kumar ने इस मुलाकात के बारे में अपनी आत्मकथा में लिखा है, “उन्होंने अपनी शानदार अंग्रेजी में कहा- युसूफ, मैं आपको जल्द से जल्द एक अभिनेता के रूप में लॉन्च करना चाहता हूं। इसलिए यह कोई बुरा विचार नहीं है कि आपके पास एक स्क्रीन नाम है”

“एक ऐसा नाम जिससे दुनिया आपको जानेगी और दर्शक आपकी रोमांटिक छवि को इससे जोड़ेंगे। मुझे लगता है कि दिलीप कुमार एक अच्छा नाम है। 

जब मैं आपके नाम के बारे में सोच रहा था, तो यह नाम अचानक मेरे दिमाग में आया। आपको कैसे मिलता है यह नाम? महसूस कर रहा है?”

युसुफ खान से दिलीप कुमार
TWITTER@NFAIOFFICIAL

युसुफ खान से दिलीप कुमार

Dilip Kumar ने अपनी आत्मकथा में लिखा है कि यह सुनकर वे सन्न रह गए, क्योंकि वे नई पहचान के लिए तैयार नहीं थे। फिर भी उन्होंने देविका रानी से कहा कि यह नाम बहुत अच्छा है लेकिन क्या ऐसा करना वाकई जरूरी है?

देविका रानी मुस्कुराई और दिलीप कुमार से कहा कि ऐसा करना ही समझदारी होगी। देविका रानी ने दिलीप कुमार से कहा, “काफी सोच-विचार के बाद मैं इस नतीजे पर पहुंची हूं कि आपका स्क्रीन नेम होना चाहिए।”

दिलीप कुमार ने यह भी लिखा है कि बकौल देविका रानी  वह फिल्मों में मेरा लंबा और सफल करियर देख सकती हैं, इसलिए स्क्रीन नाम अच्छा होगा और इसमें एक धर्मनिरपेक्ष अपील भी होगी।

हालांकि यह भारत की आजादी से पहले का दौर था और उस समय हिंदू और मुस्लिम को लेकर समाज में ज्यादा कटुता नहीं थी, लेकिन कुछ ही सालों में हिंदू और मुस्लिम के नाम पर भारत और पाकिस्तान के बीच बंटवारा हो गया।

लेकिन देविका रानी को बाजार की समझ थी, वह जानती थी कि एक ब्रांड के लिए आदर्श स्थिति दोनों समाज के लोगों को स्वीकार्य होनी चाहिए। हालांकि ऐसा नहीं था कि सिर्फ मुस्लिम अभिनेताओं को ही अपना नाम बदल कर स्क्रीन नाम रखना पड़ा हो। 

Dilip Kumarर से पहले देविका रानी ने अपने पति हिमांशु राय के साथ मिलकर 1936 में फिल्म ‘अछूत कन्या’ में कुमुदलाल गांगुली को अशोक कुमार के रूप में स्थापित कर चुकी थीं। 

भारतीय सिनेमा में अशोक कुमार कुमुदलाल गांगुली से बने थे सिनेमा के पहले कुमार
TWITTER@NFAIOFFICIAL


भारतीय सिनेमा में अशोक कुमार कुमुदलाल गांगुली से बने थे सिनेमा के पहले कुमार

साल 1943 में अशोक कुमार की फिल्म ‘किस्मत’ सुपर डुपर हिट रही थी। इस फिल्म की सफलता ने अशोक कुमार को देखते ही देखते सुपरस्टार बना दिया। अशोक कुमार भारतीय सिनेमा के पहले कुमार थे।

ऐसे में बहुत संभव है कि फिल्म ‘किस्मत’ से हुई कमाई को देखते हुए युसूफ के स्क्रीन नेम के ध्यान में आते ही देविका रानी के दिमाग में कुमार सरनेम दर्ज हो गया हो।

हालांकि यह बात तब दिलीप कुमार को नहीं पता थी, लेकिन यह बात और थी कि वह हर दिन अशोक कुमार के साथ घंटों बिता रहे थे और उन्हें अशोक भैया कहकर बुलाते थे।

यूसुफ खान के रूप में, वह देविका रानी के तर्कों से सहमत थे लेकिन उन्होंने इस पर विचार करने के लिए समय मांगा। देविका रानी ने कहा कि ठीक है, सोचकर बताओ, लेकिन जल्दी बताओ।

देविका रानी के केबिन से निकलने के बाद उन्होंने स्टूडियो में काम करना शुरू किया लेकिन उनके दिमाग में दिलीप कुमार का नाम चल रहा था। ऐसे में शशिधर मुखर्जी ने उनसे पूछा कि वह किस सोच में डूबे हुए हैं।

तब Dilip Kumar ने उन्हें देविका रानी से हुई बातचीत के बारे में बताया। एक मिनट के लिए रुककर शशिधर मुखर्जी ने उन्हें जो बताया, उसका जिक्र भी दिलीप कुमार ने अपनी आत्मकथा में किया है।

उन्होंने कहा, “मुझे लगता है कि देविका सही है। उसने जो नाम सुझाया है उसे स्वीकार करना आपके फायदे में है। यह बहुत अच्छा नाम है। यह एक और बात है कि मैं आपको यूसुफ के रूप में जानता रहूंगा।”

इस सलाह के बाद, यूसुफ खान ने दिलीप कुमार का स्क्रीन नाम स्वीकार कर लिया और अमिया चक्रवर्ती के निर्देशन में ‘ज्वार भाटा’ की शूटिंग शुरू कर दी।

'ज्वार भाटा' से की शुरुआत
TWITTER@NFAIOFFICIAL

‘ज्वार भाटा’ से की रिलीज पर एक पत्रिका के संपादक ने लिखा था‚ ऐसा लगता है कि किसी दुबल पतले मरियल और भूखा दिखने वाले शख्स को हीरो बना दिया…

साल 1944 में रिलीज हुई इस फिल्म से भारतीय फिल्म इतिहास को दिलीप कुमार मिल गए। पहली फिल्म नहीं चली।

पेंग्विन पब्लिकेशंस द्वारा प्रकाशित भारतीय सिनेमा के बॉलीवुड टॉप 20 सुपरस्टार्स पुस्तक के लिए दिलीप कुमार पर एक लेख में वरिष्ठ फिल्म पत्रकार रऊफ अहमद ने लिखा है कि 

उस समय हिंदी फिल्मों पर नज़र रखने वाली प्रमुख पत्रिका फिल्म इंडिया के संपादक बाबूराव पटेल ने ज्वारभाटा की रिलीज पर लिखा था कि  “फिल्म में ऐसा लगता है कि किसी दुबल पतले मरियल और भूखा दिखने वाले शख्स को हीरो बना दिया गया है।”

लेकिन लाहौर स्थित पत्रिका सिने हेराल्ड में पत्रिका के संपादक बीआर चोपड़ा (जो बाद में एक प्रसिद्ध फिल्म निर्माता बने) ने Dilip Kumar की अभिनय क्षमता को महसूस किया।

उन्होंने अपनी मैगजीन में इस फिल्म के बारे में लिखा कि जिस तरह से दिलीप कुमार ने इस फिल्म के डायलॉग्स दिए हैं, वह उन्हें दूसरे कलाकारों से अलग करता है।

हालांकि पहली फिल्म नहीं चली, लेकिन देविका रानी के अनुमान के मुताबिक, दिलीप कुमार का सितारा बुलंदियों पर पहुंचने के बाद भी चमकता रहा और कुमार सरनेम का ऐसा जादू हुआ कि भारतीय फिल्म उद्योग में कई कुमार दिखाई दिए।

दिलीप कुमार को लेकर देविका रानी का जो सपना था, वह कितना वास्तविक था और Dilip Kumar कैसे अपने अभिनय से धर्मनिरपेक्ष भावना का चेहरा बने, इसे मोहम्मद रफी ने फिल्म ‘गोपी’ में गाया था, भजन ‘सुख के सब साथी ‘  दुख में ना कोई, मेरे राम, मेरे राम, तेरा नाम एक सांचा दूजा ना कोई में अभिनय करते हुए देखना अद्भुत है।

दिलीप कुमार ने जिन 60 से अधिक फिल्मों में काम किया, उनमें वह केवल ‘मुगल-ए-आजम’ में एक मुस्लिम किरदार में नजर आए।

खैर, फिल्मी दुनिया की सच्चाई यह रही है कि कई अभिनेताओं ने स्क्रीन नाम अपनाकर सफलता हासिल की है। इसमें मुस्लिम और हिंदू दोनों कलाकार शामिल हैं और इसकी सूची बहुत लंबी है।

भारतीय फिल्म उद्योग में स्क्रीननेम का लंबा इतिहास रहा है
MUGHAL-E-AZAM

भारतीय फिल्म उद्योग में स्क्रीननेम का लंबा इतिहास रहा है

दिलीप-राज-देव की त्रिमूर्ति में शामिल देव आनंद का असली नाम धर्मदेव पिशोरीमल आनंद था। जबकि गुरुदत्त का असली नाम वसंत कुमार शिवशंकर पादुकोण था। बलराज साहनी का असली नाम युधिष्ठिर साहनी भी था।

उनके अलावा, उनके छोटे भाई शम्मी कपूर (असली नाम शमशेर राज कपूर) और शशि कपूर (असली नाम बलबीर राज कपूर) स्क्रीननेम के साथ सुपर हिट थे।

ऋषि कपूर ने अपनी किताब ‘खुल्लम खुल्ला’ में बताया है कि उनके पिता राज कपूर का असली नाम सृष्टि नाथ कपूर था। हालांकि, बाद में वह रणबीर राज कपूर में बदल गए और सिनेमाई पर्दे पर राज कपूर के रूप में दिखाई दिए।

भारतीय फिल्म उद्योग में स्क्रीननेम का लंबा इतिहास रहा है
TWITTER@AAPKADHARAM

अशोक कुमार के बाद उनके छोटे भाई और अपने जमान के मशहूर गायक किशोर कुमार (असली नाम आभाष कुमार गांगुली), सुनील दत्त (असली नाम बलराज दत्त)

राज कुमार (असली नाम कुलभूषण पंडित), राजेंद्र कुमार (असली नाम राजेंद्र तुली), मनोज कुमार (असली नाम हरेकृष्ण गोस्वामी), धर्मेंद्र (असली नाम धरम सिंह देओल), जीतेंद्र (असली नाम रवि कपूर), 

संजीव कुमार (असली नाम हरिहर जेठालाल जरीवाला) और राजेश खन्ना (असली नाम जतिन खन्ना) ने भी स्क्रीन नामों को अपनाया और फिर बाद में इसी नाम से जाने गए।

इसके बाद मिथुन चक्रवर्ती (असली नाम गोरांगो चक्रवर्ती), डैनी (असली नाम शेरिंग फिनस्टो डेन्जोंगपा), नाना पाटेकर (असली नाम विश्वनाथ पाटेकर), सनी देओल (असली नाम अजय सिंह देओल), 

बॉबी देओल (असली नाम विजय सिंह देओल) का नंबर आता है। अजय देवगन (असली नाम विशाल देवगन) और अक्षय कुमार (असली नाम राजीव भाटिया) जैसे सितारे भी स्क्रीन नामों से प्रसिद्ध हुए। 

श्रीदेवी (असली नाम श्री अम्मा यंगेर अयप्पन) और जया प्रदा (असली नाम ललिता रानी) को उनके स्क्रीन नामों से ही जाना गया।

यूसुफ खान से ऐसे बने Dilip Kumar
TWITTER@NFAIOFFICIAL

हालांकि, कुछ मुस्लिम कलाकारों ने भी इस दौरान हिंदू नामों को अपनाया है। इनमें Dilip Kumar सबसे मशहूर रहे हैं. भारतीय सिनेमा की दो मशहूर अभिनेत्रियों मीना कुमारी का असली नाम महजबीन बानो था जबकि मधुबाला का असली नाम मुमताज जहां देहलवी था।

अजीत का असली नाम हामिद अली खान हुआ करता था, जो खलनायक की भूमिका के लिए प्रसिद्ध थे, उन्होंने इसी नाम से एक नायक के रूप में अपनी फिल्म यात्रा शुरू की, 

हालांकि बाद में उन्होंने स्क्रीन नाम अजीत में बदल दिया। मशहूर कॉमेडियन जॉनी वॉकर का नाम बदरुद्दीन जमाल काजी था जबकि जगदीप का नाम सैयद इश्तियाक अहमद जाफरी था।

रजनीकांत का असली नाम शिवाजी राव गायकवाड़ भी है, इसलिए ऐसा नहीं है कि केवल मुस्लिम कलाकारों ने हिंदू नामों को अपनाया है। फिल्मी दुनिया में स्क्रीन नेम रखने का चलन हमेशा से रहा है। 

ऐसा Dilip Kumar से पहले भी देखने को मिला था और बाद में कई सितारों ने इसे अपनाया। ऐसा कुछ स्टारडम और कुछ नामों को स्टाइलिश और ट्रेंडी बनाने की चाहत की वजह से हो रहा है।

dilip kumar | story of dilip kumar | dilip kumar from yusuf khan | tragedy king | bollywood tragedy king | dilip kumar biography | saira banu | dilip kumar age | dilip kumar siblings | 

Was This Article Helpful?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *