आपके मतलब की खबर : गूगल मैप ऐसे रास्ते बताएगा जिन पर बहुत कम होंगी जहरीली गैसें, दूसरे रास्तों पर पॉल्यूशन से कर सकेंगे तुलना

eco friendly google map
फोटो: सोशल मीडिया 

स्मार्ट फोन के इस युग में, Google MAP हमारा मार्गदर्शक बना हुआ है। गूगल मैप के बिना, चाहे टैक्सी से कहीं जाना हो या किसी रेस्तरां से घर का खाना खाना हो, गुगल मैप के बिना इन सुविधाओं की कल्पना भी नहीं की जा सकती। Google हमारी इन जरूरतों को इको-फ्रेंडली बनाना रहा है। इसकी कड़ी में अब Google MAPS जल्द ही कम से कम प्रदूषण फैलाने वाले पर्यावरण के अनुकूल मार्गों से जाने के लिए आपको बताएगा। मतलब आपको इसके ​जरिए ऐसे मार्ग मिलेंगे जहां प्रदूषण का स्तर बेहद होगा। ये आपको पहले ही बता देगा की कौनसा मार्ग प्रदूषण के लिहाज से आपके लिए बेहतर है।

Google की माने तो मैप्स की इस नई इको-फ्रेंडली सुविधा को इस साल के अंत तक अमेरिका में लॉन्च किया जाएगा और उसके बाद इसे अन्य देशों में शुरू किया जाएगा।

अब तक, Google मैप्स सबसे छोटा रास्ता दिखाता है, या जो सबसे कम समय लेता है। यहां तक ​​कि अगर कोई जाम या किसी भी तरह की रुकावट है, तो वैकल्पिक रास्ते भी उपलब्ध कराता है।

ऐसे काम करेगा ये फीचर

डिफ़ॉल्ट फीचर की सुविधा – लॉन्च के बाद, Google मैप्स केवल डिफ़ॉल्ट पर्यावरण-अनुकूल मार्ग दिखाएगा। वैकल्पिक मार्गों पर जाने के लिए यूजर्स को इस डिफ़ॉल्ट सेटिंग से बाहर आना होगा।

दूसरे रास्ते भी बताएगा – गूगल मैप्स दोनों विकल्पों को दिखाएगा जब वैकल्पिक मार्ग पर्यावरण के अनुकूल मार्गों की तुलना में तेज़ होंगे। ऐसे में यूजर्स के सामने दोनों रास्तों पर ग्रीन हाउस गैसों का आंकड़ा होगा। उनकी तुलना करके, यूजर्स किसी भी एक मार्ग को अपनाने में सक्षम होंगे।

ग्रीन रोड – गूगल मैप्स के इस प्रोडक्ट के निदेशक रसल डिकर कहते हैं, Google ने अमेरिका में जिन 50% मार्गों का विश्लेषण किया है, उन्होंने बिना किसी बड़े नुकसान के आप्श्नल इको-फ्रेंडली मार्गों को बताया।

 गाड़ियों की संख्या से लेकर उतार- चढ़ाव से लेकर सेटेलाइट इमेजेस का इस्तेमाल किया जाएगा 

Google ने सड़कों पर ग्रीनहाउस गैस का अंदाजा लगाने के लिए विभिन्न मार्गों से गुजरने वाले वाहनों की संख्या , वाहनों की कैटेगिरी (डीजल, पेट्रोल या CNG), सड़कों की कैटेगिरी के साथ अमेरिका के  राषट्रीय अक्षय ऊर्जा प्रयोगशाला (NREL) के डेटा का उपयोग किया है।  इनमें सड़कों के उतार-चढ़ाव के डेटा भी शामिल हैं। 

वहीं Google ने अपने स्ट्रीट व्यू वाहनों के साथ ड्रोन और उपग्रह चित्रों का भी उपयोग किया। इसी तरह, बाकी देशों में ग्रीन रूट्स की पहचान की जाएगी।


फोटो: सोशल मीडिया 

चेतावनी जून से उपलब्ध होगी

इसके अलावा, जून 2021 से, Google कम कार्बन गैस वाले क्षेत्रों में यात्रा करने के लिए ड्राइवरों को चेतावनी देना भी शुरू कर देगा। जर्मनी, फ्रांस और नीदरलैंड जैसे देशों में, कम कार्बन गैस वाले वाहनों पर प्रतिबंध  है।

रूट के साथ विभिन्न मोड्स की तुलना कर सकेंगे

इस साल के अंत तक, Google मैप्स एक और फीचर लॉन्च करेगा। इसमें यूजर्स को न केवल मार्गों का विकल्प मिलेगा, बल्कि वह एक ही स्थान पर यात्रा करने के विभिन्न तरीकों के बीच तुलना भी कर सकेंगे। जैसे कार, साइकिल, सार्वजनिक परिवहन आदि, अब तक यूजर्स को विभिन्न मोड से रूट आॅप्शंस की तुलना करने के लिए बार-बार मोड स्विच करना पड़ता है।

मौसम और वायु गुणवत्ता के नक्शे भी तैयार किए जा रहे 

Google मौसम और वायु गुणवत्ता के आधार पर नए नक्शे (मौसम और वायु गुणवत्ता परत मानचित्र) तैयार कर रहा है। ये आने वाले महीनों में एंड्रॉइड और आईओएस दोनों प्लेटफॉर्म के लिए रोल आउट किया जाएगा। एक रिपोर्ट के मुताबिक, यह मैप सबसे पहले ऑस्ट्रेलिया, भारत और अमेरिका में लॉन्च किया जाएगा।

सड़क प्रदूषण हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत खतरनाक है

राजमार्ग पर वाहन सल्फर डाइऑक्साइड, कार्बन मोनोऑक्साइड, नाइट्रोजन के ऑक्साइड, सीसा, पार्टिकुलेट मैटर जैसे प्रदूषणकारी गैसों और कणों का उत्सर्जन करते हैं। इनके अलावा विशेष रासायनिक अभिक्रिया से भी ओजोन बनता है। ये सभी हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत हानिकारक हैं।

सल्फर डाइऑक्साइड (SO2): हवा में इस रंगहीन गैस की थोड़ी मात्रा जो अस्थमा रोगियों के लिए बहुत खतरनाक है, अस्थमा के रोगियों की फेफड़ों की क्षमता को बहुत कम कर सकती है। सीने में जकड़न और उच्च खांसी भी उत्पन्न हो सकती है। स्वास्थ्य इतना खराब हो सकता है कि चिकित्सा सहायता की आवश्यकता हो सकती है। धूल के साथ संयुक्त सल्फर डाइऑक्साइड का प्रदूषण अधिक खतरनाक हो जाता है।

कार्बन मोनोऑक्साइड (CO): यह एक रंगहीन, गंधहीन और बेस्वाद गैस है जो हृदय और मस्तिष्क की ऑक्सीजन की आपूर्ति को प्रभावित करती है। यह गैस रक्तप्रवाह के माध्यम से शरीर में ऑक्सीजन की आपूर्ति को रोक देती है। यह दिल और दिमाग को सबसे ज्यादा प्रभावित करता है। खासकर दिल के मरीजों के लिए खतरनाक। 

नाइट्रोजन के ऑक्साइड (NO, NO2): फ्लू से लड़ने की क्षमता नाइट्रोजन और ऑक्साइड जैसे नाइट्रोजन ऑक्साइड (NO), नाइट्रोजन डाइऑक्साइड (NO2) बनाने के लिए बहुत अधिक तापमान पर दहन के दौरान हवा और ईंधन में मौजूद नाइट्रोजन के ऑक्सीकरण को खत्म करने की क्षमता। । NO2 फेफड़ों में इन्फ्लूएंजा जैसे संक्रमणों से लड़ने की क्षमता कम कर देता है। इन गैसों के लंबे समय तक संपर्क में रहने से बच्चों में तीव्र श्वसन संबंधी बीमारी (अस्थमा) की संभावना बढ़ जाती है।

सीसा यानी (पब): बच्चों के मानसिक विकास को रोकता है छोटी मात्रा में सीसा भी नवजात बच्चों और बच्चों के लिए बहुत हानिकारक होता है। इससे उनका मानसिक विकास रुक सकता है। मस्तिष्क चारों ओर देखने की क्षमता के साथ क्षतिग्रस्त है। स्मृति के साथ ध्यान करने की उनकी क्षमता भी कमजोर हो सकती है।

पार्टिकुलेट मैटर: धूल के बहुत छोटे कण, दिल पर प्रदूषण, फेफड़ों में सूजन और प्रदूषण को पार्टिकुलेट कहा जाता है। ये कण बहुत आसानी से फेफड़ों में गहराई तक चले जाते हैं। ये फेफड़ों में संक्रमण और सूजन पैदा कर सकते हैं। दिल और फेफड़ों के रोग वाले लोग

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *