AIR INDIA का ‘महाराज’ पाक बिजनेसमैन से इंस्पायर: न्यूडिटी का लगा था आरोप, पेरिस की फोटो से मचा था संसद में बवाल, देखिए कैसा रहा एयर इंडिया का 75 साल का सफर Read it later

 

AIR INDIA का 'महाराज' पाक बिजनेसमैन से इंस्पायर

AIR INDIA 69 साल बाद फिर टाटा का हो गया। टाटा संस ने एयर इंडिया को भारत सरकार से 18,000 करोड़ रुपये में खरीदा है। बता दे एयर इंडिया की शुरुआत 1932 में टाटा ग्रुप के चेयरमैन जेआरडी टाटा ने की थी। एयर इंडिया की कमान संभालने वाली टाटा बोर्ड की नई टीम द्वारा जारी आधिकारिक तस्वीर की पृष्ठभूमि में आप एयर इंडिया के लोगो के साथ महाराजा की तस्वीर देख सकते हैं। क्या आप इस महाराजा की यात्रा जानना चाहेंगे?

75 साल से एयर इंडिया की पहचान

75 साल से एयर इंडिया की पहचान


ट्रैवल मैस्कॉट महाराजा 75 से अधिक वर्षों से पूरी दुनिया में AIR INDIA को रिप्रजेंट कर रहे हैं।  भव्य लाल शेरवानी पोशाक, बड़ी मूंछें, लंबी नुकीली नाक, सिर पर शाही पगड़ी, झुकी हुई पलकें और चेहरे पर एक शरारत से भरी मुस्कान। 

75 साल से एयर इंडिया की पहचान

एयर इंडिया द्वारा जारी सभी प्रमुख विज्ञापनों में महाराजा की उपस्थिति हमेशा से रही है। टाटा संस के अधिग्रहण के बाद एक बार फिर कंपनी की बोर्ड टीम ने महाराजा को अपनी एयरलाइंस की अमिट पहचान के रूप में पेश किया है।

पाकिस्तानी बिजनेस से इंस्पायर था एयर इंडिया के लोगो के साथ चित्र 

महाराजा का विचार एक पाकिस्तानी बिजनेसमैन से आया था। वह बाद में पाकिस्तान के बनने के बाद वहां के सबसे बड़े उद्योगपति बने। हुआ यूं कि 1946 के दशक में टाटा एयरलाइंस को एयर इंडिया को रीब्रांड करने की जरूरत महसूस होन लगी।  

एस. के. कूका उर्फ ​​बॉबी कूका
एस. के. कूका उर्फ ​​बॉबी कूका

उस समय एस. के. कूका उर्फ ​​बॉबी कूका कंपनी के सेक्रेटरी थे, कूका जेआरडी टाटा के भी अच्छे दोस्त थे। कूका ने महसूस किया कि इन-फ्लाइट कम्युनिकेशन के लिए एक मज़ेदार और फनी मैस्कॉट को इजाद करना चाहिए।

 

कूका जेआरडी टाटा के भी अच्छे दोस्त थे
कूका जेआरडी टाटा के भी अच्छे दोस्त थे

हालाँकि भारत राजाओं और राजकुमारों का देश रहा है, कूका और टाटा के एक दोस्त थे, वाजिद अली जो लाहौर में निवास करते थे। वे बहुत बड़े बिजनेसमैन थे। संयोग था कि वो उसी समय मुंबई में उनके पास शायद टिकट बुकिंग के सिलसिले में आए थे। 

सैयद वाजिद अली
सैयद वाजिद अली

उन सैयद वाजिद अली की छवि कूका के दिमाग में आई, क्योंकि वाजिद अली भी हमेशा एक पारंपरिक पगड़ी पहनते थे और उनकी पूरी लंबी मूंछें थीं। 

जो उनके चेहरे पर रोबदार लगती थी वो खास स्टाइल में तुर्रीदार पगड़ी भी पहना करते थे। उनकी लाइफ स्टाइल भी उतनी ही खास थी। बाद में वो लंबे समय तक पाकिस्तान ओलंपिक संघ के अध्यक्ष भी बने रहे। पाकिस्तान में उनके पास कई फैक्ट्रियां थीं।

उमेश ने महाराजा का स्केच तैयार किया
इस प्रकार उमेश ने महाराजा का स्केच तैयार किया।

बॉबी कूका ने एक बड़ी एड एजेंसी के आर्टिस्ट और दोस्त उमेश राव के साथ मिलकर इस पर डिस्कस किया। उनके दिमाग में आया कि ये ऐसा हो जो रॉयल हो, दोस्ताना, पैसेंजर फ्रेंडली और घुमक्कड़ हो। उन्हें लग रहा था कि मस्कट इंडियन महाराजा जैसा होना चाहिए। इस प्रकार उमेश ने महाराजा का स्केच तैयार किया। 

जैसे ही स्केच तैयार हुआ, मामला सुलझ गया और ब्रांडिंग का नामकरण भी ‘महाराजा’ कर दिया गया। इसे 1946 में लॉन्च किया गया था और उसके बाद महाराजा और एयर इंडिया एक दूसरे के पर्याय बन गए।

हमेशा नॉटी विज्ञापनों को लेकर चर्चा में रहा एयर इंडिया के महाराजा का विज्ञापन

उमेश ने महाराजा का स्केच तैयार किया
सिडनी के बॉन्डी बीच पर महाराजा के रूप में एक बिकिनी गर्ल्स को दूरबीन से देखते हुए (बाएं) और ‘प्लेबॉय’ बनकर न्यूयॉर्क में मेहमानों को ड्रिंक परोसते हुए महाराजा।

फ्लैशबैक में जाने पर आप देखेंगे कि महाराजा के ज्यादातर विज्ञापन शरारतों से भरे होते हैं। न्यूयॉर्क के एक विज्ञापन में महाराजा को फेमस मैग्जिन ‘प्लेबॉय’ की प्लेगर्ल बनी (Bunny) के रूप में दिखाया गया था। इसमें महाराजा सिंगल पीस बिकिनी में मेहमानों को ड्रिंक्स परोसते नजर आ रहे हैं। इन विज्ञापनों को लेकर भी बहुत हंगामा हुआ था। इस विज्ञापन को लेकर कहा गया था कि ये अश्लीलता तो बढ़ावा देने वाला एड है। 

महाराजा के कारण जब संसद में हुआ था हंगामा 

महाराजा के कारण जब संसद में हुआ था हंगामा
इस ऐड की गूंज संसद तक पहुंच गई थी, जिसके बाद कंपनी को माफी मांगनी पड़ी थी।

पेरिस में एक मशहूर डांस क्लब ‘क्रेजी हॉर्स क्लब’ के नाम से है। यह क्लब अपने दौर में सबसे मशहूर हुआ करता था क्योंकि यहां न्यूड गर्ल्स डांस करती थीं। यहां भी एयर इंडिया ने महाराजा का राजसी अंदाज दिखाने के लिए एक विज्ञापन जारी किया था। इस विज्ञापन में लड़कियों के न्यूड पैरों के स्केच से ‘पेरिस’ लिखा गया था।

इसमें लिखे पेरिस के ‘I’ पर बिंदी की जगह महाराजा की पगड़ी दिखाई गई थी। इसी कारण विज्ञापन की वजह से भारतीय संसद में बवाल हो गया। संसद में कहा गया कि इस तरह का विज्ञापन प्रदर्शित करना पूरे भारत का अपमान है। जब इस विवाद ने तूल पकड़ा तो कंपनी ने अपनी गलती सुधारते हुए ‘I’ के ऊपर से पगड़ी हटाकर सामान्य बिंदी लगा दी।

बिकिनी गर्ल वाला ऑस्ट्रेलिया का एड पर भी हुआ था विवाद

बिकिनी गर्ल वाला ऑस्ट्रेलिया का एड पर भी हुआ था विवाद
सिडनी और पेरिस की फ्लाइट शुरू करते समय जारी किए गए विज्ञापन।

जब एयर इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया के लिए अपनी उड़न सेवा शुरू की, तो सिडनी के प्रसिद्ध बौंडी बीच पर महाराजा को एक लाइफगार्ड के रूप में प्रदर्शति ​किया गया। इस एड में महाराजा समुद्र तट पर बिकिनी गर्ल्स को दूरबीन से नहाते हुए निहारते नजर आ रहे हैं। 

सिडनी के एक अन्य ऐड में महाराजा समुद्र तट पर मत्स्य कन्या यानि मरमेड से सनस्क्रीन लोश लगवाते दिखाई दिए हैं। वहीं पेरिस की सेवा शुरू करते समय के विज्ञापन में महाराजा सड़क किनारे खड़े दिखाई दे रहे हैं और उनके हाफ खुले कोटमें कुछ न्यूड फोटो के साथ वे लोगों से तस्वीरें देखने का आग्रह करते दिखाई दिए हैं। इस विज्ञापन पर भी काफी हंगामा मचा था। 

जिस देश में भी एयर इंडिया की फ्लाइट शुरू होती महाराजा वैसा उसी देश से जुड़ा रूप धारण कर लेते 

जिस देश में भी एयर इंडिया की फ्लाइट शुरू होती महाराजा वैसा उसी देश से जुड़ा रूप धारण कर लेते
रोम और जापान की फ्लाइट शुरू करते समय जारी किए गए विज्ञापन।

 धीरे-धीरे एयर इंडिया का नेटवर्क बढ़ने लगा और उसने पेरिस, न्यूयॉर्क, रोम, केन्या, सिडनी, स्विटजरलैंड, जिनेवा, लंदन, काहिरा (मिस्र) आदि देशों के लिए अपनी उड़ानें शुरू कीं। जिस देश के लिए उड़ान शुरू होती उसी को ध्यान में रखते हुए महाराजा की गेटअप भी वैसा ही हो जाता था। जाएगी। 

Air India | Air India mascot Inspiration From Pakistani Businessman | Air India ‘Maharaja’s Tumultuous Journey | 

Was This Article Helpful?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *