महंत नरेंद्र गिरी की मौत: SIT ने दागे 13 घंटे में 70 सवाल, आनंद गिरि बस खुद को बेकसूर बताता रहा, योगी सरकार की CBI जांच की सिफारिश

SIT ने दागे 13 घंटे में 70 सवाल, आनंद गिरि बस खुद को बेकसूर बताता रहा
कोर्ट में ले जाया गया आनंद गिरि

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की ​संदिग्ध मौत के बाद नामजद उनके शिष्य आनंद गिरी से एसआईटी ने 13 घंटे के अंदर 70 सवाल पूछे हैं। इसके बाद आनंद को हनुमान मंदिर के मुख्य पुजारी आद्या तिवारी और उनके बेटे संदीप तिवारी के सामने बिठा कर करीब ढाई घंटे पूछताछ की गई। इस दौरान तीनों से पूछताछ की गई। 

इस दौरान तीनों एक ही बात दोहराते रहे कि सुसाइड नोट महंत नरेंद्र गिरीजी ने नहीं लिखा है। तर्क ये दिया कि महंत इतना लिख ​​भी नहीं पाते हैं। पूछताछ में तीनों ने यह भी माना कि महंत से उनके मतभेद थे, लेकिन उनकी मौत के पीछे कोई गहरी साजिश है। घंटों पूछताछ के दौरान आनंद गिरी बस यही कहता रहा कि ‘महंत जी आत्महत्या नहीं कर सकते, यह हत्या है। उनकी हत्या से किसी को फायदा हो रहा था, मैं नहीं जानता कि वह कौन है। 

उत्तर प्रदेश सरकार ने अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष और बाघंबरी अखाड़े के महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत की जांच सीबीआई से कराने की सिफारिश की है. राज्य सरकार ने ट्वीट कर यह जानकारी दी है।

प्रयागराज में अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महन्त नरेन्द्र गिरि जी की दुःखद मृत्यु से जुड़े प्रकरण की मा. मुख्यमंत्री जी के आदेश पर सी.बी.आई. से जाँच कराने की संस्तुति की गई l

— HOME DEPARTMENT UP (@homeupgov) September 22, 2021

 

मई के बाद से लेकर अब तक की घटनाओं के आधार पर पूछताछ

जिस पुलिस लाइन में आनंद से पूछताछ की जा रही है, वहां उसका सुरक्षा घेरा अभेद्य है। एसआईटी के सदस्यों के अलावा पुलिस विभाग के लोगों को भी पूछताछ स्थल की ओर जाने की अनुमति नहीं है। 

एसआईटी ने साल 2011 से 20 सितंबर 2021 तक आनंद गिरि और उनके गुरु महंत गिरी के संबंधों के बारे में पूछताछ की। इसमें भी एसआईटी का फोकस मई में शिक्षक और शिष्य के बीच हुए विवाद पर था।

एसआईटी ने आनंद के लैपटॉप की तलाशी ली। इसके अलावा उसके मोबाइल की कॉल डिटेल से जानकारी जुटाई गई है कि हाल ही में जब वह उत्तराखंड गया था, तो श्री मठ, बाघंबरी गद्दी और प्रयागराज में अन्य किन लोगों के संपर्क में रह रहा था। 

उसने आध्या और संदीप से कब बात की? आनंद के पास कौन सा वीडियो था, जिसे लेकर महंत नरेंद्र गिरि नाराज हो गए थे।

रोया, मिन्नत की और कहा- मैं निर्दोष हूं

एसआईटी में शामिल एक अधिकारी ने बताया कि मंगलवार शाम से ही आनंद से पूछताछ शुरू हो गई थी. वह पलट कर खुद को निर्दोष साबित करने की कोशिश करता रहा। उसने कहा कि मई के महीने में गुरुजी और उनके बीच जो अनबन हुई थी वह अब समाप्त हो गई है। गुरुजी का कथित सुसाइड नोट नकली है। वह गुरुजी के सबसे प्रिय शिष्यों में से एक था। साथ ही वह रोने लगा और बार-बार भीख मांगने लगा कि उसका भविष्य बर्बाद हो जाएगा।

मतभेद बने रहते हैं, हम उनका बुरा नहीं चाहते थे

लेटे हनुमान मंदिर के मुख्य पुजारी आद्या तिवारी और उनके बेटे संदीप ने एसआईटी को बताया कि जब हम किसी के साथ नियमित संपर्क में होते हैं, तो मतभेद होते हैं। 

हम महंत जी को नुकसान नहीं पहुंचाना चाहते थे। वे बहुत प्रसिद्ध व्यक्तित्व थे। हमारी उनसे कोई तुलना नहीं है। सुसाइड नोट दिखाने पर दोनों ने कहा कि यह महंत जी ने नहीं लिखा है। दोनों को फंसाने के लिए जानबूझकर यह साजिश रची गई है।

आनंद गिरि को दिखाया सुसाइड नोट

 पूछताछ के दौरान महंत नरेंद्र गिरि के कमरे से बरामद 13 पेज का सुसाइड नोट भी आनंद गिरी को दिखाया गया। नरेंद्र गिरि की लिखावट की पहचान कराने का प्रयास किया गया, लेकिन आनंद गिरी कहता रहा कि यह लिखावट नरेंद्र गिरी की नहीं हो सकती. आनंद गिरी का कहना है कि वह न तो सुसाइड कर सकते हैं और न ही सुसाइड नोट लिख सकते हैं।

मठ के उत्तराधिकार के विवाद पर सवाल

मठ के उत्तराधिकार को लेकर आनंद गिरि और नरेंद्र गिरि के बीच हुए विवाद पर भी सवालों के जवाब दिए गए। विवाद के सवाल पर आनंद गिरी ने कहा कि ‘मैं बड़े हनुमान जी के मंदिर में तब तक नहीं गया जब तक कि महंत जी के कहने के बाद उन्होंने मुझे माफ नहीं कर दिया। आनंद गिरी ने कबूल किया कि हाल ही में मेरा महंत जी से कोई विवाद नहीं था, महंत जी भी कभी परेशान नहीं लगे।

मठ के उत्तराधिकार के विवाद पर सवाल
कोर्ट से आनंद गिरि को वापस ले जाती टीम।

उधर, समाधि प्रक्रिया के बाद नरेंद्र गिरि के सुसाइड नोट में घोषित उत्तराधिकारी बलवीर से पूछताछ शुरू हो गई है। मठ के अंदर ही एसआईटी पहुंच गई है। एसपी, डीएम भी साथ हैं। दरअसल, कल तक खुद को गद्दी का अगला वारिस बता रहे बलवीर ने अपने इस बयान से मुंह मोड़ लिया। 

अब उनका कहना है कि उत्तराधिकारी कौन होगा, इसका फैसला पंच परमेश्वर करेंगे। इससे पहले बलवीर कह रहे थे कि सुसाइड लेटर में गुरुजी नरेंद्र गिरी की लिखावट है। और मैं उत्तराधिकारी बनने के लिए तैयार हूं। अब कह रहे हैं कि मैं उनके लेखन को नहीं पहचानता।

पोस्टमार्टम के बाद महंत के शव को प्रयागराज शहर ले जाकर संगम पर गंगा में स्नान कराया गया. फिर शव को लेटे हुए हनुमान मंदिर ले जाया गया। नरेंद्र गिरि इस मंदिर के महंत थे और प्रतिदिन एक बार मठ से मंदिर जाते थे। फिर बाघंबरी मठ में ही भूमि समाधि देने की प्रक्रिया का अंतिम चरण शुरू किया गया। वैदिक मंत्रोच्चार व शिव उद्घोषणा की गई। फूल के साथ मिट्टी डाली गई थी। इस दौरान 13 अखाड़ों के साधु-संत मौजूद रहे। अंत में शुद्धिकरण की प्रक्रिया शुरू हुई।

अंतिम प्रक्रिया में समाधि में एक क्विंटल फूल, एक क्विंटल दूध, एक क्विंटल पंच नट, मक्खन सहित 16 चीजें डाली गईं। अंतिम प्रक्रिया को भी कुछ समय के लिए एक स्क्रीन के साथ कवर किया गया था। मीडिया को इससे दूर रखा गया। संतों ने बताया कि यह एक गुप्त प्रक्रिया है, इसलिए ऐसा किया गया।

Uttar pradesh | Mahant Narendra Giri Death Mystery | Mahant Narendra Giri Death | Sevadar Sarvesh Kumar Dwivedi | Anand Giri | SIT | CBI 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *