History Of Uttar pradesh Politics: 50 साल में यूपी ने राजनीति में कई उतार चढ़ाव देखे, पार्टियों ने हासिल किए अल्पमत से लेकर प्रचंड बहुमत‚ जानिए उत्तरप्रदेश की सियासतगिरी

History Of Uttar pradesh Politics
Image credit | Indian Express Archive

उत्तर प्रदेश ने पिछले 50 सालों में राजनीति में कई उतार-चढ़ाव देखे हैं। (History Of Uttar pradesh Politics) कांग्रेस के प्रभुत्व से लेकर भाजपा के भारी बहुमत के साथ सत्ता में आने तक राजनीति के कई चेहरे नजर आए। 2017 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने 325 वोट हासिल कर ऐतिहासिक जीत हासिल की थी. वहीं, सपा-कांग्रेस गठबंधन को 54 और बसपा को 19 सीटें मिली हैं।

आइए जानते हैं कैसे बदलती गई साल दर साल उत्तर प्रदेश की सियासत-

1967 में राज्य की पहली गैर-कांग्रेसी सरकार

1967 का वर्ष उत्तर प्रदेश की राजनीति के इतिहास में बहुत महत्वपूर्ण था। देश की आजादी के बाद 1967 में राज्य में सत्ताधारी दल कांग्रेस में बगावत हो गई थी। तत्कालीन किसान नेता चौधरी चरण सिंह ने कांग्रेस पार्टी से नाता तोड़ लिया और भारतीय क्रांति दल पार्टी का गठन किया। 

चौधरी चरण सिंह ने 3 अप्रैल 1967 को पहली बार राज्य में गैर-कांग्रेसी सरकार बनाई। यह सरकार 328 दिनों तक चली।

 

चौधरी चरण सिंह ने 3 अप्रैल 1967 को पहली बार राज्य में गैर-कांग्रेसी सरकार बनाई
Image credit | Indian Express Archive

1977 में यूपी में कांग्रेस पार्टी पहली बार हारी

1975 में कांग्रेस ने पूरे देश में आपातकाल की घोषणा कर दी। इसके विरोध में यूपी में तीन दशक बाद पहली बार कांग्रेस को यूपी चुनाव में हार का सामना करना पड़ा। 

1967 में चौधरी चरण सिंह ने गैर-कांग्रेसी सरकार बनाने के लिए कांग्रेस छोड़ दी थी। इसके बाद कांग्रेस फिर वापस आ गई। लेकिन 1977 में कांग्रेस जनता पार्टी से हार गई। इसके बाद राम नरेश यादव ने जनता पार्टी की सरकार बनाई।

1985 कांग्रेस की आखिरी जीत

1984 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस ने इंदिरा गांधी की हत्या के बाद सहानुभूति के कारण 51 वोट हासिल किए लेकिन 1985 के विधानसभा चुनावों में ये वोट शेयर घटकर 39 रहा और कांग्रेस ने 269 सीटें जीतकर सरकार बनाई। यह यूपी में कांग्रेस की आखिरी जीत थी।

 

मुलायम सिंह यादव 1989 में मुख्यमंत्री बने

बोफोर्स घोटाले पर विवाद, 1989 में कांग्रेस पार्टी ने जनता दल के नेतृत्व वाली राष्ट्रीय मोर्चा सरकार का नेतृत्व किया। जनता दल सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरा और भाजपा के समर्थन से सरकार बनाई। इसके बाद 5 दिसंबर 1989 को मुलायम सिंह यादव मुख्यमंत्री बने।

1991 में यूपी की पहली भाजपा सरकार

1990 में, राम मंदिर आंदोलन के दौरान अयोध्या में बाबरी मस्जिद को ध्वस्त करने की धमकी देने वाले कार सेवकों पर कारसेवकों द्वारा गोली चलाने के बाद भाजपा ने मुलायम सिंह यादव सरकार से समर्थन वापस ले लिया। 

इसके बाद कांग्रेस के समर्थन से मुलायम सिंह यादव की सरकार बनी। 1991 के मध्यावधि चुनाव में भाजपा ने जीत हासिल की। इस तरह भाजपा के मुख्यमंत्री रहते हुए कल्याण सिंह ने पूर्ण बहुमत से सरकार बनाई।

1993 में सपा-बसपा गठबंधन

1992 में कल्याण सिंह के नेतृत्व में बाबरी मस्जिद के विध्वंस के बाद भाजपा सरकार को बर्खास्त कर दिया गया था। इसके बाद मुलायम सिंह यादव और कांशीराम के नेतृत्व में सपा-बसपा गठबंधन बना। 

1993 में हुए चुनावों में पिछड़े, दलितों और मुसलमानों की मदद से नई सरकार बनी। 4 दिसंबर 1993 को मुलायम सिंह यादव फिर से राज्य के मुख्यमंत्री बने।

 

1995 में राज्य की पहली महिला दलित मुख्यमंत्री

गेस्ट हाउस की घटना हुई। इसमें मायावती को मारने की कोशिश की गई। इसके बाद राज्य में सपा-बसपा का गठबंधन टूट गया। मायावती 3 जून 1995 को भाजपा के समर्थन से उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री बनीं। मायावती राज्य की पहली दलित मुख्यमंत्री बनीं।

1996 में रोटेशन मुख्यमंत्री की पहल

मार्च 1997 में, बसपा और भाजपा ने मिलकर राजनीति के एक नए युग की शुरुआत की। ऐसा गठबंधन हुआ जिसमें बारी-बारी से सीएम बनाने का समझौता हुआ। दोनों दल छह-छह महीने के लिए बारी-बारी से मुख्यमंत्री का पद साझा करने पर सहमत हुए।

1997 मायावती ने भाजपा को धोखा दिया

रोटेशन की सरकार में छह महीने तक मुख्यमंत्री रहने के बाद मायावती ने नाम वापस ले लिया। इसके बाद कल्याण सिंह मुख्यमंत्री बने। लेकिन दो महीने के भीतर ही मायावती ने कल्याण सिंह की सरकार से दिया गया समर्थन वापस ले लिया।

1998: राज्य में एक समय में दो मुख्यमंत्री

जगदंबिका पाल ने 21 फरवरी 1998 को मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली। जगदंबिका पाल को मायावती और मुलायम सिंह यादव दोनों का समर्थन प्राप्त था लेकिन उच्च न्यायालय ने कल्याण सिंह सरकार को 48 घंटे के भीतर बहाल करने का आदेश दिया। 23 फरवरी को एक स्थिति ऐसी थी जब जगदंबिका पाल और कल्याण सिंह दोनों मुख्यमंत्री होने का दावा करने वाले सचिवालय में बैठे थे।

2003 मुलायम की अल्पमत सरकार

2003 में तीसरी बार मायावती की सरकार बनी। लेकिन 2003 में बीजेपी ने बसपा से समर्थन वापस ले लिया। इसके बाद मुलायम सिंह यादव ने अल्पमत की सरकार बनाई।

2007 में 22 साल बाद बहुमत की सरकार

2007 में राज्य में अयाराम गयाराम का युग समाप्त हो गया। और मायावती के नेतृत्व में राज्य में पूर्ण बहुमत के साथ सरकार बनी। तब बसपा को राज्य में 206 सीटें मिली थीं.

2012 अखिलेश बने सीएम

2012 के चुनावों में, मुलायम सिंह यादव की समाजवादी पार्टी ने मायावती के खिलाफ शानदार जीत हासिल की। इसके बाद अखिलेश यादव मुख्यमंत्री बने।

2017 भाजपा प्रचंड बहुमत के साथ लौटी

2017 के चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष की जोड़ी

History Of Uttar pradesh Politics | A political history of Uttar Pradesh | 

Like and Follow us on :

Telegram  Facebook  Instagram  Twitter  Pinterest  Linkedin

Was This Article Helpful?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *