नशे की कीमत पर जिस्म का सौदा: अहमदाबाद में प्रतिष्ठित घरानों की 48 युवतियां ड्रग्स की गिरफ्त से छुड़ाई, पैसे नहीं दे पा रहीं थी तो पैडलर्स वसूली के लिए भेज रहे थे होटलों में

नशे की कीमत पर जिस्म का सौदा

ड्रग्स की लत से जूझ रही युवा पीढ़ी को सही रास्ता दिखाने के लिए गुजरात की अहमदाबाद पुलिस ने इनिशिएटिव लिया है। इसके तहत 48 लड़कियों को नशे के जाल से निकाला गया। इसके बाद उनसे चौंकाने वाली जानकारी सामने आई है। 

हैरानी की बात ये है कि ज्यादातर लड़कियां बड़े और प्रतिष्ठित घरानों से हैं और काफी पढ़ी-लिखी भी हैं। नशे की आदत ने उन्हें शारीरिक संबंध बनाने के लिए विवश कर दिया। ऐसी ही एक लड़की ने बताया कि कैसे वह नशे के दलदल में फंसकर उसमें धंसती चली गई। जानिए ऐसी पीड़ित लड़कियों कहानी।

दरअसल पुलिस ने जुलाई साल 2020 में अहमदाबाद के होटल मार्वल में छापा मारा था। यहां 20 साल की लड़की मिली, जिसकी शादी हो चुकी थी। पुलिस ने बताया कि वह एक अच्छे परिवार की लड़की थी। उसने पुलिस को बताया कि नशे का बड़ा कारोबार करने वाले पहले बड़े और संभ्रात घर की लड़कियों को नशे के जाल में फंसाते हैं। इसके बाद जब लड़की को नशे की बेहद लत लग जाती है तो उसे पैसे चुकाने के लिए अपने जिस्म का सौदा तक करने के लिए मजबूर किया जाता है। वहीं नशे की लत होने के कारण लड़कियों को भी ड्रग पैडलर्स की बात माननी पड़ती है।

इंजेक्शन से छलनी हो चुके हाथ छिपाने की कोशिश

चौंकाने वाली बात ये है कि आप बीती बताने वाली लड़की पुलिसकर्मियों  से अपने हाथ छिपाने की कोशिश कर रही थी। दरअसल, नशे के इंजेक्शन लेने की वजह से उसके हाथों व बॉडी के अन्य हिस्सों पर निशान बन चुके थे। लड़की उन्हीं निशान को छिपाने की कोशिश कर रही थी। लड़की ने पुलिस से अंग्रेजी में कॉन्वर्सेशन किया। उसने बताया कि वह एक नामी साइंस कॉलेज में पढ़ रही है, लेकिन नशे की लत के चलते वह इस दल दल में फंस गई।

हाई प्रोफाइल पार्टी में नशा करना स्टेटस सिंबल

पीड़ित लड़की ने पुलिस को बताया कि कुछ समय पहले वह एक दोस्त के साथ पार्टी में गई थी, पार्टी में कई अनजान लड़के भी शामिल हुए। लड़की ने बताया कि इस तरह की हाई प्रोफाइल पार्टी में नशे को एक स्टेटस सिंबल माना जाता है। पीड़िता ने कहा कि उसके साथ की अन्य लड़कियों ने नशा किया तो उसने भी उनके साथ नशा करने का कदम उठा लिया। इसके बाद उसे लत लग गई और ड्रग डीलर के संपर्क में आकर पूरी पॉकेट मनी ड्रग्स पर खर्च करने लगी। 

लड़की ने बताया कि कोरोनाकाल में जब उसके फादर का बिजनेस ठप हुआ तो पॉकेट मनी भी बंद हो गई। डीलर ने शुरू में मुफ्त में खुराक दी लेकिन बाद में उसने उधार देना बंद कर दिया।

पैडलर उसे ड्रग्स की एक खुराक देने से पहले उसे होटल ले जाता था और…

लड़की ने बताया कि उसने ड्रग डीलर से ड्रग्स मांगी और पैसे न होने की बात कही। इसके बाद ड्रग पैडलर ने होटल में जिस्म बेचने की बात कही। पैडलर ने कहा कि एक घंटे के लिए होटल जाओ और जो तुमसे कहा जाए करो। इसके बाद ड्रग पैडलर उसे ड्रग्स की एक खुराक देने से पहले उसे होटल ले जाता था और उसे जिस्म का धंधा करता था। 

जब लड़की के परिवार को इस बात का पता चला तो उन्होंने उसकी शादी कर दी। लेकिन, सिलसिला यहीं नहीं रुका। शादी के बाद भी, उसने नशे के लिए ड्रग्स पैडलर के साथ जिस्मफरोशी काम करना जारी रखा।

दूसरी घटना- ड्रग डीलर ने उसे सेक्सिज्म के बाजार में धकेला

अहमदाबाद की एक नामी कंपनी के मालिक की बेटी को नशे की आदत लग गई। शुरू में कोई दिक्कत नहीं हुई, लेकिन नशे लत लगने के कारण उसके पास पैसे नहीं बचते थे। जब पैडलर ने बिना पैसे के ड्रग्स देने से मना कर दिया तो लड़की उसके सामने मिन्नतें तक करने लगी। इसके बाद ड्रग डीलर ने उसे सेक्सिज्म के बाजार में धकेल दिया। इसके चलते पैडलर उसे पैसे के लिए होटलों में भेजने लगा और बदले में उसे नशे की डोज देने लगा।

लड़कियों को नशे के चंगुल से छुड़ाने के लिए पुलिस ने लिया इनिशि​एटिव

प्रतिष्ठि​त घरानों की लड़कियों की आपबीती जानने के बाद अहमदाबाद पुलिस ने एक धार्मिक पंथ की सहायता से लड़कियों का इलाज शुरू किया। नतीजा ये हुआ कि पुलिस अब तक ऐसी करीब 48 लड़कियों को नशे के चक्रव्यूह से निकाल चुकी है। अहमदाबाद पुलिस अब इस ड्रग कारोबार की जड़ तक पहुंचने के प्रयास कर रही है। इसकी प्लानिंग को लेकर गुजरात पुलिस के आला अधिकारियों से भी चर्चा हो चुकी है।

अहमदाबाद के डीसीपी चौहान की माने तो इन लड़कियों ने अपने जीवन को बेहतर बनाने का प्रयास किया है, जिसमें उन्हें काफी हद तक सफलता भी मिली है। उन्होंने कहा कि यदि ऐसे ही चंगुल में फंसी अन्य लड़कियां भी मदद चाहती है तो उन्हें हमसे संपर्क करना चाहिए। पुलिस उनकी पहचाना बताए बिना उनकी हैल्प करने के लिए तत्पर है।  

Gujarat Sex Trafficking And Drugs Case Update | MBA MSc Girls Including 48 Rescue In Ahmedabad | 

Was This Article Helpful?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *