Hijab Row: हिजाब पहनी लड़की के सामने लगे ‘जय श्री राम’ के नारे, जवाब में बोली अल्ला हू अकबर…, ओवैसी ने बताया बहादुर, पाक भी बना अब्दुल्ला ​दीवाना

हिजाब पहनी लड़की के सामने लगे 'जय श्री राम' के नारे, जवाब में बोली अल्ला हू अकबर

हिजाब विवाद ( Hijab Row) की आग मंगलवार को राज्यभर में फैल गई और कर्नाटक में कई जगहों पर विरोध प्रदर्शन शुरू हुए। कॉलेज परिसरों में पथराव की घटनाओं ने पुलिस को बल प्रयोग करने पर मजबूर कर दिया। कई जगह ‘टकराव जैसी’ स्थिति देखी गई। इस बीच सरकार और हाईकोर्ट ने शांति की अपील की।

हालांकि इस पूरे विवाद में हिजाब पहने एक लड़की फेमस हो हुई है। मामला मांड्या प्री-यूनिवर्सिटी कॉलेज का है। मंगलवार को यहां ‘जय श्री राम’ के नारे लगाने वाली भीड़ यहां हिजाब पहने छात्रा के पास पहुंचने लगी। छात्रा भी पीछे नहीं हटी और अल्लाह हू अकबर के नारे लगाकर जवाब देती रही। अब इस पूरी घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

कौन है ये छात्रा?

हिजाब पहने और अल्लाह हू अकबर के नारे लगाने वाली छात्रा का नाम मुस्कान है। एक टीवी को दिए इंटरव्यू में मुस्कान ने पूरा वाकया बताया। इंडिया टुडे से बात करते हुए मुस्कान ने कहा, “मैं एक कॉलेज असाइनमेंट के लिए आई थी। वे मुझे कॉलेज में प्रवेश नहीं करने दे रहे थे। क्योंकि मैंने बुर्का पहना हुआ था। 

वे मुझसे बुर्का हटाकर अंदर जाने के लिए कह रहे थे। जब मैं जब मैं गई तो वे युवक फिर जय श्रीराम, जय श्रीराम के नारे लगाने लगे। नारे लगाने वालों में कई कॉलेज के तो और कई बाहर के भी छात्र थे।

Truly shameful these hecklers are custodians of culture? pic.twitter.com/Nsc6DAk993

— Swati Chaturvedi (@bainjal) February 8, 2022

ओवैसी ने कहा बहादुर बच्ची और उनके वालिदान को सलाम पेश करता हूं…

AIMIM के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने लड़की को बहादुर बताते हुए कहा, “मैं लड़की के मां-बाप को सलाम पेश करता हूं। इस लड़की ने मिसाल पेश की है।” ओवैसी ने अपने वीडियो में कहा कि भीख मांगकर और रोकर कुछ भी नहीं मिलेगा। उन्होंने कहा कि उस लड़की ने कई कमजोरों को जवाब दे दिया है।

#AllahuAkbar pic.twitter.com/p2Eafbr9NK

— Asaduddin Owaisi (@asadowaisi) February 8, 2022

पाकिस्तान भी बेगानी शादी में अब्दुल्ला ​दीवाना की तरह कूदा

छात्रा का वीडियो वायरल होने के बाद पाकिस्तान से भी कई तरह के रिएक्शंस सामने आ रहे हैं। घटना के वीडियो को रीट्वीट करते हुए पाकिस्तान के जर्नलिस्ट हामिद मीर ने लिखा, ‘मार्टिन लुथर किंग ने एक बार कहा था- नफरत को नफरत से खत्म नहीं किया जा सकता, नफरत को केवल प्यार से खत्म किया जा सकता है।

इस दृश्य को देखिए..एक अकेली मुस्लिम लड़की को कट्टरपंथी हिंदुओं की एक बड़ी भीड़ परेशान कर रही है। अकेली लड़कियों को घेरकर नफरत को मत बढ़ाओ।’

Martin Luther King once said “hate cannot drive out hate ; only love can do that”. Look at this scene. lonely Muslim girl harassed by a big crowd of extremist Hindus. Don’t multiply hatred by sorrounding lonely girls. #girlpower #HateSpeech #HumanRights https://t.co/GNOa1QOrPj

— Hamid Mir (@HamidMirPAK) February 8, 2022

इसके अलावा अन्य कई पाकिस्तानी ट्विटर हैंडल पर लोगों ने अपनी प्रतिक्रियाएं दीं हैं। 

If a girl has decided that her modesty lies in covering her head, then no one has the right to rip off that head scarf. The #HijabRow is a modern day cheerharan by today’s Duryodhans of #NewIndia. Stop this abusive attack on #IndianMuslim women to serve ur #RightWing politics. pic.twitter.com/x23UscFgv7

— Sahar Zaman (@saharzaman) February 8, 2022

क्या है ये पूरा विवाद और कैसे इसकी शुरुआत हुई थी?

कर्नाटक में हिजाब को लेकर विवाद तब शुरू हुआ जब उडुपी में कुछ छात्राओं को हिजाब पहनने की वजह से क्लास में एंट्री नहीं दी गई थी। कॉलेज का कहना था कि यहां पर एक यूनिफॉर्म लागू है तो अलग ड्रेस पहनकर आने वाले लोगों को कॉलेज में बैठने की अनुमति नहीं दी जाएगी। 

मुस्लिम लड़कियों ने इसके खिलाफ हाई कोर्ट में याचिका दाखिल की। लड़कियों का तर्क है कि इस तरह से हिजाब नहीं पहनने देना मौलिक अधिकारों का हनन है और ये आर्टिकल 14 और 25 का उल्लंघन है। फिलहाल इस मामले की सुनवाई हाईकोर्ट में जारी है और इस पर कल भी जिरह जारी रहेगी।

Karnataka | Hijab Row | Karnataka News | National News In Hindi | Karnataka Hijab Row | 

Was This Article Helpful?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *