पर्यावरण को लेकर RSS चीफ मोहन भागवत ने कह दी ये बढ़ी बात

 

पर्यावरण को लेकर RSS चीफ मोहन भागवत ने कह दी ये बढ़ी बात
Image | ANI

हरिद्वार में चल रहे महाकुंभ में, RSS प्रमुख मोहन भागवत ने स्वयंसेवकों से पर्यावरण को बचाने के लिए एक अभियान शुरू करने को कहा। उन्होंने कहा कि पानी बचाओ, प्लास्टिक हटाओ और पेड़ लगाओ, इसे हमारी आदत में शुमार करना होगा। मोहन भागवत ने बिगड़ते पर्यावरण पर भी बात की। उन्होंने कहा कि पर्यावरण हमारी ओर से परंपराओं को छोड़ने के कारण बिगड़ा है।

आरएसएस प्रमुख ने कहा कि एक समय में हम प्रौद्योगिकी, व्यापार और कृषि में नंबर एक थे। इसके बाद भी यहां के पर्यावरण की समस्या कभी नहीं रही। हम यहां कम से कम छह हजार साल से खेती कर रहे हैं। लेकिन जब से रासायनिक खेती हुई है, हमारी जमीन खराब हो गई है।

बिगड़ते पर्यावरण के कारण बच्चों पर उल्टा असर – मोहन भागवत

बिगड़ते पर्यावरण के कारण दुनिया में कई समस्याएं हैं। मोहन भागवत ने कहा कि इसका असर बच्चों पर भी पड़ा है। प्रकृति बदल रही है। जहां कभी ठंड हुआ करती थी, वहां गर्मी पड़ रही है। इस संकट से कैसे निकला जाए, इसके लिए आपको प्रयास करना होगा। भागवत ने कहा, “हमारे पर्यावरण में बदलाव का कारण जानने के लिए यह बहुत महत्वपूर्ण है।” मोहन भागवत ने कहा कि अगर हम इसका कारण जान सकते हैं तो समाधान अपने आप सामने आ जाएगा। उन्होंने कहा कि संकट क्यों पैदा हुआ! जब तक इसके कारण का पता नहीं चल जाता, तब तक इसका उपाय नहीं खोजा जा सकता।

RSS चीफ मोहन भागवत
Image | ANI

प्रकृति के लिए हमें अपने व्यवहार में बदलाव लाना होगा – संघ प्रमुख

भागवत ने कार्यक्रम में कहा, ‘प्रकृति हमेशा से हमारी जरूरतों को पूरा करती रही है। संघ निदेशक ने कहा कि हमारे भीतर लालच इतना बढ़ गया है कि हमने इसका शोषण करना शुरू कर दिया। यह प्राकृति के साथ दगाबाजी है। उन्होंने कहा कि पर्यावरण को बचाने के लिए, हमें अपने सामान्य व्यवहार को बदलना होगा। “शायद हम इस बात को नहीं समझते कि क्या उपलब्ध है। पर्यावरण को जाटान से मुक्त रखने की आवश्यकता है।”

मोहन भागवत ने कहा कि कोरोना युग में, जब हमने सब कुछ रोक दिया, तो पर्यावरण में भी बहुत बदलाव आया। अधिकांश प्रदूषणकारी कंपनियां बंद हो गईं, इसका कितना असर दिखा। कोरोना एक बार फिर बढ़ रहा है। सतर्क रहने की जरूरत है।

Like and Follow us on :

Facebook

Instagram
Twitter
Pinterest
Linkedin
Bloglovin

Was This Article Helpful?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *