बंगाल के लिए भाजपा का संकल्प पत्र सोनार बांग्ला : सरकारी नौकरियों में महिलाओं को 33% आरक्षण, मछुआरों को हर साल 6 हजार रुपये और बंगाल में 3 नए एम्स Read it later

बंगाल के लिए भाजपा का घोषणापत्र
Image  ANI

बंगाल में विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा ने अपना घोषणा पत्र जारी कर दिया है। पार्टी ने इसे सोनार बांग्ला संकल्प पत्र कहा है। सरकारी नौकरियों में महिलाओं के लिए 33% आरक्षण, मछुआरों को हर साल 6 हजार रुपये, केजी से पीजी तक की महिलाओं के लिए मुफ्त शिक्षा और उत्तर बंगाल में तीन नए एम्स, जंगल महल और सुंदरबन की बात की गई है। साथ ही, इन स्थानों पर प्रत्येक परिवार में एक सदस्य को रोजगार देने का भी वादा किया गया है।

बंगाल के लिए भाजपा का घोषणापत्र
Image  ANI

कोलकाता में ईस्टर्न जोनल कल्चरल सेंटर (ईज़ीसीसी) में घोषणापत्र जारी करते हुए शाह ने कहा, ‘हर धर्म के त्योहार को पूरे देश में मनाया जाना चाहिए। सरस्वती और दुर्गा पूजा के लिए कोर्ट की आवश्यकता नहीं होगी। 70 साल से यहां बसने वाले शरणार्थियों को पहली कैबिनेट में सीएए लागू करके नागरिकता दी जाएगी। हर परिवार को सालाना 10 हजार रुपये दिए जाएंगे। ओबीसी में कुछ और समुदाय जोड़ेंगे। किसान सम्मान निधि में 75 हजार किसानों को उनके खाते में एक साथ 18 हजार रुपये बिना किसी तबाही के दिए जाएंगे। केंद्र सरकार किसान सम्मान निधि में 6 हजार और राज्य सरकार 4 हजार रुपये देगी।

बंगाल के लिए भाजपा का घोषणापत्र
Image  ANI

भाजपा के घोषणा पत्र की मुख्य बातें

सभी सरकारी कर्मचारियों को 7 वें वेतनमान का लाभ दिया जाएगा।

सीएमओ के तहत एक भ्रष्टाचार विरोधी प्रणाली होगी। लोग सीधे सीएम से शिकायत कर सकेंगे।

दलित और पिछड़े वर्ग के छात्रों को मदद दी जाएगी। 6 वीं कक्षा में 3 हजार, 9 वीं में 5 हजार रुपये।

विधवा पेंशन 3 हजार रुपये प्रति माह होगी।

5 हज़ार करोड़ का हस्तक्षेप कोष होगा, जहाँ से किसानों की उपज खरीदी जाएगी।

भूमिहीन किसानों और मछुआरों को 3 लाख रुपये का बीमा दिया जाएगा। किसान उन्हें कार्ड के बदले रुपे कार्ड देंगे।

दुग्ध प्रसंस्करण इकाइयों की स्थापना अमूल के सहयोग से की जाएगी, ऐसी 5 मेगा इकाइयाँ बनाई जाएंगी।

मुर्शिदाबाद में अनुसंधान केंद्र स्थापित किया जाए। स्वास्थ्य क्षेत्र में 10 हजार करोड़ से कादम्बिनी हेल्थ फंड की स्थापना की जाएगी। 900 नई 108 एंबुलेंस लाई जाएंगी।

वन नेशन वन हेल्थ आईडी लॉन्च की जाएगी।

नेताजी सुभाष चंद बोस बीपीओ हर ब्लॉक में शुरू किए जाएंगे।

5 संस्थान IIT की तर्ज पर बनाए जाएंगे।

सभी नौकरियों के लिए एक सामान्य प्रणाली होगी।

2 हजार का खेल कोष बनाया जाएगा, हर साल खेले जाएंगे बंगला महाकुंभ

जिन्होंने भ्रष्टाचार किया, वे कानून के समक्ष खड़े होंगे।

सामुदायिक और राजनीतिक हिंसा, रेत माफिया, गाय तस्करी के खिलाफ एक तंत्र बनाया जाएगा।

राजनीतिक हिंसा से पीड़ित हर परिवार को 25 लाख मुआवजा, मामलों की जांच करेगी SIT

सोनार बांग्ला केवल एक घोषणा नहीं है, बल्कि एक संकल्प है

शाह ने कहा, ‘भाजपा ने हमेशा घोषणा पत्र को महत्वपूर्ण स्थान दिया है। कई वर्षों के लिए, संकल्प पत्र केवल एक प्रक्रिया थी। भाजपा की सरकारें बनने के बाद सरकारें संकल्प पत्र पर चलने लगी हैं। हमने पूरी प्रक्रिया को गंभीरता दी है। इसलिए, घोषणा के बजाय, संकल्प पत्र कहना शुरू किया। हम सोनार बंगला कैसे बनाते हैं यह केवल एक घोषणा नहीं है, यह एक संकल्प है।

शाह ने कहा- बंगाल ने देश का नेतृत्व किया

घोषणापत्र जारी करते हुए, शाह ने कहा, “आज के प्रगतिशील भारत की नींव कल के बंगाल में रखी गई थी। यहीं पर वंदे मातरम मिला था, यहीं जन गण मन मिला था। यहीं से सशस्त्र क्रांति की शुरुआत हुई। स्वामी विवेकानंद के लिए महान व्यक्ति चेतना का मार्ग प्रशस्त किया। जब देश को कुरीतियों में जकड़ा गया, बंगाल के बेटों ने सामाजिक सुधारों की शुरुआत की। बंगाल ने स्वतंत्रता संग्राम का नेतृत्व भी किया।

बंगाल से पिछड़ने के लिए वाम और ममता जिम्मेदार

अमित शाह ने कहा, ‘सुभाष चंद्र बोस, खुदीराम बोस जैसे महान नायकों ने स्वतंत्रता आंदोलन को आकार दिया। लेकिन आज 73 साल बाद बंगाल पिछड़ गया है। इसका कारण 30 साल का प्रशासन है। इसका कारण वामपंथ और ममता जी का शासन है। यह महिलाओं के लिए सबसे असुरक्षित राज्य बन गया है। विवेकानंद की धरती पर युवा निराश हैं। टीएमसी कुशासन ने एक काला अध्याय शुरू किया है। ‘

ममता ने राजनीति का अपराधीकरण किया

बंगाल के पारंपरिक त्योहारों को भी वोट की राजनीति से देखा जाता था। ममता जी ने पूरे प्रशासन, अपराधीकरण की राजनीति का राजनीतिकरण किया। त्योहार मनाने के लिए कोर्ट से अनुरोध किया जाना चाहिए। राजनीतिक हिंसा अपने चरम पर पहुंच गई है। 130 से अधिक पार्टी कार्यकर्ता मारे गए हैं। 1967 से, ऐसी सरकारें हैं जिन्होंने केंद्र सरकार से लड़ाई लड़ी। हमारे संघीय ढांचे में कोई अंधविश्वास नहीं है। भारत का विकास इसकी अवधारणा है।

सभी की निगाहें भाजपा के घोषणापत्र पर टिकी थीं

जिस तरह से बीजेपी और टीएमसी बंगाल में बंगाल चुनाव में अपनी जीत के लिए जोर लगा रही है, सबकी नजरें बीजेपी के घोषणापत्र पर टिकी थीं। यह पहले से ही ज्ञात था कि भाजपा बंगाल को रोजगार, भ्रष्टाचार से संबंधित समस्याओं को दूर करने के लिए अपनी रणनीति दे सकती है। इससे पहले 17 मार्च को मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने टीएमसी का घोषणापत्र जारी किया था। 146 पन्नों के दस्तावेज में ममता ने कई वादे किए हैं। इसमें उन्होंने रोजगार, स्वास्थ्य, शिक्षा, किसानों और गरीबों के लिए योजना लागू करने की घोषणा की है।

जनता की राय से की गई घोषणा

भाजपा ने घोषणा पत्र जारी करने से पहले राज्य में एक बड़ा अभियान चलाया था। राज्य में बदलाव पर लोगों से राय मांगी गई थी। अभियान की शुरुआत खुद राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने की थी।

भाजपा ने राज्य में लक्ष्मण सोनार बांग्ला अभियान शुरू किया था। इसमें उन्होंने अभियान में लोगों से कई सुझाव मांगे। इस दौरान, भाजपा ने प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में एक एलईडी रथ पहुंचाने के लिए 294 एलईडी रथों की व्यवस्था की थी। लोगों को इसमें मौजूद एक बॉक्स में सुझाव देने को कहा गया। इसी आधार पर भाजपा ने यह घोषणा पत्र जारी किया है।

घोषणापत्र में इन बातों पर ध्यान दिया जा सकता है

कुछ मुद्दे भाजपा के संकल्प पत्र का ध्यान केंद्रित कर सकते हैं। नौकरी, राज्य में नितियोग की स्थापना, लव जिहाद जैसी कानून पार्टी इसे अपनी अभिव्यक्तियों में रख सकती है। इसके अलावा, शारदा घोटाला, रोज वैली ने घोषणा पत्र में चिट फंड घोटालों की जांच में तेजी लाने का मुद्दा भी रखा जा सकता है। यह पुलिसकर्मियों के परिवार के सदस्यों को राहत पैकेज जारी करने की भी घोषणा कर सकता है। भाजपा भी किसानों को लेकर एक बड़ी घोषणा कर सकती है।

बंगाल में 8 चरण का चुनाव

पश्चिम बंगाल में इस बार 8 चरणों में मतदान होगा। 294 सीटों वाली विधानसभा के लिए मतदान 27 मार्च (30 सीटें), 1 अप्रैल (30 सीटें), 6 अप्रैल (31 सीटें), 10 अप्रैल (44 सीटें), 17 अप्रैल (45 सीटें), 22 अप्रैल (43 सीटें), 26 अप्रैल (36 सीटें), 29 अप्रैल (35 सीटों) पर होनी है।

नड्डा असम के लिए घोषणापत्र जारी करेंगे

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा असम विधानसभा चुनाव के लिए 23 मार्च को पार्टी का घोषणापत्र जारी करेंगे। राज्य की 126 सीटों के लिए 3 चरणों में मतदान होना है। 27 मार्च को पहले चरण का मतदान होगा। चुनाव के नतीजे 2 मई को आएंगे।

Like and Follow us on :

Facebook

Instagram
Twitter
Pinterest
Linkedin
Bloglovin

Was This Article Helpful?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *