FACEBOOK का नाम अब META : नाम बदलने के बाद आपके एफबी एकाउंट का क्या होगा? मेटावर्स क्या है? फेसबुक ने नाम क्यों बदला? जानिए सब कुछ

                             FACEBOOK का नाम अब META

लगभग नौ दिन पहले सोशल मीडिया पर FACEBOOK का नाम बदलने को लेकर काफी चर्चा हुई थी। यह भी कहा गया था कि कंपनी वार्षिक सम्मेलन में एक नए नाम की घोषणा कर सकती है। हालांकि इसे फेसबुक ने सिरे से खारिज कर दिया था, लेकिन 9 दिन बाद सब कुछ वैसा ही हुआ जैसा सोशल मीडिया पर चर्चा में था। मतलब ये कि सोशल मीडिया कंपनी फेसबुक को अब ‘ META’ के नाम से जाना जाएगा।

क्या नाम बदलने से फेसबुक का अकाउंट प्रभावित होगा? क्या इसका व्हाट्सएप और इंस्टाग्राम पर कोई असर पड़ेगा जो फेसबुक का हिस्सा हैं? क्या यूजर्स को मेटा के लिए एक अलग खाता बनाने की आवश्यकता होगी? इन सभी सवालों के जवाब इस पूरी खबर में जानिए…

सबसे पहले बात करते हैं कि फेसबुक का नाम आखिर क्यों बदल दिया गया और इससे क्या होगा?

फेसबुक दरअसल व्हाट्सएप, इंस्टाग्राम समेत कई कंपनियों की पैरेंट कंपनी है। सीईओ मार्क जुकरबर्ग अपने सभी बड़े और छोटे प्लेटफॉर्म को एक कंपनी के तहत लाना चाहते थे। 

इस वजह से उन्होंने मेटावर्स बनाया। Metaverse अब 93 कंपनियों की मूल कंपनी है। जुकरबर्ग का मानना ​​है कि हमने टेक्नोलॉजी की शुरुआत की और हम इस दौड़ में पीछे नहीं रहना चाहते। इसलिए मेटावर्स बनाया गया है।

पिछले कुछ महीनों से फेसबुक किसी न किसी विवाद में घिरा हुआ है। कंपनी के कई पूर्व कर्मचारियों ने इसकी नीति को लेकर गंभीर खुलासे किए हैं। कई मीडिया संगठनों ने इसे ‘फेकबुक’ का नाम भी दिया है। ऐसे में नाम बदलने से कंपनी को लेकर नकारात्मकता थोड़ी कम हो सकती है। सिर्फ फेसबुक ही नहीं माइक्रोसॉफ्ट जैसी बड़ी कंपनियां भी मेटावर्स में निवेश कर रही हैं।

मेटावर्स क्या है और फेसबुक ने इस नाम को क्यों चुना?

Metaverse क्या है और फेसबुक ने इस नाम को क्यों चुना?

आभासी वास्तविकता के अगले स्तर को मेटावर्स कहा जाता है। सीधे शब्दों में कहें तो मेटावर्स एक तरह की वर्चुअल दुनिया होगी। इस तकनीक से आप वर्चुअल आइडेंटिटी के जरिए डिजिटल दुनिया में प्रवेश कर सकेंगे। यानी एक समानांतर दुनिया जहां आपकी एक अलग पहचान होगी। 

उस समानांतर दुनिया में, आप इस दुनिया में अपने दोस्तों और रिश्तेदारों से यात्रा करने, सामान खरीदने से लेकर मिल सकेंगे। भविष्य में, इस तकनीक के उन्नत संस्करण के साथ, आप चीजों के स्पर्श और गंध को महसूस कर सकेंगे। मेटावर्स शब्द का इस्तेमाल पहली बार साइंस फिक्शन लेखक नील स्टीफेंसन ने अपने 1992 के नोबेल स्नो क्रैश में किया था।

आपके लिए कुछ भी नहीं बदलेगा। हां, मेटावर्स नाम होने से आपके फेसबुक, व्हाट्सएप, इंस्टाग्राम अकाउंट पर कोई असर नहीं पड़ेगा। आप इन सभी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल पहले की तरह अपनी लॉगइन आईडी और पासवर्ड से कर सकेंगे। 

हो सकता है कि आने वाले दिनों में कंपनी Facebook सहित Instagram, WhatsApp, Oculus जैसे ऐप्स को Metaverse के साथ इंटीग्रेट कर दे। यानी सिंगल लॉगइन पर यूजर सभी ऐप्स का इस्तेमाल कर सकेगा। इससे कंपनी को फायदा होगा कि जो यूजर्स इनमें से कोई भी ऐप कई दिनों तक नहीं खोलेंगे, वे भी हमेशा के लिए खुले रहेंगे।

“I am proud to announce that, starting today, our company is now Meta.”

— CEO Mark Zuckerberg announces Facebook’s new name. pic.twitter.com/6YYaEKcufj

— The Recount (@therecount) October 28, 2021

Facebook ने आखिर नाम क्यों बदल दिया?

जिस तरह Google की पैरेंट कंपनी Alphabet है उसी तरह Facebook, WhatsApp, Instagram और कंपनी के दूसरे प्लेटफॉर्म्स एक पैरेंट कंपनी के तहत आएंगे. यह बदलाव मेटावर्स पर फोकस करने के लिए किया गया है। कंपनी के सीईओ मार्क जुकरबर्ग का मानना है कि आने वाले समय में मेटावर्स दुनिया की हकीकत होगी। वे मेटावर्स टेक्नोलॉजी की इस दौड़ में पीछे नहीं रहना चाहते।

Metaverse आखिर है क्या ?

मेटावर्स एक तरह की वर्चुअल दुनिया होगी। इस तकनीक से आप वर्चुअल आइडेंटिटी के जरिए डिजिटल दुनिया में प्रवेश कर सकेंगे। यानी एक समानांतर दुनिया, जहां आपकी एक अलग पहचान होगी। उस समानांतर दुनिया में, आप इस दुनिया में अपने दोस्तों और रिश्तेदारों से यात्रा करने, सामान खरीदने से लेकर मिल सकेंगे।

मेटावर्स नाम से लीगल बाउंड्रीज़ में क्या बदल जाएगा?

Metaverse नाम से लीगल बाउंड्रीज़ में क्या बदल जाएगा?

इस संबंध में सुप्रीम कोर्ट के वकील विराग गुप्ता ने बताया कि फेसबुक की शुरुआत 2004 में हुई थी। तब वह सामाजिक स्तर पर लोगों को जोड़ना चाहता था। बाद में यह कमर्शियल हो गया और भारत दुनिया में फेसबुक के लिए सबसे बड़ा बाजार बन गया। 2016 में, कंपनी ने इंस्टाग्राम, व्हाट्सएप और फेसबुक के डेटा को एकीकृत किया। 

तब कंपनी ने किसी यूजर की सहमति नहीं ली थी। अब फेसबुक के पास 340 मिलियन, व्हाट्सएप के 39 मिलियन और इंस्टाग्राम के भारत में करीब 80 मिलियन उपयोगकर्ता हैं। ऐसे में फेसबुक खुद की री-ब्रांडिंग कर खुद को एक नई कक्षा में ले जाना चाहता है। ऐसे में 5 सवाल उठ रहे हैं, जिनके जवाब पॉलिसी आने पर मिलेंगे.

1. क्या नई कंपनी की संरचना पुरानी कंपनी की तरह ही रहेगी?

2. क्या भारतीय कंपनी अमेरिकी कंपनी की 100% सहायक कंपनी होगी और इसकी देनदारी क्या होगी?

3. क्या फेसबुक की नई कंपनी पूरे भारत में टैक्स देगी?

4. नए आईटी नियमों के तहत जो शिकायत, नोडल और अनुपालन अधिकारी बनाए गए हैं, वे नई कंपनी के होंगे या पुराने?

5. नई कंपनी सिर्फ अपना नाम और चेहरा या पूरा बिजनेस मॉड्यूल बदल रही है। यदि हां, तो सरकार इससे कैसे निपटेगी? 


यह कैसे काम करता है?

मेटावर्स ऑगमेंटेड रियलिटी, वर्चुअल रियलिटी, मशीन लर्निंग, ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस जैसी कई तकनीकों के संयोजन पर काम करता है।

आप मेटावर्स अनुभव कब तक प्राप्त कर सकते हैं?

आप मेटावर्स अनुभव कब तक प्राप्त कर सकते हैं?

फेसबुक के आधिकारिक ब्लॉग के मुताबिक, कंपनी अभी मेटावर्स बनाने के शुरुआती चरण में है। मेटावर्स को पूरी तरह से विकसित होने में 10 से 15 साल लग सकते हैं। साथ ही यह समझना भी जरूरी है कि कोई भी कंपनी मेटावर्स नहीं बना सकती है। यह विभिन्न तकनीकों का एक बड़ा जाल है जिस पर कई कंपनियां एक साथ काम कर रही हैं।

फेसबुक के अलावा और कौन सी कंपनियां Metaverse पर काम कर रही हैं?

मेटावर्स में सॉफ्टवेयर, हार्डवेयर, एसेट क्रिएशन, इंटरफेस क्रिएशन, उत्पाद और वित्तीय सेवाओं जैसी कई श्रेणियां शामिल हैं। इन सभी कैटेगरी पर सैकड़ों कंपनियां काम कर रही हैं। फेसबुक के अलावा गूगल, एपल, स्नैपचैट और एपिक गेम्स ऐसे बड़े नाम हैं जो कई सालों से मेटावर्स पर काम कर रहे हैं। अनुमान है कि 2035 तक मेटावर्स 74.8 लाख करोड़ रुपये का उद्योग हो सकता है।

मेटावर्स पर शुरुआती चरण में फेसबुक कितना खर्च करेगा?

कंपनी मेटावर्स पर 10 अरब डॉलर यानी करीब 75 हजार करोड़ रुपये खर्च करेगी। कंपनी की यह विंग ऑगमेंटेड और वर्चुअल रियलिटी पर काम करेगी। इसके इस्तेमाल से यूजर्स वर्चुअल वर्ल्ड का अनुभव कर सकेंगे। फेसबुक ने इस प्रोजेक्ट के लिए 10,000 लोगों को हायर करने की भी घोषणा की है।

जानिए यह आपके इंटरनेट का उपयोग करने के तरीके को कैसे बदल कर रख देगा


आपके इंटरनेट का उपयोग करने के तरीके को कैसे बदल कर रख देगा

आप एक आभासी दुनिया में एक सड़क के किनारे चल रहे हैं। एक दुकान में आपने एक फ्रिज देखा, जो आपको पसंद आया। आप उस दुकान पर गए और उस फ्रीज को डिजिटल करेंसी से खरीदा। अब वह फ्रिज आपके आवासीय पते (जहां आप रहेंगे) पर पहुंचा दिया जाएगा, यानी आपको वर्चुअल शॉपिंग का अनुभव मिलेगा, लेकिन यह खरीदारी वास्तविक होगी।

जब आप इंटरनेट पर किसी से बात कर रहे होते हैं तो ऐसा लगेगा जैसे आप एक दूसरे के विपरीत बैठे हैं। भले ही आप एक दूसरे से सैकड़ों मील दूर हों।

एक वेबसाइट है https://decentraland.org/ यह वर्चुअल वर्ल्ड का बेहतरीन उदाहरण है। इस वेबसाइट पर आपको एक अलग वर्चुअल दुनिया मिलेगी, जिसकी अपनी मुद्रा, अर्थव्यवस्था और जमीन है। यहां आप क्रिप्टो से जमीन खरीद सकते हैं और उस पर घर बना सकते हैं। इस वर्चुअल दुनिया में आपको नौकरी भी मिल सकती है। यह वेबसाइट Metaverse के Element पर भी काम करती है।

Metaverse के बारे में अब तक की सबसे बड़ी घटना क्या सामने आई है?

हाल ही में Fortnite गेम काफी चर्चा में रहा था। गेम ने अपने उपयोगकर्ताओं के लिए एक ‘संगीत अनुभव’ का आयोजन किया। इसमें यूजर्स गेम के अंदर ही कलाकार के लाइव म्यूजिक परफॉर्मेंस का मजा ले सकते थे।

Fortnite के निर्माता एपिक गेम्स लंबे समय से मेटावर्स पर काम कर रहे हैं। हाल ही में Fortnite ने सिंगर एरियाना ग्रांडे का लाइव कॉन्सर्ट किया था। इससे पहले भी Fortnite अपने गेम में अलग-अलग कलाकारों के लाइव कॉन्सर्ट आयोजित कर चुका है।

मेटावर्स का आइडिया कहां से आया?

मेटावर्स का आइडिया कहां से आया?

मेटावर्स शब्द का इस्तेमाल पहली बार 1992 में प्रकाशित अमेरिकी लेखक नील स्टीफेंसन के विज्ञान कथा उपन्यास स्नो क्रैश में किया गया था। इस उपन्यास में, वास्तविक लोगों के अवतार आभासी दुनिया में रहते हैं। उपन्यास आभासी वास्तविकता, डिजिटल मुद्रा जैसे कई मापदंडों पर बात करता है।

मेटावर्स के साथ क्या खतरे हैं?

मेटावर्स के आने से पहले से ही अलग-अलग बहस चल रही है, जिसमें सबसे बड़ा मुद्दा डिजिटल प्राइवेसी का है। एपिक गेम्स कंपनी के सीईओ टिम स्वीनी, जो मेटावर्स पर काम कर रहे हैं, ने 2017 में गेम्सबिट समिट में कहा था कि अगर प्लेटफॉर्म जिन पर मेटावर्स बनाया जा रहा है, 

अगर मालिकाना कंपनियों का उन पर अधिक नियंत्रण है, तो हमारा जीवन, व्यक्तिगत डेटा और हमारे व्यक्तिगत आप बातचीत पर सबसे अधिक नियंत्रण करने में सक्षम होंगे। यह नियंत्रण इतना अधिक होगा जो इतिहास में आज तक कभी नहीं हुआ।


What is Metaverse and how it Works |  Facebook Now Meta | All You Need To Know About Metaverse | Why Facebook Changed The Name | Mark Zuckerberg | Mark Zuckerberg announces Facebook’s new name | Why Mark Zuckerberg Changed Parent Company Name? | Facebook Meta Explained | Facebook Changes Its Name To Meta |   

Was This Article Helpful?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *