Gender Equality : आदमी ने बलात्कार किया, यह आपकी गलती नहीं है। आदमी ने छेड़छाड़ की, दोष तुम्हारा नहीं है। आदमी ने गाली दी, हाथ उठाया, मारा, अपमानित किया, दोष तुम्हारा नहीं

 

raped

मेरा दोस्त अपनी बेटी के स्कूल के बाहर खड़ा था उसकी बेटी दूसरी कक्षा में पढ़ती थी। स्कूल छूट गया, बच्चे बाहर आने लगे, उसने बेटियों को दूर से आते देखा। तभी पीछे से उसकी क्लास का एक लड़का आया, दोनों में कुछ कहासुनी हुई, लड़के ने लड़की को गाल पर एक तमाचा मारा।

लड़की को गुस्सा आ गया, उसने भी पीछे से मारा। लड़के ने उसका हाथ पकड़ कर घुमा दिया। इस बार लड़की का गुस्सा सातवें आसमान पर था। उसने दानादान उस लड़के पर थप्पड़ बरसाए और लड़के को जमीन पर पटक दिया, फिर हाथों व लात से उसकी मरम्मत की।

जब तक दोनों बच्चों के माता-पिता उनके पास पहुँचे, तब तक वह लड़का मम्मी-मम्मी चिल्ला रहा था। दोनों बच्चे दूसरी कक्षा में पढ़ते थे, एक लड़का था, एक लड़की थी। लड़की, जिसे बचपन से सिखाया जाता है कि लड़कियां कमजोर होती हैं। और वह लड़का, जिसे बचपन से सिखाया जाता है कि लड़के लड़कियों की तरह रोते नहीं हैं।

दोस्त ने फोन करके पूरा वाकया बता दिया और कहा, ‘मेरी बेटी ने स्कूल में लड़के को नानी याद दिला दी, अब मुझे बताओ, लड़कियां कमजोर हैं।’ और मैं सोचने लगा, एक लड़की को कैसे पाला जाता है इससे कितना फ़र्क पड़ता है। उसे क्या सिखाया गया, क्या मान, क्या मान्यताएं दी गईं होंगी। उसे कमजोर कर दिया, उसे चुप रहना सिखाया, दमन करना सिखाया, सहना सिखाया, या मुंहतोड़ जवाब देना​ सिखया व फाइट करना सिखाया।  उसे गोल रोटी बनाना सिखाया गया या मोलेस्टर का चेहरा गोल करना सिखाया गया था।

बचपन में एक बार, मेरे पिता और चाची ने लड़ाई की। पापा की गलती थी

बचपन में एक बार, मेरे पिता और चाची ने लड़ाई की। पापा की गलती थी, उन्होंने चाची को मार डाला। मौसी ज़िद करके बैठ गई, या तो आज वह खाना खाएगी या मैं लूंगी। दादाजी ने फरमान जारी किया, “बेटे को खाना दो। वह मेरे पिंडदान क्या करेगी?” पापा को प्यार से खिलाया गया। उस रात चाची ने खाना नहीं खाया। 40 साल बाद भी, जब दादी ने यह कहानी सुनाई, तो वह कहेंगी कि “लड़की बहुत मजबूत हो गई थी।”

सदियों से लड़कियों को दबाना, डराना हमारे घर का मूल्य था। पुरुषों का निरंकुश शासन लड़की के मुँह में ठूंठ भरने के साथ ही उसके बोलने पर कायम रहता था। इसके बाद दोनों बुआ को भी ससुराल में काफी दुःख हुआ। बेटों ने बहू-बेटियों को चोट पहुंचाई, परंपरा जारी है।

फेसबुक पर एक क्लोज्ड महिला समूह में, यूक्रेन की एक महिला ने एक बार लिखा था, “मेरे पिता नाविक थे। उन्होंने खुद नावें बनाया करते और में लंबी यात्राओं पर जाते थे। उन्होंने मुझे कभी नहीं सिखाया। क्या आपके पिता भी ऐसे ही थे?” एक अमेरिकी लड़की ने टिप्पणी में लिखा कि उसने उसी आदमी से शादी की जिसने उसके साथ बलात्कार किया। उनके माता-पिता ने कहा कि अब कोई भी आदमी तुम्हारा सम्मान नहीं करेगा।

अमेरिकन फेमिनिस्ट राइटर ग्लोरिया स्टिनेम ने अपने पिता के बारे में लिखा, “पिता मेरे साथ बहुत बराबरी और सम्मान के साथ पेश आते थे। मेरी बात को गंभीरता से सुनते हुए, मेरी राय को महत्व देते हुए। मैं इस विश्वास के साथ बड़ी हुई हूं कि मेरा महत्व मेरे जीवन के लिए है। मेरे काम के लिए। “

मेरा जीवन अनमोल है। मैं पुरुषों से कम नहीं हूं…

मेरा अपना अनुभव भी यही कहता है। मैंने किताबों में पढ़ा था कि मैं अनमोल हूँ, मेरा जीवन अनमोल है। मैं पुरुषों से कम नहीं हूं, लेकिन उस अध्ययन को जीने में परिवर्तित करने में बड़ी मुश्किलें थीं। मैंने अपने लिए लड़ने का हर मौका गंवा दिया। मुझे हमेशा डर लगता था। यह समझ में आया कि एक लड़की नारीवाद की पुस्तक को पढ़कर अपने सम्मान, शक्ति और महत्व का सबक नहीं सीखती है। वह केवल यह जानती है कि उसका कितना सम्मान किया गया, उसे कितना महत्व दिया गया।

2013 में, मुंबई के शक्ति मिल कंपाउंड में कुछ लोगों द्वारा एक फोटो पत्रकार के साथ बलात्कार किया गया था। जब लड़की इलाज के बाद अस्पताल से जा रही थी, तो उसने अपना चेहरा ढंकने से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा, “मुझे शर्म नहीं है। शर्म आनी चाहिए।” 2012 में कलकत्ता में पार्क स्ट्रीट बलात्कार मामले की पीड़िता सुज़ेट जॉर्डन ने एक बार एक साक्षात्कार में कहा था, “मैं अपना नाम नहीं छिपा रही हूँ। मैं सुज़ेट जॉर्डन हूँ। न कि पार्क स्ट्रीट बलात्कार विक्टिम।”

मीडिया में इस बात को लेकर कोई लेख नहीं छपा

इन लड़कियों के दिलों, दिमागों और जिंदगियों में कभी किसी ने झांक कर नहीं देखा कि खुद में यह विश्वास, यह ताकत कहां से आई थी, जबकि पूरा समाज उनके खिलाफ खड़ा था। मीडिया में इस बात को लेकर कोई लेख नहीं छपा है कि बलात्कारी, आपके दोस्तों, सहकर्मियों, पड़ोसियों, गृहणियों के प्रति कितनी दया, करुणा और सम्मान के साथ महिलाओं को देखा गया है। चाहे जो आपको गलत तरीके से देखने का प्रयास करें तो बस उनको फौरन नजरों से हड़काएं ताकि बात शुरू होने से पहले ही सामने वाले को सबक मिल जाए। 

मैं सभी को एक झाड़ू से नहीं समेट रही, लेकिन उनमें से ज्यादातर आपके साथ नहीं हैं। और जब कोई नहीं होता है, तो खुद के साथ खड़ा होना पड़ता है। शक्ति और स्वाभिमान का पाठ जो हमें घर पर नहीं पढ़ाया जाता है, वह स्वयं सीखना है। तुम्हें खुद पर भरोसा करना होगा। आपको खुद को बताना होगा कि उस आदमी ने बलात्कार किया, यह आपकी गलती नहीं है। आदमी ने छेड़छाड़ की, दोष तुम्हारा नहीं है। आदमी ने गाली दी, हाथ उठाया, मारा, अपमानित किया, दोष तुम्हारा नहीं है।

अब कृष्ण नहीं आएंगे, आपको खुद ही लड़ना होगा

कहानी में लिखा है कि जब द्रौपदी ने आवाज दी, तो कृष्ण दौड़कर आए। लेकिन, वास्तविक जीवन में कोई कृष्ण नहीं आता है। आपको अपनी लड़ाई खुद लड़नी होगी। आपको अपनी रक्षा खुद करनी होगी। एक आदमी उसे घूर कर नहीं बैठ सकता। हमारी सुरक्षा के सभी इंतजाम खुद ही करने हैं। हम इस डर से घर में नहीं बैठ सकते कि सड़क पर बलात्कार हो सकता है।

इसके लिए खुद को तैयार करना होगा, क्योंकि कुछ हुआ तो फाइट कैसे कर पाएंगे। पास में चाकू रखें, लाल मिर्च पाउडर रखें, पेपर स्प्रे रखें। कराटे सीखें, कड़ी मेहनत करें, अपने शरीर को मजबूत बनाएं। अपने आप को बचाने के लिए आपको जो कुछ भी करने की आवश्यकता है, वह करें, बस डरें नहीं और घर में सहम कर न बैठें। बाहर निकलें और दरिंदों व समाज कंटकों को सबक सिखाएं। 

सुशांत के कुक नीरज ने किया खुलासा: अभिनेता की मौत से एक दिन पहले न पार्टी हुई न सुशांत बाहर गए थे और न ही रिया चक्रवर्ती उनके घर आई

Follow Us On Social Media



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *