शारदीय नवरात्रि 2020 : पढ़िए किस राशि वाले ला सकते हैं घर में खुशहाली

Shardiya Navratri 2020

इस साल नवरात्रि 17 अक्टूबर 2020 से आरंभ होगी और 25 अक्टूबर तक समाप्त होगी। हिंदू धर्म मान्यता के अनुसार नवरात्रि का विशेष महत्व हमेशा से रहा है। इन 9 दिवस में मां दुर्गा के नौ विशिष्ट रूपों की अलग-अलग पूजा की जाती है और उन दिनों पूजा करने वाले उन भक्तों की मुरादे पूरी होती हैं जो दिल से मां की आराधना करता है। आश्विन मास की शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा यानीकि 17 अक्टूबर 2020 के दिवस सुबह 6:27 से 10:13 तक कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त मना गया है। कलश स्थापना के लिए अभिजीत मुहूर्त प्रात:काल 11:44 मिनट से लेकर 12:29 मिनट तक रहेगा।

17 अक्टूबर से शुरू नवरात्रि के नौ दिन में समृद्धि व खुशहाली के लिए अपनी राशि के अनुसार इन पवित्र धार्मिक पाठों को पढ़ने से आपके घर में खुशहाली का वास सदा के लिए रह सकता है। 

मेष-
मेष राशि वाले जातक सुबह रुद्राष्टक के 11 पाठ करें।

वृषभ- वृषभ राशि के जा​तक सुबह देवी-कवच का पाठ करेंगे तो लाभ मिलेगा।

मिथुन- मिथुन राशि के जातक सुबह गणपति-अथर्वशीर्ष का पाठ करेंगे तो निश्चित लाभ मिलेगा।

कर्क- कर्क राशि के जातक यदि गौरी-जी की आराधना करेंगे तो लाभप्रद है।

सिंह- सिंह राशि के जातक आदित्य-ह्रदय-स्तोत्र के 11 पाठ करेंगे तो सबकुछ मंगल रहेगा।

कन्या- कन्या राशि वाले जातक गायत्री-मंत्र का नियमित जप करेंगे तो खुशहाल रहेंगे।

तुला- तुला राशि के जातक श्री-सूक्तम का पाठ करेंगे तो लाभ मिलेगा।

वृश्चिक- वृश्चिक राशि के जातक मंगला-स्तोत्र का पाठ नियमित करेंगे तो हर परेशानी दूर होगी।

धनु- धनु राशि के जातक साईं-चरित्र का पाठ करेंगे तो हर काम पूरे होंगे।

मकर- मकर राशि के जातक हनुमान चालीसा के 11 पाठ नौ दिन करेंगे तो हनुमानजी की कृपा सदा के लिए प्राप्त होगी और जीवन के संकट की हर बाधा हमेशा के लिए दूर हो जाएगी।

कुंभ- कुंभ राशि के जातक यदि सुंदरकांड का पाठ करेंगे तो हनुमानजी की कृपा से जीवन के सभी दुख दूर हो जाएंगे और हमेशा के लिए सुख की प्राप्ति होगी व मन प्रसन्न रहेगा।

मीन- मीन राशि के जातक यदि राम-रक्षास्तो‍त्र का पाठ करेंगे तो भगवान श्रीराम के साथ हनुमानजी दोनों की कृपा से  जीवन की हर बाधा हर परेशानी दूर होगी बिगड़े काम बनेंगे,  परिवार में समृद्धि सुख शांति का वास सदा के लिए बना  रहेगा।

विशेष- उपर दी गई आराधना का इस नवरात्रि में प्रात:काल करने से जीवन में विशेष लाभ की प्राप्ति नि​श्चित रूप से होगी, इसके किंचित मात्र भी संदेह नहीं है, पाठ का लाभ तभी सफल होगा जब आप इसे पूरी लगन, सच्चे मन और विश्वास के साथ करेंगे, प्रभु श्रीराम की कृपा आप सब पर बनी रहे।

Supreme Court Order on Mahakaleshwar : जानिए क्यों सुप्रीम कोर्ट ने उज्जैन के महाकाल मंदिर के शिवलिंग पर पंचामृत चढ़ाने पर रोक लगाई

Follow Us On Social Media



Was This Article Helpful?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *