अब लोन रिकवरी एजेंट नहीं करेगा परेशान: RBI ने की सख्त कदम उठाने की तैयारी, गाली गलौच, गलत व्यवहार किया तो खैर नहीं Read it later

New RBI Guideline For Loan Recovery Agent
  Getty | Images

                       

 New RBI Guideline For Loan Recovery Agent : अक्सर लोग इमरजेंसी में पैसों की जरूरत के चलते फटाफट लोन देने वालों के बहकावे में आ जाते हैं, लेकिन कई बार परिस्थितियां ऐसी भी आ जाती हैं जब लोन की किश्ते चुकाने का बावजूद रिकवरी एजेंट परेशान करता है। मन चाहे वक्त घर और कार्यालय पहुंच कर धमकी देता है। कई बार तो दोस्तों और रिश्तेदारों को परेशान करने को लेकर ब्लैकमेल भी करता है। 

दूसरी ओर लोन न चुकान की स्थिति कोविड के दौरान लॉकडाउन में ज्यादा देखने में आई। कई बार ऐसी भ स्थिति बनी जब लोग लोन की कुछ किश्तें चुकाने (EMI) के बावजूद परेशानी में फंस गए ऐसे में किश्तें डिफॉल्ट के मामले भी सामने आए। जिसके चलते बैंकों के लोन रिकवरी एजेंट (Loan Recovery Agent) ने कर्जदारों को परेशान करना शुरू कर दिया। बीते दो साल में ऐसे कई मामले देखने में आए। ऐसे में अब रिजर्व बैंक ने भी लोन रिकवरी एजेंट की इन हरकतों पर संज्ञान लेते हुए सख्त उठाने पर विचार किया है।

RBI गर्वनर ने कहा: लोन रिकवरी एजेंट की हरकतें नहीं की जाएगी बर्दाश्त

रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास (RBI Governor Shaktikanta Das) ने हाल ही में कहा कि लोन रिकवरी एजेंट लोगों के साथ गलत व्यवहार करते हैं, जो कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि कर्जदारों को लोन रिकवरी एजेंट बेवक्त फोन करते हैं और उनके साथ एक अपराधी की तरह दुर्व्यवहार करते हैं, जो कि किसी भी सूरत में स्वीकार्य नहीं किया जा सकता। 

आरबाआई गवर्नर ने कहा कि सेंट्रल बैंक इसे गंभीरता से ले रहा है और कड़े कदम उठाने की तैयारी की जा रही है। आरबीआई गवर्नर दास FE Modern BFSI Summit के दौरान बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि ऐसी हरकतें सामान्यत: अनरेगुलेटेड वित्तीय कंपनियां ज्यादा करती हैं और कई बार तो रेगुलेटेड कंपनियों के मामले में भी ऐसी शिकायतें आ रही हैं।

New RBI Guideline For Loan Recovery Agent
प्रतिकात्म तस्वीर। Getty | Images

अब रिकवरी एजेंट के मिस बिहेव और गाली गलौच वाले रवैये पर सख्त होगा सेंट्रल बैंक

शक्तिकांत दास ने कहा कि ‘रेगुलेटेड कंपनियों (Regulated Entities) के केस में रिजर्व बैंक गंभीरता से कदम उठाने की तैयारी कर रहा है। जहां तक अनरेगुलेटेड कंपनियों (Unregulated Companies) की बात है, ऐसी कम्प्लेन मिलने पर लॉ एनफोर्समेंट एजेंसियों को अवगत कराया जाएगा। 

हम ऐसी किसी भी शिकायत पर कड़े कदम उठाने से नहीं हिचकेंगे। वहीं बैंकों को भी रिकवरी एजेंटों की गलत हरकतों के लिए हिदायत दी गई है। हम कर्जदाताओं और सभी बैंकों से इस बारे में खास ध्यान देने का अनुरोध कर रहे हैं।

ये भी पढ़ें –  यदि भारत में हर एक माह में स्टार्टअप कंपनी यूनिकॉर्न बन रही तो नौकरियां क्यों जा रहीं?


लोन रिकवरी एजेंट से निपटने के उपाय क्या हैं?

 आरबीआई की पहले से मौजूद गाइडलाइन (RBI Guideline) के मुताबिक, लोन रिकवरी के लिए बाहुबल का इस्तेमाल करना या इस्तेमाल करने की धमकी देना उत्पीड़न के दायरे में आता है। यदि कोई रिकवरी एजेंट आपको परेशान कर रहा है, तो बिना किसी झिझक के रिजर्व बैंक के पास इसकी शिकायत की जानी चाहिए। 

इसके अलावा भी कर्जदारों के पास लोन रिकवरी एजेंट के गलत व्यवहार से निपटने के कानूनी रास्ते हैं। जानिए आप किन उपायों से इस तरह की परेशानियों से बच सकते हैं…

New RBI Guideline For Loan Recovery Agent
प्रतिकात्म तस्वीर। Getty | Images

 लोन रिकवरी पर RBI की गाइडलाइन क्या है

रिजर्व बैंक के अनुसार, लोन रिकवरी एजेंट कर्ज वसूली के लिए धमकी या उत्पीड़न का सहारा नहीं ले सकते, चाहे फिर वो मौखिक हो या शारीरिक रूप में हो। कर्जदार को बार-बार फोन करना या सुबह 9 बजे से पहले और शाम 6 बजे के बाद फोन करना भी परेशान करने के दायरे में आता है। 

लोन रिकवरी के लिए बाहुबल का यूज करना या मारपीट की  धमकी देना उत्पीड़न के दायरे में आता है। वहीं लोन लेने वाले शख्स के घर या वर्कप्लेस पर बिना बताए पहुंच कर रिश्तेदारों, दोस्तों या साथी कर्मचारियों को धमकी देना और परेशान करना भी उत्पीड़न के दायरे में आता (Harassment) है। वहीं धमकी या गाली गलौच करना या फिर नीचा दिखाना  भी इसी दायरे में आता है।

RBI बैंक पर भी लगा सकता है जुर्माना

यदि लोन रिकवरी एजेंट आपको आए दिन परेशान करता है तो कर्जदारां को सबसे पहले बैंक से इसकी शिकायत करनी चाहिए। साथ ही अपनी परिस्थितियों के बारे में बैंक को बताकर लोन रिपेमेंट की शर्तों पर काम शुरू कर देना चाहिए। ऐसे भी यदि बैंक से शिकायत का निवारण 30 दिनों के भीतर नहीं होता है तो बैंकिंग ओंबड्समैन से शिकायत कर सकते हैं। वहीं रिजर्व बैंक को भी शिकायत करें। रिजर्व बैंक, बैंक को निर्देश दे सकता है और संगीन मामलों में जुर्माना भी लगा सकता है।

ये भी पढ़ें – Tokyo Olympics के बीच Mossad के बदले की खूंखार कहानी: 49 साल बाद म्यूनिख ओलिंपिक चर्चा में! ब्लैक सेप्टेंबर गिरोह और इससे जुड़े लोगों को इजराइल की खुफिया ऐजेंसी ने 20 साल में ऐसे चुन-चुन कर मारा  

लोन कर्जदार के पास कोर्ट का रुख करने का भी विकल्प

यदि रिकवरी एजेंट कोई गैर-कानूनी एक्शन जैसे मान लीजिए मारपीट करता है या कोई एसेट उठा ले जाता है तो कर्ज लेने वाला पुलिस में शिकायत दे सकता है। यदि बहुत ज्यादा परेशान किया जाता है, तो वकील से संपर्क कर रिकवरी एजेंट के खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई की जा सकती है। 

इसमें रिकवरी एजेंट की ओर से यदि कोई गलत लेटर आपको दिया गया हो या कोई गलत एक्शन लिया गया हो तो आप उसे कोर्ट में आधार के तौर पर प्रस्तुत कर सकते हैं। लेनदार यानी कर्ज लेने वाले के पास लोक अदालत और कंज्यूमर कोर्ट में जाने का भी ऑप्शन खुला है।

ऐसे में कानूनी कार्रवाई के दौरान ये पाया जाता है कि वाकई लोन रिकवरी एजेंट ने कर्जदार को परेशान किया है तो अदालत कर्जदार के पक्ष में मोटा जुर्माना लोन रिकवरी एजेंट और संबंधित बैंक को अदा करने के लिए पाबंद भी कर सकती है। जोकि कर्जदार को पहुंची मानसिक क्षतिपूर्ति के तौर पर हो सकता है।

Regulated Entities |  New RBI Guideline For Loan Recovery Agent | RBI Guideline | Loan Recovery Agent | 

ये भी पढ़ें –  

कोरोनाकाल में लोन किश्त नहीं दे पाए‚ हालात सुधरे तो ब्याज सहित चुकाया‚ लेकिन CIBIL SCORE अभी भी खराब है‚ जानिए कैसे सुधारें

डिजिटल भुगतान करने वालों के काम की खबर: 30 सितंबर से लागू होगे क्रेडिट-डेबिट कार्ड के नए नियम, जानिए अब कैसे होगा लेनदेन?

 DHFL Bank Fraud Case: अब तक का सबसे बड़ा बैंकिंग फ्रॉड, 34,615 करोड़ की धोखाधड़ी में CBI की कार्रवाई

HIT – The First Case: राजकुमार राव की जबरदस्त एक्टिंग के साथ इस सस्पेंस थ्रिलर फिल्म के कई सीन सिर घुमा देंगे

100 महिलाओं की लाशों से दुष्कर्म करने वाले हैवान को 34 साल बाद मिलेगी जुर्म की सजा

मृत्यु के बाद भी: ये कम्यूनिस्ट नेता आज भी सजे हैं मकबरों में, 100 साल पुराने इस राजा का लिंग भी संरक्षित‚  जानिए कैसे सहेजे जाते हैं अंग और शव

Was This Article Helpful?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *