अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस : योग के लिए जगह नहीं रखती मायने, कहीं भी 5 मिनट के माइंडफुलनेस प्रेक्टिस से रहें रिलैक्स और स्ट्रैस फ्री Read it later

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस

योग की अहमियत को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहचान का दर्जा दिलाने के लिए संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 11 दिसंबर 2014 को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस घोषित किया और 21 जून 2015 को पहली बार इसे मनाया गया। 

वहीं स्वास्थ्य की दृष्टि से तो कोरोना काल में योग का महत्व और भी बढ़ गया है। क्योंकि जिन लोगों को कोरोना हुआ और वे उससे उबरने लगे तो चिकित्सकों ने भी इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए एक्सरसाइज के साथ योग करने की सलाह भी दी। 

ऐसे में यह सिद्ध है कि रोग प्रतिरोधक की क्षमता को मजबूत बनाने के साथ योग स्वस्थ और ऊर्जावान बनाए रखने में भी मदद करता है। इसका सबसे बड़ा लाभ यह कि ये तनाव को बेहद तेजी से कम करने में मदद करता है।  

क्योंकि कोरोना महमारी के दौरान घर में रहने के दौरान लोग अनएंम्पलॉयमेंट और तनावग्रस्त हुए तो लोगों को चिकित्सकों ने सोश्यल मीडिया के माध्यम से ध्यान और योग करने की ही सलाह दी गई। 

क्योंकि योग हर स्तर पर तनाव को कम करने में मदद करता है।  खास बात ये है कि योग  करने के लिए आपको किसी जगह विशेष की जरूरत नहीं होती। आप कहीं भी इसे कर सकते हैं। 

आज योग दिवस पर हम कुछ ऐसे आसन से आपके रूबरू करा रहे हैं जो आपको रिलैक्स रखने में मदद कर सकते हैं।

5 मिनट का रिलैक्स करने वाला योग अभ्यास। इससे आप दिमागी रूप से महज 5 मिनट में रिलैक्स फील करेंगे  


 आपको इन चीजों की आवश्यकता हो सकती है

अगर आपके पास योगा मैट है तो ठीक नहीं तो आप कोई भी दरी या चादर का इस्तेमाल कर सकते हैं।  आप एक आरामदायक जगह का चुनाव करें जहां आप खुद को पांच मिनट का वक्त दे सकें।  

कोशिश करें कि योग के लिए ऐसी जगह चुनें जो आपको प्रकृति के करीब रखे। जैसे कि बगीचा, बालकनी या लॉन कुछ भी हो सकता है जहां आपको नेचर साउंड जैसे चिड़ियाओं की चहचाहट आती हो, न हो तो कोई बात नहीं।

 ऐसा इसलिए क्योंकि नेचर साउंड और खुली हवा के बीच योग करने से आपका मन जल्दी शांत होता है और सकारात्मक ऊर्जा जल्दी बनती है। 

ध्यान के बाद करें इस तरह योग

ध्यान के बाद करें इस तरह योग

योग के सभी आसनों को करते हुए खुद को खुश और सेहतमंद रखने के बारे में सोचें। जैसे आप स्वयं  की देखभाल और स्वाभिमानी रहने के लिए खुद को एनकरेज कर सकते हैं। तनाव को झट से दूर करने के लिए हर लम्हें का बेहतर अनुभव करें, जैसे प्रकृतिक सबकुछ सिर्फ आपके लिए कर रही है। जैसे की प्रकृति का हर क्रियाकलाप आपको तंदरुस्त और एनर्जेटिक बनाए रखने के लिए हो रहा है। इससे आप तुरंत तनावमुक्त महसूस करने लगेंगे।  

सुखासन (रिलैक्स की मुद्रा)

सुखासन (रिलैक्स की मुद्रा)

एक आरामदायक स्थिति में क्रॉस लेग करके बैठें। अपने पैरों को आराम दें और अपनी सांसों पर ध्यान दें। कुछ मिनटों के लिए अपने शरीर में सनसनी महसूस करें।

गर्दन को ओवल शेप में घुमाएं

अपने सिर को अपनी छाती की ओर आने दें। फिर धीरे-धीरे अपने सिर को हवा में घुमाते हुए गोला बनाएं। तीन बार दाईं ओर फिर तीन बार बाईं ओर घुमाएं। ऐसा करते समय, वह सब कुछ भूलने की कोशिश करें जो आपको परेशान करता है। अब सामान्य मुद्रा में लौटें।

कंधों को घुमाएं

हाथ को घुटने पर रखें और दोनों कंधों को चार बार आगे और पीछे चार बार घुमाएं। सांस छोड़ते हुए दोनों हाथों को छाती के पास लाएं और नमस्ते की मुद्रा में रखें।

भर्मानासन

अपने घुटने और हथेली को नीचे रखें। बाजुओं और पीठ को सीधा रखते हुए संतुलन बनाए रखें।

बिटिलासन (गाय मुद्रा)

बिटिलासन (गाय मुद्रा)

भर्मानासन की मुद्रा में रहते हुए पेट को बाहर की ओर छोड़ें और सांस लेवें। अपनी चिन और छाती को ऊपर उठाएं। उपर की ओर देखें इस दौरान कंधों को कानों से दूर रखें।

मार्जरासन  (बिल्ली की मुद्रा)

मार्जरासन  (बिल्ली की मुद्रा)

साँस छोड़ें और अपने पेट को अपनी रीढ़ की ओर खींचे। इंद्रधनुष के आकार में अपनी पीठ को छत की ओर उठाएं। फिर धीरे-धीरे अपने सिर को फर्श की ओर ले आएं।

नोट – बिटिलासन और मार्जरासन इन दोनों को 5 से 8 बार दोहराएं ​

अधोमुख श्वानासन

अधोमुख श्वानासन

सांस भरते हुए शरीर को अपने पैरों और हाथों पर उठाएं और टेबल जैसी आकृति बनाएं। सांस छोड़ते हुए धीरे-धीरे हिप्स को ऊपर की ओर उठाएं। अपनी कोहनियों और घुटनों को टाइट रखें। 

सुनिश्चित करें कि शरीर एक उल्टे ‘वी’ आकार में आ जाए। इस आसन के अभ्यास के दौरान कंधे और हाथ एक सीध में रहने चाहिए। जबकि पैर हिप्स की सीध में रहें।

यह भी ध्यान रखें कि आपके एंकल यानी टखने बाहर की ओर हों। अब हाथों को नीचे जमीन की तरफ दबाएं और गर्दन को स्ट्रेच करने की कोशिश करें। 

अपने कानों को अपने हाथों के अंदरूनी हिस्से को छूते हुए रखें और अपनी नजर नाभि पर केंद्रित करने की कोशिश करें। 

इस स्थिति में कुछ सेकेंड तक रहें और उसके बाद घुटनों को जमीन पर रखें और फिर से टेबल जैसी स्थिति में आ जाएं।

Yoga Day 2021 | mindfulness yoga | mindfulness |  relaxing meditation | meditation

Like and Follow us on :


Telegram

Facebook

Instagram

Twitter
Pinterest
Linkedin

Was This Article Helpful?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *