Sidhu Moosewala murder case: घर फैन बनकर पहुंचा केकड़ा, चाय पी, सेल्फी ली फिर मूसेवाला के घर से निकलते ही- जानिए कत्ल से 15 मिनट पहले की कहानी Read it later

Sidhu Moosewala murder case

Sidhu Moosewala murder case: सिद्धू मूसेवाला के कत्ल में पंजाब पुलिस (Punjab Police) ने केकड़ा नाम के शख्स को गिरफ्तार (Kekda Arrested) किया है। शुरूआती जांच के बाद कहा जा रहा है कि शूटर्स को गाड़ी मुहैया करवाने का काम इस केकड़ा (Kekda) ने ही किया था। लेकिन केकड़ा की भूमिका सिर्फ वाहनों के इंतजाम करने तक सीमित नहीं है। पूछताछ में पता चला है कि केकड़ा ने सिद्धू मूसेवाला के साथ सेल्फी (Kekda Selfi with Sidhu Moosewala) भी ली थी। वो एक फैन बन सिंगर के पास गया था और करीब 45 मिनट तक उनके घर के बाहर रहा।

फिर मूसेवाला की हरकत की तुरंत जानकारी दी

एक तरह से मूसेवाला की हत्या की पहले ही सभी तैयारी कर ली गई थी, ये केकड़ा ही वो खबरी था जिसने शूटर्स को मूसेवाला की हर हरकत की तुरंत जानकारी दी। पूछताछ के दौरान पता चला कि केकड़ा सबसे पहले एक फैन बन मूसेवाला से मिला था। सिंहर को उस समय केकड़ा को लेकर कोई जानकारी नहीं थी, ऐसे में उसे फैन मान उन्होंने साथ भी सेल्फी क्लिक कर ली, लेकिन केकड़ा सेल्फी लेने के बाद भी सिंगर के घर के बाहर डटा रहा। उसे इंतजार था कि सिद्धू मूसेवाला कब घर से बाहर निकल अपनी गाड़ी में जाएंगे। जैसे ही मूसेवाला बाहर निकले, केकड़ा ने उसकी मुखबिरी शूटरों को कर दी।

 ये भी पढ़ें –   ताबड़तोड़ छापेमारी से गैंगस्टर्स बौखलाए: पंजाब पुलिस को दी अंजाम भुगतने की धमकी 

पक्की रेकी तभी शूटर्स ने ड्राइवर्स साइड पर ही गोलिया बरसाई और मूसेवाला के दोस्त बच गए

उस एक मुखबिरी ने शूटरों को सिंगर की हर मूवमेंट की पूरी जानकारी दी और बीच सड़क पर फिर उन्हें गोलियों से भून दिया। 20 राउंड से ज्यादा फायर किए गए और मूसेवाला ने मौके पर ही दम तोड़ दिया। इस वारदात में केकड़ा की भूमिका ने कई और राज खोल दिए हैं। ऐसे में पुलिस इसी पूछताछ को आधार बनाकर आने वाले दिनों में और भी गिरफ्तारियां कर सकती है। सिद्धू मूसेवाला की हत्या के कारण की बात करें तो दुश्मनी एक बड़ी वजह मानी जा रही है।

      

पुलिस ने सभी शूटर्स की पहचाना की

इस हमले का मास्टरमांड कनाडा में बैठा गोल्डी बराड़ बताया जा रहा है। गोल्डी बराड जेल में बंद कुख्यात गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई का बेहद करीबी है। इन्होंने अपने दोस्त विक्की मिद्दूखेड़ा की मौत का बदला लेने के लिए इस हत्याकांड को अंजाम दिया। इस मामले में पुलिस ने सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल सारे शूटरों के चेहरे से नकाब उठा दिया है। चार राज्यों के 7 चेहरों की पहचान कर ली गई है। जानकारी के मुताबिक, 3 शूटर पंजाब के, 2 हरियाणा के रहने वाले, 2 शूटर पुणे और एक राजस्थान का रहने वाला है।

रिश्तेदार के घर आता-जाता था केकड़ा

पुलिस की जांच में यह भी सामने आया कि कालांवाली के केकड़ा का कोई रिश्तेदार मूसा गांव में रहता है। वह अक्सर वहां आता-जाता रहता है। ऐसे में माना जा रहा है कि इसी वजह से गैंगस्टर्स ने उसे अपने साथ मिला लिया। मूसा गांव के लोगों का सिद्धू मूसेवाला के साथ अच्छी पहचान थी। इसका फायदा उठाकर ही केकड़ा दोस्त को लेकर मूसेवाला के घर गया। मूसेवाला को भी उस पर शक नहीं हुआ।

 

उनमें से किसी ने फोन पर कहा था कि मूसेवाला थार जीप में निकल गया

मूसेवाला के कत्ल के बाद जब पुलिस ने जांच शुरू की तो मूसेवाला के घर में काम करने वालों ने भी शक जताया था। उन्होंने पुलिस को कहा था कि मूसेवाला से मिलने कुछ फैन आए थे। उनमें से किसी ने फोन पर कहा था कि मूसेवाला थार जीप में निकल गया है। इसके बाद ही पुलिस ने यह CCTV फुटेज खंगाला, जिसमें केकड़ा की हरकतें पुलिस को संदिग्ध लगीं। इसके बाद उसे उठाया गया।

सिद्धू मूसेवाला की हत्या सटीक रेकी कर की गई थी। शार्प शूटर्स ने पहले मूसेवाला की थार के टायर पंचर किए। इसके बाद सिर्फ ड्राइविंग सीट पर ही गोलियां बरसाईं। उन्हें अच्छे से पता था कि मूसेवाला ही थार ड्राइव कर रहा है। उसके साथ कोई गनमैन नहीं है। इसी वजह से मूसेवाला के साथ बैठे उनके दो साथियों गुरविंदर और गुरप्रीत की जान बच गई।

  • Sidhu moose wala death | Sidhu Moose Wala shot dead LIVE UPDATES | Punjabi singer Sidhu Moose Wala | village Jawaharke | Mansa | Kekda Arrested | Kekda Selfi with Sidhu Moosewala | 

आपको ये खबरें पसंद आ सकती हैं –

ये भी पढ़ें – सर गंगाराम ने बसाया था लाहौर‚ तो दिल्ली में वो एम्पीथियेटर बनाया जहां से क्वीन विक्टोरिया को भारत की महारानी घोषित किया गया

ये भी पढ़ें – ब्रिस्बेन की यूनिवर्सिटी का ये रिसर्च आपको सटीक बता देगा कि महिलाएं आखिर किस तरह के पुरुष ज्यादा पसंद करती हैं

ये भी पढ़ें –  यदि कहें कि जानवर भी समलैंगिक होते हैं तो क्या आप यकीन करेंगे, पढ़िए तथ्य और शोध पर आधारित पूरी खबर 

ये भी पढ़ें – क्या वाकई इलेक्ट्रिक कारें पर्यावरण के लिए बेहतर हैं? क्योंकि जर्मनी में इलेक्ट्रिक कार का जलवायु-सम्मत प्रभाव केवल कागज़ी रह गया है 

 ये भी पढ़ें -इन 5 सरकारी योजनाओं की मदद से महिलाएं अपना खुद का व्यवसाय शुरू कर सकती हैं

ये भी पढ़ें –  स्टालिन : ऐसा अत्याचारी जिसके मन में न्याय, दया या संवेदना रत्तीभर भी नहीं थी, किसी के लिए भी नहीं, उसके बीवी बच्चे भी उसके सामने थर थर कांपते थे  

ये भी पढ़ें – क्योंकि हर जान कीमती है: छतीसगढ़ में कंपनी ने दी कर्मचारी की बीमार बेटी के इलाज में 16 करोड़ रुपए की मंजूरी, पेश की मिसाल, अमेरिका से आएगा जोलजेंस्मा इंजेक्शन

 ये भी पढ़ें – वडनगर में आज भी होते हैं नरेंद्र मोदी और अब्बास की दोस्ती के चर्चे‚ PM ने किया था ब्लॉग में जिक्र

Was This Article Helpful?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *