शौर्य चक्र सम्मानित एक्टिविस्ट की हत्या का केस : परिवार को सुरक्षा मिलने और एक सदस्य को सरकारी नौकरी के ऐलान के बाद परिजन अंतिम संस्कार को राजी हुए

acticist murder in punjab

पंजाब के तरनतारन जिले के भिखीविंड कस्बे में शौर्य चक्र सम्मानित एक्टिविस्ट बलविंदर सिंह की हत्या को लेकर शनिवार को भी तनाव बना हुआ है।

 बलविंदर के घरवालों ने अंतिम संस्कार करने से मना कर दिया था। बाद में सरकार ने परिवार को सुरक्षा मुहैया करवाने और घर के एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने का ऐलान किया, तब जाकर परिवार अंतिम संस्कार को राजी हुआ।

बलविंदर की पत्नी जगदीश कौर ने इंसाफ के लिए कोर्ट जाने की बात कही है। उधर, मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के आदेश पर SIT ने जांच शुरू कर दी है। आतंकियों के खिलाफ लड़ने वाले शौर्य चक्र विजेता कॉमरेड बलविंदर सिंह (60) की शुक्रवार सुबह करीब 7 बजे घर में घुसकर हत्या कर दी गई थी। 

CCTV फुटेज में बाइक सवार दो नकाबपोशों ने बलविंदर को गोली मारी। गोलियों की आवाज सुनकर जब तक परिवार के सदस्य बाहर आते, दोनों हमलावर फरार हो गए।

बलविंदर को परिवार को 3 गनमैन मिले

पंजाब सरकार ने कुछ महीने पहले बलविंदर की सुरक्षा वापस ले ली थी। उनके घरवालों ने इस पर नाराजगी जताई थी। एसडीएम राजेश शर्मा का कहना है कि कोरोना के दौरान पुलिस ने सभी के गनमैन वापस बुला लिए थे। दुर्भाग्य से बलजिंदर की हत्या हो गई। अब उनके परिवार को 3 गनमैन उपलब्ध करवा दिए गए हैं।

पंजाब में आतंकवाद के दौर में बलविंदर ने 42 हमले झेले थे

बलविंदर की हत्या के पीछे उनके घरवालों ने कट्टरपंथी आतंकी संगठनों का हाथ बताया है। साथ ही पंजाब पुलिस के अधिकारियों को भी जिम्मेदार ठहराया है। बलविंदर के बड़े भाई रणजीत सिंह ने बताया कि कई बार गुहार लगाने के बावजूद उन्हें सुरक्षा नहीं दी गई। रणजीत ने बताया कि बलविंदर और उनके परिवार ने पंजाब में आतंकवाद के दौर में 42 हमले झेले थे।

कंगना पर एक और केस होगा:कंगना रनोट पर बॉलीवुड में हिंदू-मुस्लिम के नाम पर फूट डालने का आरोप, बांद्रा कोर्ट ने FIR दर्ज करने के आदेश दिए

Like and Follow us on :

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *