हर धर्म के अराधनालय में जूते चप्पल की अनुमति नहीं, फिर हिंदू धर्म के मामले में ब्रह्मास्त्र के मेकर्स से ये गलती क्यों?

Brahmastra Trailer
अयान मुखर्जी के निर्देशन में बनी इस फिल्म के ट्रेलर रिलीज से पहले ही खू​ब सुर्खियां बटोर चुकी है।

अभिनेता रणबीर कपूर (Ranbir Kapoor) और अभिनेत्री आलिया भट्ट (Alia Bhatt) की मोस्ट अवेटेड फिल्म ‘ब्रह्मास्त्र’ (Brahmastra) का ट्रेलर 15 जून को रिलीज हुआ। अयान मुखर्जी के निर्देशन में बनी इस फिल्म के ट्रेलर रिलीज से पहले ही खू​ब सुर्खियां बटोर चुकी है। वहीं ट्रेलर की तारीफ भी खूब की जा रही है।  वीएफएक्स (VFX) का जिस तरह फिल्म में भर भर के इस्तेमाल हुआ है। इसके चर्चे तो हैं, लेकिन बाहुबली और आरआरआर मूवी के बाद ये VFX आपको थोड़े फीके लगेंगे। 

अभिनेताओं के लुक्स और अभिनय की बात करें तो ट्रेलर में तो अभिनय प्रभाव छोड़ रहा है, लेकिन अभिनय का सटीक अंदाजा फिल्म देखने के बाद ही लगाया जा सकता है। लेकिन आलिया-रणबीर की रोमेंटिक केमेस्ट्री से सजी इस फिल्म के ट्रेलर में सोशल मीडिया यूजर्स को कुछ ऐसा दिखा है। जिसके बाद यूजर्स नाराजगी व्य​क्त कर रहे हैं। खासकर रणबीर कपूर और मेकर्स पर। नाराजगी इतनी की यूजर्स ने सोशल मीडिया पर फिल्म के बायकॉट की मांग कर डाली है।  

जूते चप्पल की तो किसी भी धर्म में अनुमति नहीं

फिल्म में रणबीर उछलकर मंदिर की घंटी बजा रहे हैं तो वे जूते पहने हुए हैं। बस यही नाराजगी की जड़।


असल में ब्रह्मास्त्र (Brahmastra) के ट्रेलर के एक सीन में रणबीर कपूर कूद कर मंदिर की घंटी बजाते दिखाई दे रहे हैं। इस सीन को लेकर ही पूरा विवाद खड़ा हुआ है। वजह ये कि जब रणबीर उछलकर मंदिर की घंटी बजा रहे हैं तो वे जूते पहने हुए हैं। जबकि हर कोई जानता है कि हिंदू धर्म में मंदिर में जूते या चप्पल खोलकर प्रवेश किया जाता है और इसके बाद घंटी बजाई जाती है। सीधा समझें और हिंदू धर्म को एक तरफ रख कर दूसरे धर्म पर गौर करें तो ज्यादातर सभी धर्मों के आराधनालय में जूते पहन कर प्रवेश नहीं कया जाता। 

ब्रह्मास्त्र फिल्म तो हिंदू पौरणाकि घटना पर ही आधारित है, फिर गलती कैसे हुई

मतलब ये कि जब सभी धर्म में जूते या चप्पल उतार प्रार्थना स्थल में प्रवेश करने की परंपरा है तो फिल्म मेकर्स ने इस बात को कैसे नजरअंदाज कर दिया। जबकि ब्रह्मास्त्र (Brahmastra) फिल्म तो हिंदू पौरणाकि घटना पर ही आधारित है। बहरहाल इस बात को लेकर अब बवाल मच गया है। यूजर्स ट्रेलर के इस सीन को हटाने की मांग कर रहे हैं। वहीं ऐसा न करने पर मूवी के बायकॉट करने की अपील कर रहे हैं।

मंदिर में जूते पहन घंटी बजाने को लेकर सोशल मीडिया पर नाराजगी

एक यूजर ने लिखा, ‘जूतों के साथ मंदिर में प्रवेश करना, हम उर्दूवुड से यही उम्मीद कर सकते हैं। बॉलीवुड सनातन धर्म के प्रति हमारी भावनाओं को आहत करने का कोई अवसर नहीं चूकता।’वहीं, एक यूजर ने करण जौहर की मूवी का बायकॉट करने की अपील की। 

‘ब्रह्मास्त्र’ के इस सीन से नाराज एक यूजर ने लिखा,’जूते पहनकर मंदिर की घंटियां बजा रहे हैं’, यही साउथ और हिंदी फिल्मों में अंतर है। साउथ इंडस्ट्री हिंदू कल्चर का सम्मान करती है। नेपोटिज्म के चलते भी कई लोग इस मूवी को नहीं देखने की मांग कर रहे हैं। 

Brahmastra Trailer

9 सितंबर को होनी है रिलीजॽ


10 साल से फिल्म बना रहे अयान मुखर्जी ने हरेक सीन को फिल्माने में कई दिन लगाए हैं। ऐसे में माना जा रहा है कि सोशल मीडिया पर हिंदू धर्म की मान्यता में चूक का ये बवाल फिल्म की पॉपुलेरिटी पर ब्रेक न लगा दे। ‘ब्रह्मास्त्र’ (Brahmastra) 9 सितंबर को रिलीज होने वाली है। मूवी तीन पार्ट में सिनेमाघरों में रिलीज की जाएगी।  

इसमें आलिया भट्ट, रणबीर कपूर सहित अमिताभ बच्चन, नागार्जुन और मौनी रॉय भी अहम किरदार में हैं। रणबीर कपूर मूवी में शिवा के लीड रोल में हैं। जबकि आलिया ईशा के किरदार में नजर दिखेंगी। मौनी रॉय फिल्म में विलेन का किरदार निभा रही हैं। 

Brahmastra | brahmastra trailer | brahmastra full movie | brahmastra story | brahmastra poster | brahmastra release date | 

आपको ये खबरें पसंद आ सकती हैं –

ये भी पढ़ें – सर गंगाराम ने बसाया था लाहौर‚ तो दिल्ली में वो एम्पीथियेटर बनाया जहां से क्वीन विक्टोरिया को भारत की महारानी घोषित किया गया

ये भी पढ़ें – ब्रिस्बेन की यूनिवर्सिटी का ये रिसर्च आपको सटीक बता देगा कि महिलाएं आखिर किस तरह के पुरुष ज्यादा पसंद करती हैं

ये भी पढ़ें –  यदि कहें कि जानवर भी समलैंगिक होते हैं तो क्या आप यकीन करेंगे, पढ़िए तथ्य और शोध पर आधारित पूरी खबर 

ये भी पढ़ें – क्या वाकई इलेक्ट्रिक कारें पर्यावरण के लिए बेहतर हैं? क्योंकि जर्मनी में इलेक्ट्रिक कार का जलवायु-सम्मत प्रभाव केवल कागज़ी रह गया है 

 ये भी पढ़ें -इन 5 सरकारी योजनाओं की मदद से महिलाएं अपना खुद का व्यवसाय शुरू कर सकती हैं

ये भी पढ़ें –  स्टालिन : ऐसा अत्याचारी जिसके मन में न्याय, दया या संवेदना रत्तीभर भी नहीं थी, किसी के लिए भी नहीं, उसके बीवी बच्चे भी उसके सामने थर थर कांपते थे  

ये भी पढ़ें –  कैंसर को हराने के बाद संजय दत्त की पहली तस्वीर: कोकिलाबेन अस्पताल से घर लौटे 61 वर्षीय संजू, वीडियो कॉल के जरिए बच्चों के जन्मदिन में शामिल हुए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *