लखीमपुर हिंसा की FIR…: चश्मदीद ने कहा- मंत्री का बेटा किसानों को रौंदता चला गया, वाहन पलटने के बाद भागकर गन्ने के खेत में छिप गया

 

लखीमपुर हिंसा की FIR...: चश्मदीद ने कहा- मंत्री का बेटा किसानों को रौंदता चला गया

यूपी के लखीमपुर में 3 अक्टूबर को हुई हिंसा में पुलिस ने केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा उर्फ ​​टेनी के बेटे आशीष मिश्रा उर्फ ​​मोनू और 15-20 अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। इसमें आईपीसी की धारा 147, 148, 149, 279, 338, 304-ए, 302 और 120-बी लगाई गई है। पूरी घटना के चश्मदीद रहे गांव बजरंतंडा नानपारा के किसान हरि सिंह ने एफआईआर में वहां का हर एक पल बयां किया है।

दावा :  महिंद्रा थार में बाईं सीट पर मंत्री का बेटा आशीष बैठा था


एफआईआर कॉपी के अनुसार 3 अक्टूबर 2021 को क्षेत्र के सभी किसान और मजदूर महाराजा अग्रसेन इंटर कॉलेज खेल मैदान तिकुनिया खीरी में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी और डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य के खिलाफ काले झंडे दिखाने के लिए शांतिपूर्वक धरना दे रहे थे।  घटना दोपहर करीब तीन बजे की है।

                                                       

                                       

उक्त केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री का पुत्र आशीष मिश्र उर्फ ​​मोनू अपने तीन फोर व्हीलर्स में 15-20 अज्ञात व्यक्तियों के साथ हथियारों से लैस आया और बनवारीपुर से सभा स्थल की ओर तेज गति से आया। अपनी थार महिंद्रा गाड़ी में बायीं सीट पर बैठे आशीष मिश्रा उर्फ ​​मोनू ने फायरिंग करते हुए भीड़ को रौंद डाला।

फायरिंग में किसान की मौत का दावा

फायरिंग में किसान की मौत का दावा

रिपोर्ट में आगे लिखा गया है, “गोलीबारी से किसान गुरविंदर सिंह पुत्र सुखवेंद्र निवासी ग्राम मत्रोनिया, नानपारा उम्र 22 वर्ष की मौके पर ही मौत हो गई। कुछ वाहन तेज गति से आगे बढ़े, जिससे सड़क के दोनों ओर खड़े किसानों को कुचल दिया गया। दो वाहनों के नंबर हैं- UP31AS1000 और UP32KM0036 और एक वाहन अज्ञात है (स्कॉर्पियो)।

फायरिंग में किसान की मौत का दावा

आशीष मिश्र उर्फ ​​मोनू की तेज रफ्तार वाहन अनियंत्रित होकर गड्ढों में पलट गई, जिससे कई राहगीर घायल हो गए. फायरिंग करते हुए आशीष मोनू गन्ने के खेत में छिप गया। अभी मिली जानकारी के मुताबिक कुल चार किसानों की मौत होना पाया गया है। 

जिनके नाम गुरविंदर सिंह उर्फ ​​सुखविंदर सिंह गांव मटरोनिया नानपारा, दलजीत सिंह पुत्र हरि सिंह ग्राम बंजारा टांडा, नक्षत्र सिंह पुत्र सुखा सिंह ग्राम नमदापुरवा धौरहरा और लवप्रीत सिंह पुत्र सतनाम सिंह ग्राम चौखरा फार्म पलियां कलां हैं. कई अन्य किसान घायल हैं।

मंत्री और बेटे ने की घिनौने कृत्य की साजिश

मंत्री और बेटे ने की घिनौने कृत्य की साजिश

मुकदमा कराने वाले वादी किसान हरि सिंह ने प्राथमिकी में बताया कि उक्त घटना आज पूर्व में मंत्री अजय मिश्र टेनी की ओपन बैठक में हुई जिसमें किसानों को राज्य से खदेड़ने की धमकी मिलने के बाद विरोध दर्ज कराने का प्रदर्शन किसानों ने किया था। 

उक्त वायरल वीडियो को लेकर भारत सरकार द्वारा मंत्री के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई है। घटना को मंत्री और उनके बेटे ने सुनियोजित तरीके से अंजाम दिया।

एक और नया वीडियो सामने आया



एक और नया वीडियो सामने आया

वहीं इधर लखीमपुर हिंसा की चिंगारी थमने का नाम नहीं ले रही है. एक के बाद एक नए ट्विस्ट सामने आ रहे हैं। अब इस मामले में एक नया वीडियो सामने आया है। इसमें एक घायल व्यक्ति पुलिस के सामने दावा कर रहा है कि काफिले में कांग्रेस के पूर्व सांसद अखिलेश दास का भतीजा अंकित दास भी उनकी फॉर्च्यूनर कार में था.

लखनऊ के हुसैनगंज में रहने वाले इस युवक का कहना है कि हम अंकित दास की गाड़ी में बैठे थे. वीडियो में शख्स बता रहा है कि वह अंकित दास के साथ काम करता है. वह लखनऊ से 5 लोगों के साथ लखीमपुर के कार्यक्रम में शामिल होने आया था। काफिले में उनके सामने थार जीप सड़क पर खड़े लोगों को कुचलती जा रही थी.

अंकित दास की काली फॉर्च्यूनर कार जीप का पीछा कर रही थी। इसी दौरान बाहर खड़ी भीड़ ने उन पर हमला कर दिया। उस व्यक्ति ने यह जानने से इनकार कर दिया कि थार जीप किसकी थी और उसमें कौन लोग थे।

टेनी के बेटे आशीष मिश्र समेत 14 पर एफआईआर

वहीं 3 अक्टूबर को हुई दिल दहला देने वाली हिंसा में 4 किसानों समेत 8 लोगों की जान चली गई. यूपी सरकार ने अधिकारियों को हर किसान के परिवार को 45 लाख रुपये का चेक देने का निर्देश दिया है. पुलिस ने केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा समेत 14 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है. हालांकि अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है।

Eyewitness Farmer Said The Minister’s Son Trampled The Farmers While Firing | Lakhimpur Kheri Update | Lakhimpur Kheri latest News | Lakhimpur Kheri | Lakhimpur Kheri Farmers protest | 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *