राजस्थान उपचुनावों में कांग्रेस की जीत के मायने: राजनीतिक नियुक्तियों में आलाकमान का गहलोत को फ्री हैंड,सचिन पायलट कैंप पर अब इसका क्या होगा असर

राजनीतिक नियुक्तियों में आलाकमान का गहलोत को फ्री हैंड

वल्लभनगर और धरियावद सीटों पर हुए उपचुनाव और अलवर-धौलपुर पंचायती राज चुनाव में कांग्रेस की जीत का असर अब पार्टी की अंदरूनी राजनीति पर भी पड़ेगा। हालांकि अब कैबिनेट विस्तार और राजनीतिक नियुक्तियों का मामला थोड़ा आगे खिसक सकता है।

उपचुनाव की जीत ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को राजनीतिक रूप से मजबूत बना दिया है और अब उन्हें कुछ हद तक सुरक्षित भी कर दिया है। गहलोत को अब इन फैसलों के लिए कांग्रेस आलाकमान से काफी हद तक छूट मिल सकती है।

अब सचिन पायलट खेमे की मांगों को जल्द पूरा करने को लेकर संशय पैदा हो गया है. पायलट खेमा कैबिनेट, राजनीतिक नियुक्तियों और संगठन में बराबर का हिस्सा चाहता है। 

पायलट कैंप की मांगों को लेकर अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी में चर्चा हो चुकी है। अशोक गहलोत फिलहाल राजनीतिक रूप से मजबूत हो गए हैं, इसलिए वह अपने खेमे के लिए और पक्ष लेने की स्थिति में होंगे।

गहलोत खेमे के विधायकों पर भी मंत्री बनने का समान दबाव

बसपा से कांग्रेस में शामिल हुए छह विधायक, सरकार का समर्थन कर रहे निर्दलीय विधायक और गहलोत खेमे के कांग्रेस के वरिष्ठ विधायक भी मंत्री पद के लिए दावेदारी कर रहे हैं। गहलोत समर्थक विधायक भी लगातार पैरवी कर रहे हैं। 

अब अगर पायलट खेमा सरकार में शामिल होने के लिए और विधायकों पर दबाव बनाएगा तो गहलोत खेमा भी इसका दावा करेगा। उपचुनाव और पंचायती राज चुनाव के बाद गहलोत खेमे का विश्वास बढ़ा है।

उपचुनाव की जीत ने दी कई मंत्रियों को जीवनदान

उपचुनाव की जीत ने कई मंत्रियों को जीवनदान दिया है। इससे पहले जिन मंत्रियों को मंत्रिमंडल से बाहर करने के लिए चर्चा तेज हुई थी, उन मंत्रियों को भी जीवनदान मिला है। कुछ मंत्री जिनके नाम हटा दिए गए थे, वे पायलट कैंप के निशाने पर थे। 

अब बदले हुए हालात में ऐसा भी हो सकता है कि मुख्यमंत्री बिना किसी को गिराए ही विस्तार करें। अगर आलाकमान स्तर से हस्तक्षेप नहीं हुआ तो सीएम गहलोत अपने समय और अपने फॉर्मूले से कैबिनेट विस्तार और राजनीतिक नियुक्तियां करेंगे।

कांग्रेस में और तेज होने की संभावना

सीएम अशोक गहलोत का खेमा भले ही दो जिलों में उपचुनाव और प्रमुख चुनावों में जीत के बाद मजबूत हुआ हो, लेकिन इससे कांग्रेस में खींचतान बढ़ने की संभावना है। सचिन पायलट खेमे के मंत्रिमंडल के विस्तार से लेकर राजनीतिक नियुक्तियों में उनके हिस्से की मांग प्रमुखता से होगी। 

गहलोत अड़े रहे तो फैसला फिर अटक सकता है। ताजा घटनाक्रम से राजनीतिक समीकरण गहलोत के पक्ष में हैं। पायलट कैंप उनकी मांगों से पीछे नहीं हटेगा। राजनीतिक संतुलन के अभाव में दोनों खेमों के बीच खींचतान तेज हो सकती है।

Ashok Gehlot Now More Powerfull |  Rajasthan Politics 2021 | Rajasthan Congress | Ashok Gehlot Sarkar | Rajasthan upchunav Impact | 

Was This Article Helpful?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *