Russia-Ukrainian War Live: यूक्रेन के चेर्नोबिल एटमी ठिकाने पर रूसी हमले, यूरोपिय यूनियन की रूस की इकॉनॉमी तबाह करने की तैयारी

Russo-Ukrainian War LIVE:

लंबे तनाव के बाद रूस ने गुरुवार सुबह साढ़े आठ बजे यूक्रेन (Ukrainian) पर हमला बोल दिया। (Russia-Ukrainian War Live) रूसी सैनिक यूक्रेन की राजधानी कीव तक पहुंच चुके हैं। अब तक 54 यूक्रेनी सैनिक और 10 नागरिक मारे जा चुके हैं। वहीं, यूक्रेन ने रूस के 50 सैनिकों को मारने और 6 फाइटर जेट्स-टैंक्स तबाह करने का दावा किया है। कीव में यूक्रेन का एक फाइटर जेट क्रैश हो गया। 

14 सैनिकों के मारे जाने की पुष्टि हो चुकी है। न्यूज एजेंसी के मुताबिक, आज देर रात प्रधानमंत्री मोदी रूसी राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन से बात कर सकते हैं।

यूक्रेन पर रूस की कार्रवाई के बीच नई दिल्ली में यूक्रेन राजदूत मीडिया के सामने आए और PM नरेंद्र मोदी से मदद करने की गुहार लगाई। उन्होंने कहा कि मोदी वर्ल्ड लीडर हैं और अपने रसूख का इस्तेमाल करते हुए वे रूस के राष्ट्रपति से बातचीत के​ लिए पहल करें। 

Terrifying. #Ukraine #Russia pic.twitter.com/VF6SmXjS1K

— Ω (@w4rw4tcher) February 24, 2022

रूस की डिफेंस मिनिस्ट्री ने क्या कहा

रूसी रक्षा मंत्रालय ने हमला शुरू करने के 12 घंटे बाद देर शाम को बयान जारी कर दिनभर की अपडेट दी। कहा- हवाई हमलों में यूक्रेन के 74 सैन्य ठिकानों को तबाह कर दिया गया। इनमें 11 एयरफील्ड, तीन कमांड सेंटर, एक नेवी पोस्ट, 18 एस-300 रडार और बुक एयर डिफेंस सिस्टम शामिल हैं। एक अटैक हेलीकॉप्टर और चार स्ट्राइक ड्रोन भी मार गिराए गए हैं।

उधर, अमेरिका और यूरोपीय यूनियन (EU) सैन्य और आर्थिक हमले की तैयारी में जुट गए हैं। EU प्रेसिडेंट उर्सला वान डेर लिन ने बयान में कहा है कि रूस की इकोनॉमी को तबाह कर दिया जाएगा।

Twitter/MichaelHolmes

यूक्रेन पर तीन तरफ से हमला

यूक्रेन ने बयान में कहा कि हम पर तीन तरफ से…रूस, बेलारूस और क्रीमिया बॉर्डर की ओर से हमला किया गया है। लुहांस्क, खार्किव, चेरनीव, सुमी और जेटोमिर स्टेट में रूस के निरंतर हमले जारी हैं। रूस की ग्राउंड फोर्सेज यूक्रेन में प्रवेश कर कर वहां के कई गांवों पर कब्जा कर लिया है। 

रूस के कमांडो पैराट्रूपर्स यूक्रेन के मिलिट्री इंस्टॉलेशन्स के करीब उतरकर इनको अपने कब्जे में लेने की कार्रवाई कर रहे हैं। यूक्रेन ने दावा किया है कि उसने रूस के 50 सैनिक मार गिराए हैं। वहीं 6 फाइटर जेट्स और 4 टैंक्स तबाह कर दिए हैं।

चेर्नोबिल पर रूस की ओर से कब्जे की कोशिश क्यों

चेर्नोबिल में बंद पड़ा एटमी पॉवर प्लांट है। 1986 में यहां हुए धमाके के कारण रेडिएशन का असर अब तक यहां की वाइल्डलाइफ पर देखा जाता है। ये फिलहाल बंद है, लेकिन अब तक एटमी वेस्ट (परमाणु कचरा) मौजूद है। यदि यहां हमला होता है तो फिर रेडिएशन फैल सकता है और खतरा यह है कि जो लोग बम और मिसाइल से बच जाएंगे, वो रेडिएशन से नहीं बच पाएंगे। यही वजह है कि यूक्रेन के राष्ट्रपति वोल्दिमिर जेलेंस्की ने दुनिया को आगाह किया है कि रूस के इरादे कितने भयानक हैं। इस इलाके में गुरुवार रात तक लड़ाई जारी थी।

Ukrainian families fleeing Russia’s attack in Kyiv were stuck in traffic for miles on the capital’s longest avenue. Many were heading west and hoping to find safety in parts of the country closer to Poland and NATO troops. https://t.co/XGZSJMopOh pic.twitter.com/I2cPo8ua2J

— The New York Times (@nytimes) February 24, 2022

पुतिन की युद्ध की घोषणा के बाद तुरंत हमला- धमकी भी दी, रूस और यूक्रेन के बीच किसी भी देश ने दखल दिया तो इसका अंजाम बहुत बुरा होगा

युद्ध से पहले रूस के राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन ने रशियन नेशनल टेलीविजन पर हमले की घोषणा की। पुतिन ने कहा- रूस और यूक्रेन के बीच किसी भी देश ने दखल दिया तो इसका अंजाम बहुत बुरा होगा। उनका इशारा अमेरिका और NATO फोर्सेज की तरफ था। 

बयान के 5 मिनट बाद ही यूक्रेन की राजधानी कीव समेत कई प्रांतों में 12 धमाके हुए। कीव पर मिसाइल अटैक भी हुआ। वहां एयरपोर्ट बंद कर दिया गया। इस कदम के चलते यूक्रेन में फंसे भारतीयों के लिए रेस्क्यू मिशन भी रोकना पड़ा। यूक्रेन गई एअरइंडिया की फ्लाइट डेंजर जोन अलर्ट के चलते लौट आई है।

पुतिन ने यूक्रेन के खिलाफ युद्ध को मिलिट्री एक्शन बताया, न कि आक्रमण

पुतिन ने हमले में एक चालाकी और चली। उन्होंने गुरुवार को जंग का ऐलान तो किया, लेकिन इसे यूक्रेन के विरुद्ध मिलिट्री एक्शन बताया। पुतिन ने इसे आक्रमण या युद्ध नहीं कहा। 

मिलिट्री एक्शन और आक्रमण में फर्क होता है। आधिकारिक तौर पर मिलिट्री एक्शन को किसी इलाके में स्थिति को संभालने के लिए लिया गया एक्शन माना जाता है। पुतिन ने भी यही किया।

पुतिन ने अपने संबोधन में कहा है, ‘पूर्वी यूक्रेन में नागरिकों की रक्षा के लिए हमले की जरूरत थी, यूक्रेन के सैनिक अपने हथियार डाल दें। 

पुतिन ने कहा है कि रूस का इरादा यूक्रेन पर कब्जा करने का नहीं है। पुतिन इसके जरिए दुनिया को ये बताना चाहते हैं कि हमने किसी देश पर हमला या आक्रमण नहीं किया है।

यही वजह है कि यूक्रेन पर पुतिन की कार्रवाई के बाद भी अमेरिका और यूरोप के देश रूस को सिर्फ धमकाते ही रह गए। रूस ने पहले पूर्वी यूक्रेन के इन दोनों क्षेत्रों को अलग देश की मान्यता दी है और अब यूक्रेन के सैनिकों को वहां से हटाने का काम शुरू कर दिया है।

Photo courtesy | AP

इस युद्ध पर किसने क्या प्रतिक्रिया दी

अमेरिका: प्रेसिडेंट बाइडेन ने कहा है कि रूस के खिलाफ दुनिया के एकजुट होने का समय आ गया है। हम किसी भी कीमत पर दुनिया को तबाह नहीं होने दे सकते। रूस ने खुद ही बातचीत के रास्ते बंद किए हैं।

Prayers of the entire world are with the people of Ukraine tonight as they suffer an unprovoked & unjustified attack by Russian military forces. President Putin has chosen a premeditated war that will bring a catastrophic loss of life and human suffering: US President Joe Biden pic.twitter.com/OdyHXAWtzm

— ANI (@ANI) February 24, 2022

EU : यूरोपीय यूनियन कमीशन की प्रेसिडेंट उर्सला वान डेर लिन ने पहली बार सामने आई और रूस को खुली धमकी दी। लिन ने कहा- अब जवाब देने का समय आ गया है। अब हम रूस की इकोनॉमी को तबाह कर देंगे। उसकी इकोनॉमी को इतना कमजोर कर देंगे कि वो मिलिट्री मॉर्डनाइजेशन तो दूर वो मूलभूत चीजों के लिए भी तरस जाएगा। पूरे यूरोप में रूस के एसेट्स और बैंक एकाउंट्स फ्रीज किए जा रहे हैं। इस मामले में हम पूरी तरह अमेरिका और अपने दूसरे सहयोगियों की मदद कर रहे हैं।

Russo-Ukrainian War LIVE:
खार्किव शहर के कई लोग घायल हो गए। इस महिला की तरह कई लोगों को भी काफी चोटें आईं।  photo |  twitter  

NATO : नाटो के मिलिट्री चीफ ने कहा- यूक्रेन हमारे संगठन का मेंबर नहीं है। ऐसे में हम उसकी सीधे तौर पर सैन्य मदद नहीं कर सकते, लेकिन इसके अलावा कई दूसरे रास्ते हैं और उसके जरिए यूक्रेन को सहायता दी जा रही है।

NATO condemns Russia’s invasion of Ukraine in the strongest terms. We call on Russia to immediately seize its military action & withdraw from Ukraine: NATO Secretary-General Jens Stoltenberg pic.twitter.com/jCEmUVjt31

— ANI (@ANI) February 24, 2022

यूक्रेन की अपील : यूक्रेन के दिल्ली में एम्बेसेडर ने भारत के PM नरेंद्र मोदी से इस मामले में दखल देने की अपील की है। यूक्रेन के एम्बेसेडर ने कहा- भारत ने हमेशा सही बात का पक्ष लिया है। हम उम्मीद करते हैं कि प्राइम मिनिस्टर मोदी इस मामले को सुलझाने और हमारे लोगों की जान बचाने में मदद करेंगे। भारत और यूक्रेन के बीच पुराने रिश्ते हैं। प्रधानमंत्री मोदी का दुनिया में रसूख है। उन्हें पुतिन से बातचीत करनी चाहिए।

यूक्रेन-रूस युद्ध से जुड़े अहम अपडेट्स…

  • रूस-यूक्रेन क्राइसिस में चीन एक बार फिर रूस के सपोर्ट में नजर आया है। चीन के विदेश मंत्रालय ने गुरुवार को कहा कि अमेरिका और पश्चिमी देशों ने रूस पर जो प्रतिबंध लगाए हैं, उनका कोई ओचित्य नहीं है, इस तरह की के एक्शन से विवाद हल होने के बजाय और बढ़ेंगे।

  • यूक्रेन में भारतीय राजदूत ने कहा कि कीव में इंडियन एम्बेसी बंद नहीं की जाएगी। यह पहले की तरह काम करती रहेगी। वहीं, विदेश राज्यमंत्री वी. मुरलीधरन ने कहा- विदेश मंत्रालय यूक्रेन से छात्रों सहित लगभग 18,000 भारतीयों को वापस लाने के लिए जरूरी स्टेप ले रहा है। यूक्रेन में हवाई एरिया ब्लॉक हैं इसलिए भारतीय नागरिकों को निकालने के लिए दूसरे विकल्प तलाशे जा रहे हैं। 
Russo-Ukrainian War LIVE:
Source: Reuters

  • कीव के करीब स्थित यूक्रेन का मिलिट्री एयरक्राफ्ट क्रैश हो गया है। इसमें 14 सैनिकों के मारे जाने का खबर है। यह जानकारी यूक्रेन के सरकारी मीडिया की तरफ से ही जारी की गई है।

  • यूक्रेन के राष्ट्रपति वोल्दोमिर जेलेंस्की ने दो अहम ऐलान किए हैं। पहला- यूक्रेन अब रूस के साथ किसी तरह के डिप्लोमैटिक रिलेशन नहीं रखेगा। दूसरा- यूक्रेन के नागरिकों को जंग में हिस्सा लेना चाहिए। सरकार उनको हथियार मुहैया कराएगी।

  • रूसी सेना ने दावा किया है कि यूक्रेन के सैनिक अहम बंकरों और बेस को छोड़कर भाग खड़े हुए हैं और इन पर अब रूस का कब्जा है। कुछ मिलिट्री बेस भी रूसी सैनिकों ने हथिया लिए हैं।

Russo-Ukrainian War LIVE:
 ये फोटो उत्तर-पूर्व यूक्रेन के शहर खार्किव की है। यहां भी कई धमाके हुए।

  • रूस ने कहा- हमने यूक्रेन के एयरबेस और एयर डिफेंस को तबाह किया है। पूर्वी यूक्रेन में दो गांवों पर कब्जा भी कर लिया है।

  • यूक्रेन ने कहा- हम पर तीन तरफ से… रूस, बेलारूस और क्रीमिया बॉर्डर की ओर से हमला किया गया है। लुहांस्क, खारकीव, चेरनीव, सुमी और जेटोमिर इलाकों पर हमले हुए।

  • यूक्रेन से भारतीयों को लाने के लिए गई एअर इंडिया की फ्लाइट बेरंग लौट आई। फ्लाइट को नोटिस टू एयर मिशन यानी NOTAM भेजा गया था। यानी फ्लाइट के दौरान खतरे की आशंका जाहिर की गई थी। यूक्रेन में मार्शल लॉ लागू यानी वहां की कानून-व्यवस्था अब सेना ने अपने हाथ में ले ली है।

  • यूक्रेन की राजधानी कीव में कई जगहों पर बम धमाके हुए हैं। कीव एयरपोर्ट को खाली कराया गया।

  • रूस के हमले के बीच यूक्रेन के ऑफिशियल ट्विटर हैंडल से पुतिन और हिटलर का कार्टून ट्वीट किया गया है। इसमें हिटलर मुस्कराते हुए पुतिन की तरफ देख रहा है और उनके गाल पर हाथ रखे हुए है। यूक्रेन की इस हरकत का सोशल मीडिया पर विरोध हो रहा है। ज्यादातर लोगों का कहना है कि यह वक्त राजनीतिक तौर पर तंज कसने का नहीं है। जंग शुरू हो चुकी है और कम से कम अब तो गंभीरता दिखाई जानी चाहिए।

रूस का दावा- यूक्रेनी शहर निशाना नहीं, सैन्य ठिकाने तबाह कर रहे हैं

यूक्रेन में मिसाइल अटैक और धमाकों के बीच रूस ने बयान जारी किया है। रूस ने कहा कि हमारे निशाने पर यूक्रेन के शहर नहीं है। हमारे हथियार यूक्रेन के सैन्य ठिकानों, एयरफील्ड, एयर डिफेंस फैसिलिटीज और एविएशन को तबाह कर रहे हैं। यूक्रेन की जनता पर कोई खतरा नहीं है।

UN में लिया जा सकता है रूस के खिलाफ फैसला

पुतिन ने ये ऐलान UNSC की बैठक की बीच किया है। यह बैठक रूस-यूक्रेन तनाव पर ही चल रही है, अब रूस पर कड़ी कार्रवाई का फैसला लिया जा सकता है। US सेंट्रल इंटेलिजेंस एजेंसी के पूर्व निदेशक डेविड पेट्रियस ने कहा- कोल्ड वॉर खत्म होने के बाद पुतिन ने NATO को सबसे बड़ा तोहफा दे दिया है। इस खतरे की वजह से NATO फिर से एकजुट हो गया है। पुतिन रूस को महान बनाना चाहते है, लेकिन उन्होंने अपनी हरकत से NATO को फिर से महान बना दिया।

There are a lot of good and brave people in Russia. https://t.co/XLDQs5Ao7S

— Gary Lineker 💙 (@GaryLineker) February 24, 2022

यूक्रेन में नेशनल इमरजेंसी की घोषणा

यूक्रेन में नेशनल इमरजेंसी की घोषणा

रूसी हमले के कारण यूक्रेन की संसद ने नेशनल इमरजेंसी का ऐलान ​कर दिया है। इमरजेंसी के ऐलान के साथ ही यूक्रेन ने अपने 30 लाख लोगों को फौरन रूस छोड़ने के लिए कहा है। रूस ने बुधवार को यूक्रेनी बैंकों और रक्षा, विदेश, आंतरिक सुरक्षा जैसी अहम वेबसाइट पर साइबर अटैक किया। डिप्टी पीएम फेदोरोव ने कहा रूस को हम मुंहतोड़ जवाब देंगे।

कब कब रूस ने यूक्रेन को  लेकर क्या रणनीति बनाई

यूक्रेन विरोधी ताकतों को रूस ने पहले समर्थन दिया। फिर डोनेट्स्क और लुहांस्क को दी मान्यता हालांकि, ये सिर्फ शुरुआत थी। रूस ने इसी प्लान को आगे बढ़ाते हुए यूक्रेन को भी घेरना चालू रखा। पूर्वी यूक्रेन के डोनेट्स्क और लुहांस्क को लेकर भी रूस ने क्रीमिया वाली रणनीति अपनाई। 

2014 में ही रूस समर्थक अलगाववादियों ने डोनेट्स्क और लुहांस्क को यूक्रेन से अलग देश घोषित कर दिया। दोनों जगह यूक्रेन के साथ-साथ अलगाववादियों की भी सरकार चलती रही। रूस ने भी इसका अंदरखाने पूरा समर्थन किया।

पासपोर्ट के जरिए डोनेट्स्क और लुहांस्क के 8 लाख से ज्यादा लोगों को दी रूसी नागरिकता

2014 में ही ये साफ हो गया था कि रूस क्रीमिया को कब्जाने के बाद अब यूक्रेन के लिए मुसीबत खड़ी करने वाला है। 2019 में जब यूक्रेन के राष्ट्रपति व्लादिमीर जेलेंस्की बने तो रूस ने डोनेट्स्क और लुहांस्क में अपनी पासपोर्ट रणनीति पर काम शुरू कर दिया। 

दोनों क्षेत्रों में रूसी भाषी नागरिकों की संख्या ज्यादा है। ये लोग खुद को रूस के ज्यादा नजदीक मानते हैं, वहीं यूक्रेनी सरकार इन्हें अलगाववादियों के रूप में देखती है।

रूस की सरकार का आरोप है कि यूक्रेनी सरकार इन इलाकों में बड़े पैमाने पर हिंसा कर रही है। रूस ने इन दोनों देशों में बसे करीब 8 लाख लोगों को पासपोर्ट के जरिए रूस की नागरिकता देनी शुरू कर दी। ये वहां की कुल आबादी का 18% हिस्सा है। 

इसके अलावा रूस ने इन इलाकों में गुप्त सैन्य सहायता, वित्तीय मदद, कोरोना वैक्सीन की आपूर्ति भी की। हालांकि रूस इन लोगों की सहायता से हमेशा से इनकार करता रहा है।

Russia Ukraine War Situation LIVE Update | Vladimir Putin | Kyiv Donetsk Luhansk News | Russian Military Operation In Ukraine Latest News | Ukraine Russia War Updates | Russian Forces Military Operation In Ukraine Kyiv | 

Like and Follow us on :

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *