सिंघू बॉर्डर हत्याकांड में अब तक 4 आरोपित पुलिस ​की हिरासत में : कुंडली सीमा पर 2 निहंगों ने किया सरेंडर, निहंग नारायण और सरबजीत पहले हो चुके हैं सरेंडर

सिंघू बॉर्डर हत्याकांड में अब तक 4 आरोपित पुलिस ​की हिरासत में
अमृतसर में हिरासत में लिए जाने के बाद पुलिस की गाड़ी में बैठने से पहले नारे लगाता नारायण सिंह।

सिंघू बॉर्डर पर तरनतारन के चीमा गांव निवासी लखबीर सिंह की हत्या के मामले में चार आरोपियों ने सरेंडर कर दिया है। शनिवार की शाम को भगवंत सिंह और गोबिंद सिंह नाम के दो निहंगों ने कुंडली सीमा पर पुलिस के सामने आत्मसमर्पण कर दिया।

सरेंडर करने से पहले दोनों ने डेरे में श्री गुरु ग्रंथ साहिब के सामने अरदास की। शनिवार शाम सोनीपत पुलिस की एक टीम आत्मसमर्पण करने वाले निहंगों को लेने सिंघू बॉर्डर पर निहंगों के तंबू पर पहुंची और करीब 45 मिनट बाद दोनों को वहां से ले गई।

सिंघू बॉर्डर हत्याकांड में अब तक 4 आरोपित पुलिस ​की हिरासत में
शनिवार रात को सरेंडर करने वाले निहंग भगवंत सिंह और गोबिंद सिंह।

शुक्रवार सुबह सिंघू बॉर्डर पर लखवीर सिंह की हत्या में अब तक कुल 4 निहंगों ने आत्मसमर्पण कर दिया है। इनमें से सरबजीत सिंह ने हत्या के 15 घंटे बाद शुक्रवार शाम को ही सरेंडर कर दिया था, जबकि 3 निहंगों ने शनिवार को सरेंडर किया है। शनिवार को नारायण सिंह ने अमृतसर में और भगवंत सिंह और गोबिंद सिंह ने सिंघू बॉर्डर पर कुंडली पुलिस के सामने आत्मसमर्पण किया।

सोनीपत के एसपी जशनदीप रंधावा ने बताया कि कुंडली पुलिस और सोनीपत क्राइम ब्रांच की टीम शनिवार रात को ही सोनीपत सिविल अस्पताल में किए गए दोनों निहंगों का मेडिकल करवाया जाएगा। 

दिल्ली के निहंग नारायण सिंह ने अमृतसर में किया सरेंडर

दिल्ली के निहंग नारायण सिंह को उनके आत्मसमर्पण के बाद अमृतसर में देवीदास पुरा गुरुद्वारे के बाहर से हिरासत में लिया गया था। पुलिस ने कहा कि नारायण सिंह के अमृतसर पहुंचने की खबर मिलते ही इलाके की घेराबंदी कर दी गई। गुरुद्वारे से बाहर निकलते ही पुलिस ने उसे हिरासत में ले लिया। वहीं पहले सरेंडर करने वाले सरबजीत को सिंघू बॉर्डर के टेंट से हिरासत में लिया गया।

निहंग नारायण सिंह ने लखबीर का पैर काटने की बात कबूली
शुक्रवार को सरेंडर करने वाला निहंग सरबजीत सिंह।

निहंग नारायण सिंह ने लखबीर का पैर काटने की बात कबूली

निहंग नारायण सिंह ने कबूल किया कि उसने लखबीर सिंह का पैर काटा था, निहंग ने बताया कि वह दशहरा मनाने के लिए अमृतसर से निकला था। सिंह शुक्रवार सुबह करीब पांच बजे सीमा पर पहुंचा। वहां मौजूद लोगों ने उसकी कार पर हाथ मारना शुरू कर दिया। 

बाहर आने पर लोगों ने बताया कि लखबीर ने गुरु ग्रंथ साहिब का अपमान किया है। उन्होंने उपस्थित लोगों से पूछा कि क्या लखबीर अभी भी जीवित हैं। लखबीर को देखा तो उसका हाथ कटा हुआ था। इसके बाद नारायण ने तलवार से लखबीर का पैर काट दिया  और करीब आधे घंटे बाद उसकी मौत हो गई।

नारायण को लखबीर की हत्या का कोई अफसोस नहीं है

अमृतसर में हिरासत में लिए गए निहंग नारायण सिंह ने कहा, ‘लखबीर सिंह ने गुरु का अपमान किया था, इसलिए उन्होंने जो किया वह सही किया। सरबजीत सिंह दोषी है तो मैं भी दोषी हूं। मैंने भी सरबजीत सिंह के साथ समान रूप से सहयोग किया है। 2014 से गुरुओं का अपमान हो रहा है। गुरु ग्रंथ साहिब के अपमान की कितनी घटनाएं सामने आईं, लेकिन पुलिस ने सहयोग नहीं किया। 

किसी भी आरोपित के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई। इस घटना में आरोपित खुलेआम पकड़ा गया और निहंग जत्थेबंदियों ने उस समय जो ठीक समझा, वही किया। ऐसे में मैं भी सरबजीत की तरह ही दोषी हूं।

सोनीपत पुलिस की टीम अमृतसर के लिए रवाना
निहंग नारायण सिंह को पंजाब पुलिस ने हिरासत में ले लिया है।


सोनीपत पुलिस की टीम अमृतसर के लिए रवाना

सोनीपत के डीएसपी वीरेंद्र सिंह ने बताया कि उन्हें अमृतसर में निहंग नारायण सिंह के आत्मसमर्पण की सूचना वहां की पुलिस से मिली थी। सोनीपत पुलिस की एक टीम को अमृतसर भेजा गया है, जो निहंग नारायण सिंह को ट्रांजिट रिमांड पर लाएगी। 

सिंह ने कहा कि सरबजीत और नारायण सिंह से यहां आमने-सामने पूछताछ की जाएगी, जिससे जांच में तेजी आएगी. इन दोनों से यह भी पता चल सकेगा कि इस हत्याकांड में इनके साथ और कौन शामिल था।

संगत अमृतसर में सरेंडर कराना चाहती थी

दिल्ली के निहंग नारायण सिंह सरेंडर करने के लिए सुबह सिंघू बॉर्डर से निकले थे। नारायण सिंह ने कहा कि संगत ने उन्हें अमृतसर में सरेंडर करने को कहा था। इसके बाद वह अमृतसर पहुंचे। जानकारी के मुताबिक वह पुलिस से छिपकर देवीदास पुरा पहुंचा था।

अरदास के बाद नारायण ने किया आत्मसमर्पण

नारायण सिंह के आने की खबर मिलते ही पुलिस ने दोपहर में ही गांव को घेर लिया था. इसके बाद नारायण ने कहा कि अरदास के बाद वह आत्मसमर्पण कर देंगे। अरदास के बाद उन्होंने गुरुद्वारा साहिब से बाहर आकर आत्मसमर्पण कर दिया। 

अमृतसर ग्रामीण एसएसपी राकेश कौशल का कहना है कि फिलहाल निहंग नारायण सिंह उनकी हिरासत में हैं। हरियाणा पुलिस के अमृतसर पहुंचते ही उन्हें सौंप दिया जाएगा। पुलिस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर पूरे घटनाक्रम की जानकारी देने की बात कही है।

सिंघू सीमा पर युवक की हत्या के 15 घंटे बाद शुक्रवार तड़के एक निहंग ने पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया. कुंडली थाने की पुलिस टीम शुक्रवार शाम छह बजे सिंघू बार्डर स्थित निहंगों के तंबू पर पहुंची। 

वही टीम सरबजीत सिंह नाम के निहंग को हिरासत में लेकर आई थी। इसे शनिवार को अदालत में पेश किया गया, जहां से उसे 7 दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया गया।

सिंघू बॉर्डर पर हत्या के मामले में सरेंडर करने वाला निहंग सरबजीत सिंह शनिवार को कोर्ट में पेश होने के बाद भड़क गया। कोर्ट रूम से कार में ले जाते समय मीडियाकर्मियों के धक्कामुक्की से पगड़ी गिरने पर निहंग गुस्से में गाली-गलौज करने लगा। इससे पहले पुलिस ने शनिवार को सरबजीत को कोर्ट में पेश कर 7 दिन का रिमांड लिया था।

सरेंडर करने वाले निहंग सरबजीत ने मीडिया से किया गाली - गलौज

सरेंडर करने वाले निहंग सरबजीत ने मीडिया से किया गाली – गलौज

पेशी के बाद जैसे ही पुलिस की टीम कोर्ट रूम से निहंग सरबजीत सिंह को लेकर कार की ओर निकली, वहां पहले से मौजूद मीडियाकर्मी उनकी ओर दौड़ पड़े. कार के पहुंचने पर पुलिस टीम को मीडियाकर्मियों ने घेर लिया। पुलिस टीम ने जैसे ही कार का पिछला दरवाजा खोलकर सरबजीत को बैठाना शुरू किया, 

मीडियाकर्मियों के धक्का-मुक्की के बीच उसकी पगड़ी उतर गई. इससे सरबजीत भड़क गया और कार का दरवाजा पकड़कर खड़ा हो गया और गाली-गलौज करने लगा। 

करीब एक मिनट तक सरबजीत गाली-गलौज करता रहा। पुलिसकर्मियों ने मीडिया वालों को थोड़ा पीछे धकेला और सरबजीत को समझाइश देकर कार में बिठाया। दरवाजा बंद करने के बाद पुलिस कार लेकर चली गई।

दोपहर 1:15 बजे निहंग को लेकर कोर्ट पहुंची पुलिस

पुलिस दोपहर 1.15 बजे सरबजीत सिंह को लेकर सोनीपत कोर्ट पहुंची। सिविल जज जूनियर डिवीजन किमी सिंगला की अदालत में दोपहर 1:30 बजे सुनवाई शुरू हुई. पुलिस का तर्क था कि आरोपी निहंग ने अपना गुनाह कबूल कर लिया है, लेकिन लखवीर सिंह की हत्या में इस्तेमाल हथियार अभी बरामद नहीं हुए हैं।

गुरदासपुर व चमकौर साहिब को ले जाएगी पुलिस

पुलिस ने बताया कि हत्याकांड में सरबजीत सिंह से जुड़े अन्य लोगों की भी पहचान कर ली गई है. उनकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस को उन्हें पंजाब के गुरदासपुर और चमकौर साहिब इलाकों में ले जाना पड़ सकता है. अभी तक आरोपी के साथ क्राइम सीन का दौरा नहीं हुआ है, इसलिए उसे रिमांड पर लिया जाए। बंद कमरे में एक घंटे तक चली बहस के बाद कोर्ट ने निहंग सरबजीत सिंह को 7 दिन के पुलिस रिमांड पर भेज दिया।

| Nihang Narayan Singh Surrender Outside The Akal Takht | Nihang Narayan Singh Surrender | The Police Stir In Jaddi Village | Police Trying To Get Remand For 5 Days | Claims Some More Nihang Sikhs Involved In The Incident Have Been Identified | 

Was This Article Helpful?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *