भगोड़े आतंकवादी हरदीप सिंह निज्जर पर 10 लाख का इनाम घोषित

 

Hardeep Singh Nijjar
Photo | ANI

जालंधर में एक हिंदू पुजारी को मारने के लिए आतंकवादी हरदीप सिंह निज्जर (Hardeep Singh Nijjar) पर NIA ने 10 लाख रुपए का ​इनाम घोषित किया है। बता दें कि (Khalistani terrorist Hardeep Singh Nijjar) हरदीप सिंह निज्जर खालिस्तान टाइगर फोर्स (KTF) की ओर से रची गई साजिश में वांछित है। ऐसे में एनआईए ने भगोड़े आतंकवादी हरदीप सिंह निज्जर पर एनआईए ने 10 लाख रुपये का नकद इनाम घोषित किया है।

NIA declares a cash reward of Rs 10 lakhs on fugitive terrorist Hardeep Singh Nijjar, wanted in the conspiracy hatched by Khalistan Tiger Force (KTF) operating under Nijjar, to kill a Hindu priest at Jalandhar: NIA pic.twitter.com/0Z0d2Wjcbt

— ANI (@ANI) July 22, 2022

 बीते साल नवंबर में NIA ने दाखिल की थी चार्जशीट

गौरतलब है कि राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने पिछले साल नवंबर में कनाडा के रहने वाले खालिस्तानी आतंकवादी हरदीप सिंह निज्जर (Khalistani terrorist Hardeep Singh Nijjar) के विरुद्ध भारत में आतंकवादी गतिविधियों में संलिप्त होने को लेकर आरोप में आरोप पत्र दाखिल किया था। इसके तहत हरदीप के खिलाफ नई दिल्ली में NIA स्पेशल कोर्ट के समक्ष भारतीय दंड संहिता की धारा 120-बी, 153-बी और गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम की धारा 13,17,18,20,38 और 40 के तहत चार्जशीट लगाई गई थी। 

भगोड़ा आतंवादी हरदीप सिंह निज्जर। फोटोः सोशल मीडिया।

कौन है हरदीप सिंह निज्जर (who is hardeep singh nijjar?)

मूल रूप से पंजाब राज्य जालंधर से ताल्लुक रखने वाला निज्जर वर्तमान में कनाडा में रहकर भारत के खिलाफ आतंकी गतिविधियों में संलिप्त है। बता दें कि निज्जर के खिलाफ जो मामला है वो प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन बब्बर खालसा इंटरनेशनल (बीकेआई) (Babbar Khalsa International) के निज्जर और अन्य की ओर से भारत में आतंकवादी गतिविविधयों को अंजाम देने को लेकर रची गई साजिश से जुड़ा है।  

हरदीप सिंह निज्जर खालिस्तानी आतंकी है। पिछले कई साल से वो पंजाब में लगातार खालिस्तान टेरर फोर्स के मॉड्यूल को खड़ा करने के प्रयास में लगा है। उसके खिलाफ कई मामले दर्ज हैं।

2010  में बम विस्फोट में आया नाम

हरदीप सिंह निज्जर का नाम 2010 में सामने आया जब पटियाला में सत्य नारायण मंदिर के पास बम विस्फोट में उसके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई थी। वहीं साल 2016 में निज्जर के खिलाफ लुधियाना के डाक थाने में हिंसा भड़काने और आतंकी गतिविधियों को भड़काने का मामला दर्ज किया गया।

भारत सरकार ने साल 2020 में पंजाब में हिंसा व अलगववाद को बढ़ावा देने के आरोपी खलिस्तान सपोर्टर ऑर्गनाइजेशन के 9 लोगों को आतंकवादी घोषित किया गया था। सरकार ने आतंकवाद विरोधी कानून के तहत खलिस्तान समर्थकों पर ये एक्शन लिया। ये 9 खलिस्तानी आतंकवादी पाक सहित  पांच अन्य देशों में बैठकर भारत के खिलाफ गतिविधियों के साजिशकर्ता हैं। इनमें हरदीप सिंह निज्जर का नाम भी था।

निज्जर (NIA declares Rs 10 lakh reward on Khalistan terrorist) खासकर पंजाब में प्लान की गई हत्याओं को अंतिम रूप देने को लेकर समर्थन करने वालों का नेटवर्क बनाने को लेकर प्रयासरत था। इसको आर्थिक तौर पर मजबूत बनाने के लिए  निज्जर विभिन्न मनी ट्रांसफर सर्विस स्कीम( एमटीएसएस) सर्विसेज और हवाला चैनलों के जरिए भारत में पैसा पहुंचाता था। वहीं अपनी नापाक हरकतों को अंजाम देने के लिए अपने पाकिस्तान में मौजूद सहयोगियों से हथियारों और गोला-बारूद का इं​तजाम करने की कोशिश कर रहा था। 

सिख फॉर जस्टिस के जरिए खालिस्तान बनाने की वकालत करता रहा है निज्जर

निज्जर ‘सिख फॉर जस्टिस’ (Sikh for Justice) से भी ताल्लुक रखता है और ‘खालिस्तान’ बनाने की हमेशा अपने वीडियो के जरिए वकालत करता है। इसके पक्ष में वो दुनियाभर में सिख समुदाय के लोगों बरगलाता और भड़काने की कोशिशें करता है। 

निज्जर सोशल मीडिया पर पोस्ट किए गए कई पोस्ट, ऑडियो संदेशों और वीडियो के जरिए सिखों को अलग प्रांत के लिए समर्थन करने और भारत सरकार के विरुद्ध आंदोलन करने के साथ भारत के विरुद्ध हिंसक हरकतों को अंजाम देने की हमेशा कोशिशें करता रहता है।  

जांच एजेंसी के अनुसार उसे गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम के तहत एक ‘आतंकवादी’ घोषित पहले ही किया जा चुका है। वहीं उसको पकड़ने को लेकर अब सरकार ने 10 लाख के इनाम की घो​षणा की है।

ज्ञात हो कि अमेरिका में रह रहा गुरपतवंत सिंह पन्नुन (Gurpatwant Singh Pannun) प्रतिबंधित ‘सिख्स फॉर जस्टिस’(एसएफजे) का मैंबर है। वहीं कनाडा में ऐश काट रहा हरदीप सिंह निज्जर (Hardeep Singh Nijjar) ‘खालिस्तान टाइगर फोर्स’का प्रमुख है। 

साल 2020 में  पन्नुन की ओर संचालित एसएफजे ने सोशल मीडिया पर ‘सिख रेफरेंडम 2020’को फैलाने की कोशिश की थी। यह सभी जानकारी इंटेलिजेंस के हाथ लगी थीं।

निज्जर की एनआईए कई मामलों में तलाश कर रही है। पिछले बीते कुछ सालों में उसके खिलाफ कई मामले दर्ज किए गए। साल 2018 में  कनाडा पीएम जस्टिन ट्रूडो (Justin Trudeau) भारत दौरे पर आए थे तब तात्कालीन पंजाब सीएम अमरिंदर सिंह ने उन्हें खालिस्तानी आतंकियों की लिस्ट दी थी। 

इस लिस्ट में निज्जर का भी नाम था।  साल सितंबर 2020 में सेट्रल होम मिनिस्ट्री इंडिया ने निज्जर को आतंकवादी घोषित कर दिया था। पंजाब से भाग कर  कनाडा में बैठे निज्जर की भारतीय एजेंसियों को कई भारत विरोधी गतिविधियों को लेकर तलाश है।

Khalistani terrorist Hardeep Singh Nijjar | NIA | fugitive Khalistan terrorist | The National Investigation Agency | NIA declares Rs 10 lakh reward on Khalistan terrorist | 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *