केमिकल रहित होली : फूल-पत्तों से घर पर ही बनाएं हर्बल कलर, इन्हें बनाना है बेहद आसान

केमिकल रहित होली
Image | ANI

How To Make Holi Colours With Flowers : बाजार में होली पर रासायनिक रंगों की भरमार है। वे न केवल त्वचा को नुकसान पहुंचाते हैं बल्कि एलर्जी और जलन का कारण भी बनते हैं। होली में उपयोग किए जाने वाले रंगों से त्वचा की एलर्जी, आंखों में जलन हो सकती है। इसलिए इससे बचने के लिए, सबसे पहले कोशिश करें कि आप ऑर्गेनिक या हर्बल रंगों (natural holi colours) से ही होली खेलें, लेकिन इन रंगों की पहचान करना भी जरूरी है। ऐसे अवसरों पर फूलों, पत्तियों, सब्जियों और मसालों से तैयार रंगों का उपयोग किया जा सकता है। ये विशेष रूप से त्वचा के लिए फायदेमंद होंगे और आंखों को भी नुकसान नहीं पहुंचाएंगे।

चुकंदर को पानी में उबालें और लाल रंग बनाएं

केमिकल रहित होली

इस मौसम में चुकंदर आसानी से उपलब्ध है। इन्हें पीसकर पानी में उबालें और लाल रंग तैयार है। (how to make holi colours at home in hindi) अगर आप गहरा गुलाबी रंग चाहते हैं, तो इसमें और पानी मिलाएं। इसके अलावा, यह एक पेस्ट में जमीन भी हो सकता है। खास बात यह है कि यह रंग आंखों और मुंह में जाने पर भी नुकसान नहीं पहुंचाता है। बच्चों को नुकसान से बचाने के लिए, आप इस रंग को घड़े में भरकर भी दे सकते हैं।

नीम के पत्तों से हरा रंग बनाएं

केमिकल रहित होली

नीम की पत्तियों को पीसकर तैयार पेस्ट से हरे रंग को बनाया जा सकता है। इस पेस्ट को पानी में मिलाकर भी रंग खेला जा सकता है। यह फेस पैक की तरह भी काम करेगा। एंटीबैक्टीरियल और एंटी एलर्जिक होने के कारण नीम त्वचा के लिए फायदेमंद है। साथ ही यह कील मुंहासों की समस्या में भी राहत देता है। नीम के पत्तों को सुखाने के बाद, इसके पाउडर को भी गुलाल की तरह लगाया जा सकता है। मेंहदी का भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

मक्के के आटे में हल्दी मिलाएं और पीला रंग बनाएं

केमिकल रहित होली

इन रंगों को बनाने के लिए हल्दी बहुत उपयुक्त है। हल्दी एंटीसेप्टिक और एंटी इंफ्लेमेटरी है, जो त्वचा के लिए बहुत फायदेमंद है। पीला रंग तैयार करने के लिए, हल्दी को पेस्ट बनाने के लिए जौ या मक्का के आटे के साथ मिलाया जा सकता है। इसे रंग के रूप में प्रयोग करें। यह मृत त्वचा को हटाकर प्राकृतिक स्क्रब की तरह काम करेगा। हल्दी को अरारोट या चावल के पाउडर में मिलाकर भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

पलाश और गेंदा से केसरिया रंग बनाएं

केमिकल रहित होली

केसरिया रंग बनाने के लिए गेंदे के फूलों का उपयोग किया जा सकता है। इसके अलावा पलाश के 100 ग्राम सूखे फूल को एक बाल्टी पानी में उबालें या रात भर भिगो दें। इसे सुबह छान लें। गाढ़े केसरिया रंग से भरी बाल्टी तैयार है। इसे ऐसे ही या पतला किया जा सकता है।

Holi Tips | Holi Festival | holi colour | natural holi colours | holi gulal | holi colour powder | holi colours price | organic holi colours shop near me | How To Make Holi Colours With Flowers | how to make holi colours at home in hindi | 

Was This Article Helpful?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *