लंका बदहाल, नेता मालामाल: श्रीलंका के राष्ट्रपति आवास में मिले नोटों के बंडल, Video Viral- प्रदर्शनकारियों ने पूरे पैसे सेना को सौंपे

Sri Lanka crisis
Sri Lanka Crisis – फोटो : ANI

Sri Lanka crisis: श्रीलंका में बीते तीन महीने से राजनीतिक और आर्थिक उथल-पुथल के बीच आंदोलनकारियों ने कल राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे के सरकारी आवास पर कब्जा जमा लिया। इसके बाद प्रदर्शनकारियों ने जब यहां छानबीन की तो लगभग 39 लाख रुपए (1.78 करोड़ श्रीलंकाई रुपया) कैश राशि मिली। प्रदर्शनकारियों ने ये पूरा पैसा सेना को सौपं दिया है।

श्रीलंका संकट से जुड़े ताजा अपडेट्स…

  • गोटबाया राजपक्षे ने 13 जुलाई को सशर्त इस्तीफा देने की घोषणा की। गोटबाया 8 जुलाई के बाद से कोलंबो से गायब हैं। 
  • श्रीलंका की सरकार में मंत्री हिरेन फर्नांडो और मनुषा ननयकारा ने भी इस्तीफा दे डाला है। उन्होंने अपना इस्तीफा राष्ट्रपति को भेजा है।
  • श्रीलंका पुलिस ने देश में बिगड़ते हालात के बीच कई प्रान्तों में कर्फ्यू लगाया। चीफ डिफेंस स्टाफ ने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है।
  • प्रदर्शनकारियों ने समागी जाना बालवेगया (SJB) के सांसद रजिता सेनारत्ने पर हमला किया।

दूसरी ओर राष्ट्रपति भवन पर कब्जा करने के बाद आंदोलनकारी जमकर मौज मस्ती करते नजर आ रहे हैं। कल शनिवार को कुछ लोग राष्ट्रपति के स्विमिंग पूल में गोते खाते तस्वीर सामने आई थी तो वहीं प्रदर्शकारी प्रेसिडेंट चेयर पर बैठकर फोटो खिंचवा रहे हैं। 

Some of the cash found in President house pic.twitter.com/JQQ431dUR7

— Mo Abdul (@MoAbdul_27) July 9, 2022

#WWE championship at #SriLankan presidential house by the protesters. #Shrilankacrisis #ShriLankaDebtTrap pic.twitter.com/XadhouSer8

— Jayram Déshpandé (@jaydesh9) July 10, 2022

वहीं कुछ लोग राष्ट्रपति भवन के रॉयल किचन में डिनर करते नजर दिखे। वहीं कई प्रदर्शनकारी राष्ट्रपति के बेड रूम में आराम से लेटकर टीवी पर ही श्रीलंका के हालात की न्यूज देख रहे हैं।

 ​​

Sri Lanka crisis
प्रदर्शनकारी राष्ट्रपति के बेड रूम में आराम से लेटकर टीवी पर ही श्रीलंका के हालात की न्यूज देख रहे। फोटाेः सोशल मीडिया।

वहीं, इन सबके बीच राष्ट्रपति ने 13 जुलाई को अपने इस्तीफे की घोषणा की है। इतना ही नहीं, प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे पहले ही बढ़ती हिंसा को देखते हुए इस्तीफा दे चुके हैं।

#WATCH | Sri Lanka: Protestors remain in and outside the premises of the Presidential Secretariat in Colombo as they hold demonstrations amid sloganeering against the economic crisis

Presidential Secretariat was stormed by a sea of protestors, yesterday pic.twitter.com/y0vIm861RS

— ANI (@ANI) July 10, 2022

इस बीच श्रीलंका के मुख्य विपक्षी दल सर्वदलीय सरकार की स्थापना पर आम सहमति बनाने के लिए रविवार को एक विशेष पार्टी बैठक बुला सकते हैं।  मुख्य विपक्ष समागी जन बालवेगया (एसजेबी) और उसके घटक दलों की बैठक में विपक्ष के नेता साजिथ प्रेमदासा, श्रीलंका मुस्लिम कांग्रेस के नेता रऊफ हकीम, तमिल प्रगतिशील गठबंधन के नेता मनो गणेशन और ऑल सीलोन मक्कल कांग्रेस के नेता शामिल हो सकते हैं।
इससे पहले उभरती राजनीतिक स्थिति पर चर्चा के लिए रविवार को राष्ट्रीय स्वतंत्रता मोर्चा सहित नौ दलों के नेताओं की एक और बैठक की योजना बनाई गई थी। श्रीलंका की कम्युनिस्ट पार्टी के उपाध्यक्ष वीरासुमना वीरसिंघे ने कहा कि सर्वदलीय सरकार को लेकर लंबी चर्चा होगी।
इस बीच राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे ने अधिकारियों को निर्देश दिया है कि ईंधन की कमी वाले देश को रसोई गैस का सुचारू वितरण सुनिश्चित किया जाए। दरअसल, एलपी गैस की 3,700 मीट्रिक टन मात्रा श्रीलंका पहुंचने वाली है। राष्ट्रपति राजपक्षे ने अधिकारियों को गैस की अनलोडिंग और वितरण का काम करने का निर्देश दिया है। 
गैस का पहला जहाज रविवार को केरावलपिटिया पहुंचने वाला है। श्रीलंकाई मीडिया के अनुसार, 3,740 मीट्रिक टन गैस ले जाने वाला दूसरा जहाज 11 जुलाई को है और तीसरा 3,200 मीट्रिक टन गैस के साथ 15 जुलाई को आएगा।

भारत ने फिर की मदद

भारत ने एक बार फिर श्रीलंका की सहायता की है। भारतीय उच्चायुक्त गोपाल बागले के अनुसार  केंद्र सरकार ने भारत की ओर से श्रीलंका की सहायता के लिए 44,000 मीट्रिक टन यूरिया भेजा है। उन्होंने ट्वीटर कर लिखा है – विभिन्न वर्ग, विविध मांगें: एक साथी – भारत

भारत में श्रीलंका से कोई रिफ्यू​जी संकट नहीं

इधर भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर का कहना है कि भारत सरकार हमेशा श्रीलंका का समर्थन करती रही है। फिलहाल जो संकट जारी है उसे लेकर भी सहायता करने की पूरी कोशिश की जा रही है। भारतीय विदेश मंत्री ने यह भी स्पष्ट किया कि भारत में श्रीलंका की ओर से कोई शरणार्थी संकट फिलहाल नहीं है।

वहीं कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने भी श्रीलंका के मौजूदा राजनीतिक हालात पर चिंता जाहिर करते हुए कहा है कि बेतहाशा महंगाई और जरूरी चीजों की कमी ने वहां के लोगों के लिए भारी संकट खड़ा कर दिया है। हम उम्मीद करते हैं कि भारत सरकार श्रीलंका की सहायता करना जारी रखेगी। कांग्रेस भी इस संकट के वक्त में लंकाई लोगों के साथ खड़ी रहेगी। 

Sri Lanka crisis | Sri Lanka economy | Sri Lanka violence | sri lanka news | sri lanka currency

ये भी पढ़ें 

श्रीलंका में जनता बेकाबू, प्रेसीडेंट हाउस को घेरा, राष्ट्रपति देश से फरार‚ प्रधानमंत्री का भी इस्तीफा‚  ताजा अपडेट में देखें पूरा हाल

छत्तीसगढ़ में निर्भया जैसी हैवानियत:दुष्कर्म कर गुप्तांग में तवे का मूठ डाला, महिला ने बचाव की कोशिश की तो कर दी हत्या 

 ये क्यूट Rain Bugs क्यों हो रहे विलुप्त!

हॉलीवुड स्टार टॉम क्रूज की लाइफ स्टोरी के बारे में और ज्यादा व पूरी जानकारी यहां देखें

 मूसेवाला का SYL गाना बैन: बंदी सिखों की रिहाई और पंजाब-हरियाणा के विवादित नहर के मुद्दे की बात, YouTube से भी हटाया

Elon Musk ने फिर क्यों कहा ज्यादा बच्चे पैदा करो, भविष्यवाणी की – जापान दुनिया से गायब हो जाएगा

Was This Article Helpful?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *