तालिबान में नई सरकार घोषित, मुल्ला अखुंद बना पीएम; 33 मंत्रियों की टीम में एक भी महिला मंत्री नहीं

 

तालिबान में नई सरकार घोषित

15 अगस्त को, अफगानिस्तान का पूरा नियंत्रण लेने के तीन सप्ताह बाद, तालिबान ने अपनी सरकार की घोषणा की। मुल्ला मोहम्मद हसन अखुंद को मंत्रिपरिषद का मुखिया यानी नई सरकार का मुखिया बनाया गया है. मंगलवार को तालिबान के प्रवक्ता जबीउल्लाह मुजाहिद ने यह जानकारी दी।

तालिबान ने बताया है कि एक कार्यवाहक कैबिनेट सरकार की जिम्मेदारी संभालेगी। तालिबान ने बिना किसी समारोह के सरकार का ऐलान कर दिया है, समारोह बुधवार को हो सकता है। 

तालिबान की अंतरिम सरकार की सूची इस प्रकार है

  • प्रधानमंत्री – मुल्ला मोहम्मद हसन अखुंदी
  • उपप्रधानमंत्री 1 – मुल्ला बरादरी
  • उपप्रधानमंत्री 2 – अब्दुल सलाम हनफ़ी
  • गृहमंत्री – सिराजुद्दीन हक्कानी
  • रक्षामंत्री – मोहम्मद याकूब मुजाहिद
  • वित्तमंत्री – मुल्ला हिदायतुल्ला बद्रीक
  • विदेशमंत्री – मौलवी आमिर खान मुताक्किक
  • शिक्षामंत्री – शेख मौलवी नूरुल्ला मुनिरी
  • शरणार्थी मामलों के मंत्री – खलीलुर रहमान हक्कानी
  • उिप्टी फॉरेन मिनिस्टर – शेर मोहम्मद स्टेनकजई (स्टेनकजई ने हाल ही में दोहा में भारत के राजदूत दीपक मित्तल से मुलाकात की थी)
  • संस्कृति मंत्रालय का डिप्टी मिनिस्टर – जबीउल्लाह मुजाहिदी
  • रक्षा मंत्रालय में सेनाध्यक्ष – कारी फसीहुद्दीन (ताजिक मूल के तालिबान कमांडर, उनके नेतृत्व में तालिबान ने पंजशीर की लड़ाई लड़ी और जीती)
  • सेना प्रमुख – मुल्ला फजल अखुंदी
  • डिप्टी चीफ ऑफ इंटेलिजेंस – मुल्ला ताज मीर जवादी
  • राष्ट्रीय सुरक्षा निदेशालय (एनडीएस) प्रमुख – मुल्ला अब्दुल हक वासिकी

तुर्की ने कहा- मान्यता देने में जल्दबाजी न हो

अफगानिस्तान में तालिबान की सरकार बनने से ठीक पहले तुर्की के विदेश मंत्री युसूफ एरीम ने एक अहम बयान दिया था। युसूफ ने कहा- दुनिया को हमारी सलाह है कि सभी मुल्क तालिबान सरकार को मान्यता देने में किसी भी तरह की जल्दबाजी न करें।

पाकिस्तान विरोधी रैली पर फायरिंग

पाकिस्तान विरोधी रैली पर फायरिंग

इधर तालिबान ने काबुल में पाकिस्तान विरोधी रैली पर फायरिंग कर दी। भगदड़ में कई महिलाओं के घायल होने की खबर है। वहीं इस प्रदर्शन को कवर कर रहे टोलो न्यूज के कैमरामैन वाहिद अहमदी को तालिबान ने गिरफ्तार कर लिया. आपको बता दें कि पंजशीर के युद्ध में पाकिस्तान के हस्तक्षेप से अफगानिस्तान के लोगों में गुस्सा है और वे लगातार दूसरे दिन पाकिस्तान के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।

काबुल की जनता गो बैक पाकिस्तान और आजादी-आजादी के नारे लगा रही

पाकिस्तान विरोधी प्रदर्शनों में काबुल की जनता गो बैक पाकिस्तान और आजादी-आजादी के नारे लगा रही है। ऐसा ही एक प्रदर्शन काबुल में पाकिस्तानी दूतावास के बाहर चल रहा था, जिसमें ज्यादातर महिलाएं शामिल थीं. यहां लोगों को तितर-बितर करने के लिए तालिबान ने हवा में गोलियां चला दीं।

Video: Hundreds of protesters demonstrated in front of Pakistan’s embassy in Kabul on Monday. They dispersed after Taliban forces fired into the air.#TOLOnews pic.twitter.com/qV2QaNgOme

— TOLOnews (@TOLOnews) September 7, 2021

काबुल में गत रात को  महिलाओं ने पाकिस्तान के खिलाफ जमकर नारेबाजी करते हुए प्रदर्शन किया। इस दौरान महिलाओं ने पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाए।  इसे तालिबान के अत्याचारों और पाकिस्तान की घुसपैठ के खिलाफ प्रदर्शन बताया जा रहा है. वैसे तो पिछले कई दिनों से अफगानिस्तान के अलग-अलग शहरों में महिलाएं अपने हक के लिए प्रदर्शन कर रही हैं, लेकिन काबुल में पहली बार रात में प्रदर्शन हुए हैं।

आपको बता दें कि तालिबान ने पंजशीर की लड़ाई जीतकर पूरे अफगानिस्तान पर कब्जा करने का दावा किया था। बताया जा रहा है कि तालिबान ने यह लड़ाई पाकिस्तान की मदद से जीती थी। रेजिस्टेंस फोर्स का नेतृत्व कर रहे अहमद मसूद ने यह भी कहा है कि पाकिस्तान वायु सेना लगातार हमले कर रही है ताकि तालिबान आगे बढ़ सके। मसूद ने कहा कि अब हमारी असली लड़ाई पाकिस्तान से है, क्योंकि पाकिस्तान की सेना और आईएसआई  युद्ध में तालिबान की मदद कर रहा है। 

Taliban Afghanistan Kabul ISI Live Update | Panjshir News | Kashmir News | Pakistan | US Military Withdrawal | Afghan President Ashraf Ghani | 

Was This Article Helpful?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *