रूस की चिंता: कहा- अफगानिस्तान से रूस और भारत में आतंकवाद फैलने के हालात, दोनों देश बना रहे निपटने की स्ट्रटेजी

अफगानिस्तान से रूस और भारत में आतंकवाद फैलने के हालात

भारत में रूसी एंबेस्डर निकोले कुदाशेव का कहना है कि अफगानिस्तान को लेकर भारत और रूस की समान चिंताएं हैं और दोनों देश लगातार संपर्क कर इससे निपटने की स्ट्रेटेजी पर काम कर रहे हैं। अफगानिस्तान के क्षेत्र से रूस के क्षेत्र में और कश्मीर में आतंकवाद फैलने का खतरा है। उन्होंने यह भी कहा कि तालिबानी सरकार को मान्यता देने से पहले रूस उसकी गतिविधियों पर गौर करेगा।

रूस अफगानिस्तान में एक ऐसी सरकार चाहता है जिसमें सभी का रिप्रजेंस हो और जो सुरक्षा और स्थिरता ला सके। रूसी राजदूत ने यह भी कहा कि अफ़ग़ानिस्तान की ज़मीन का इस्तेमाल दूसरे देशों के ख़िलाफ़ नहीं होने देना चाहिए.

इधर तालिबान का पंजशीर पर कब्जा करने का दावा किया

इधर तालिबान का पंजशीर पर कब्जा करने का दावा किया

वहीं तालिबान ने पंजशीर पर जीत का दावा कर दिया है। इसे लेकर उसने तालिबान का झंडा लगाते हुए वीडियो शेयर किया है। इस बीच, पंजशीर घाटी में राष्ट्रीय रजिस्टेंस फोर्स के नेता अहमद मसूद ने पूरे अफगानिस्तान में तालिबान के खिलाफ युद्ध छेड़ने की बात कही है। सोमवार को मीडिया को भेजे गए एक ऑडियो संदेश में मसूद ने अफगान लोगों से कहा, “चाहे आप देश के अंदर हों या बाहर, मैं आपसे अफगानिस्तान की गरिमा, स्वतंत्रता और समृद्धि के लिए एक राष्ट्रीय विद्रोह शुरू करने का आह्वान करता हूं।”

उत्तरी गठबंधन प्रमुख मसूद के कजाकिस्तान भाग जाने की खबर

पंजशीर में तालिबान के खिलाफ विद्रोह का नेतृत्व करने वाले उत्तरी गठबंधन के प्रमुख अहमद मसूद के कजाकिस्तान भाग जाने की खबर है। तालिबान समर्थकों के हवाले से कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में यह दावा किया गया है। इधर, पंजशीर समर्थकों ने मसूद के घाटी में होने की बात कही है. उनका दावा है कि मसूद आखिरी सांस तक पंजशीर में ही रहेगा। वह अपने शत्रुओं से मुंह मोड़ने वाला नहीं है।

आईएसआई प्रमुख के अफगानिस्तान दौरे पर तालिबान ने दी सफाई

आईएसआई प्रमुख के अफगानिस्तान दौरे पर तालिबान ने दी सफाई

तालिबान ने पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल फैज हामिद के अफगानिस्तान दौरे पर सफाई दी है। तालिबान के प्रवक्ता जबीउल्लाह मुजाहिद ने सोमवार को कहा कि वह पाकिस्तान सहित किसी भी देश को अफगानिस्तान के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप करने की अनुमति नहीं देंगे।

गौरतलब है ​कि आईएसआई चीफ फैज हामिद पिछले हफ्ते अचानक दौरे पर काबुल पहुंच गए थे। तालिबान नेताओं के साथ चाय पीते हुए उनकी एक तस्वीर भी सामने आई थी। इसके बाद कई देशों ने अफगानिस्तान में नई सरकार के आंतरिक मामलों में पाकिस्तान के दखल को लेकर सवाल उठाए।

महिलाओं ने फिर किया काबुल की सड़कों पर प्रोटेस्ट

तालिबानी सरकार में अपने प्रतिनिधित्व और अधिकारों की मांग को लेकर अफगानिस्तान में महिलाओं का प्रदर्शन जारी है। बल्ख प्रांत में सोमवार को एक बार फिर महिला संगठनों ने प्रदर्शन किया है. इस दौरान तालिबान भी मौजूद रहे। स्थानीय मीडिया का दावा है कि तालिबान लड़ाकों ने कार्यक्रम को कवर करने आए पत्रकारों को रोका और उन्हें जाने के लिए कहा। पत्रकारों ने उन्हें अपने पहचान पत्र भी दिखाए, लेकिन उन्हें धमकाकर भगा दिया गया।

Amrullah Saleh | Don’t Want To Surrender To Taliban | Asked My Guard To Shoot Me Twice In Head If I Get Wounded | Taliban Afghanistan Kabul ISI Live Update | Panjshir News | Kashmir News | Pakistan | US Military Withdrawal | Afghan President Ashraf Ghani

Was This Article Helpful?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *