सुधरने को तैयार नहीं चीन, अमेरिका ने हिंद महासागर में तैनात किए परमाणु बम वर्षक B-2 स्प्रिट विमान

न्यूज –  गलावन घाटी में भारत और चीन के बीच विवाद के बाद से लद्दाख तनाव बना हुआ है। गालवन घाटी में खूनी संघर्ष के बाद, दोनों देशों ने मेजर जनरल स्तर की वार्ता के कई दौर आयोजित किए और उसके बाद एनएसए स्तर की वार्ता ने गैल्वान से कुछ किलोमीटर दूर चीनी सेना का अनुसरण किया। लेकिन पैंगोग सो झील और डेपासांग क्षेत्र में चीनी सेना अब भी पीछे हटने को तैयार नहीं है।

b2 spirit stealth bombers

इस मौजूदा तनाव और सैन्य स्तर की बातचीत को कम करने के प्रयास भी किए जा रहे हैं। इस सब के बीच, अमेरिका ने भारत के बेहद करीब स्थित अपने नौसैनिक अड्डे डियागो गार्सिया में सबसे घातक परमाणु बम वर्षा विमान बी -2 स्पिरिट स्टील बॉम्बर तैनात किया है।

डिएगो गार्सिया में तैनात तीन बी -2 स्पिरिट स्टील बॉम्बर्स

यूएस के इंडो-पैसिफिक कमांड द्वारा जारी एक बयान में कहा गया है कि डिएगो गार्सिया (डिएगो गार्सिया) में तीन बी -2 स्पिरिट स्टील बॉम्बर्स तैनात किए गए हैं। अमेरिकी वायु सेना के कमांडर कर्नल क्रिस्टोफर कॉन्टेंट ने कहा, “हम डियागो गार्सिया जैसी महत्वपूर्ण जगह पर रोमांचित हैं।”

हिंद महासागर में अमेरिका का आधार भारत के बहुत करीब है

विमान लगभग 29 घंटे की यात्रा के बाद संयुक्त राज्य अमेरिका में मिसौरी वायु सेना बेस से डिएगो गार्सिया तक पहुंच गया है। संयुक्त राज्य अमेरिका ने कहा कि 29-घंटे की यात्रा से पता चलता है कि संयुक्त राज्य अमेरिका अपने मित्रों और सहयोगियों पर किसी भी समय और कहीं भी बेहद घातक हमले करने के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध है।

अमेरिका चीन सीमा विवाद पर भारत का समर्थन करता है

चीन ने भारत के साथ सीमा पर बड़े पैमाने पर अपनी सेना और लड़ाकू जेट तैनात किए हैं। अमेरिका ने लद्दाख में चीन की इस भव्यता की खुलकर आलोचना की है। यही नहीं, कुछ दिन पहले अमेरिकी विमान के कैरियर ने मलक्का जलडमरूमध्य पार किया और अंडमान और निकोबार के पास भारतीय नौसेना के साथ सैन्य अभ्यास किया। इन दिनों, अमेरिका और ईरान के बीच तनाव काफी बढ़ गया। ईरान और चीन के बीच सैन्य और आर्थिक सहयोग नई ऊंचाइयों पर पहुंच गया है।

पाकिस्तान बोला सिंधु जल समझौते की बैठक वाघा में हो, भारत ने ये दिया करारा जवाब

Like and Follow us on :

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *