दिवाली 4 नवंबर को: मां लक्ष्मी की कृपा चाहते हैं तो दीपावली पर लक्ष्मी पूजन कर इन चीजों से बना लें दूरी, हो जाएंगे मालामाल

लक्ष्मी पूजन कर इन चीजों से बना लें दूरी, हो जाएंगे मालामाल

दीपावली 4 नवंबर गुरुवार को है। हर कोई चाहता है कि उसके घर में देवी लक्ष्मी का वास हो, इसी मनोकामना के साथ दीपावली के दिन देवी लक्ष्मी की पूजा पूरे विधि-विधान से की जाती है। ऐसी मान्यता है कि प्राचीन काल में इस तिथि को समुद्र मंथन से देवी लक्ष्मी प्रकट हुई थीं।

महाभारत के शांति पर्व में बताया गया है कि लक्ष्मी किसके घर में निवास करती हैं। इस उत्सव में देवराज इंद्र और महालक्ष्मी के संवाद हैं। देवी लक्ष्मी ने इंद्र को बताया कि वह किसके घर में रहती हैं और किसके साथ जाती हैं। जानिए यह पूरी कहानी…

एक दिन देवी लक्ष्मी देवराज इंद्र के स्वर्ग में पहुंचीं और उन्होंने इंद्र से कहा, ‘अब मैं तुम्हारे स्वर्ग में निवास करूंगी।’

पहले लक्ष्मी जी राक्षसों के साथ निवास करती थीं। लक्ष्मी जी को देखकर इंद्र हैरान रह गए और उन्होंने पूछा, ‘देवी, आप राक्षसों के साथ रहती हैं। मैंने तुमसे कितनी बार स्वर्ग में आने का अनुरोध किया है, लेकिन तुम नहीं आए। तुम आज यहाँ मेरे द्वार पर क्यों आए हो?’

देवी लक्ष्मी ने कहा, ‘देवराज इंद्र, कुछ समय पहले असुर धर्म के अनुसार अपने कर्म कर रहे थे, लेकिन अब वे गलत काम करने लगे हैं। जहाँ प्रेम के स्थान पर ईर्ष्या और क्रोध, कलह, अधर्म, बुराइयाँ और बुरी आदतें आ जाती हैं, वहाँ मैं नहीं रह सकता। असुरों ने इन सभी गलत आदतों में लिप्त हैं।’

लक्ष्मी जी आगे कहती हैं, ‘जो गुरु, माता-पिता और बड़ों का आदर नहीं करते, मैं उनके साथ नहीं रहता। जो बच्चे अपने माता-पिता का अनादर करते हैं, मैं उनके साथ नहीं रहता।’

महालक्ष्मी ने इंद्र से कहा, ‘मैं वहीं रहती हूं जहां धार्मिक आचरण वाले लोग रहते हैं। जिस घर में सभी सदस्य शुद्ध मन वाले होते हैं, जो सभी को सम्मान देते हैं। मैं उस घर में रहता हूँ जिसके सदस्य किसी को धोखा नहीं देते। जो दूसरों की मदद करते हैं, गरीबों को दान देते हैं, अपना काम पूरी ईमानदारी से करते हैं, उन्हें मेरी कृपा प्राप्त होती है।’

Diwali 2021 | Deepawali 2021 | Laxmi Pujan Tips In Hindi | How To Worship To Goddess Laxmi In Hindi | 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *