सोमवती अमावस्या के शाही स्नान की एक्सक्लूसिव तस्वीरें देखिए

 

सोमवती अमावस्या के शाही स्नान
ANI

हरिद्वार में सोमवती अमावस्या के शाही स्नान पर आकाश में एक अद्भुत दृश्य देखा गया। नतीजों के स्नान के दौरान अचानक धूप कम हो गई। जब लोगों ने आकाश की ओर देखा, तो सूर्य के चारों ओर एक गोलाकार घेरा दिखाई दिया। लोगों ने अद्भुत दृश्य को कैमरे में कैद किया। ज्योतिषियों ने इसे कुंभ में देव स्नान से पहले एक ऐतिहासिक घटना कहा।

सोमवती अमावस्या के शाही स्नान
फोटो |  अमर उजाला

बैरागी अखाड़े के निर्मोही, निरवानी और दिगंबर संत सोमवार दोपहर ब्रह्मकुंड पर स्नान कर रहे थे। इस बीच, भक्तों और संतों ने सूर्य के चारों ओर से गोल आकार का दृश्य देखने के लिए झुक गए।

जल चढ़ाकर सूर्य की पूजा शुरू की। हर कोई अपने मोबाइल और कैमरों में अद्भुत दृश्य को कैद करता नजर आया। ज्योतिषाचार्य और ओरिएंटल विद्या सोसायटी के संस्थापक डॉ. प्रतीक मिश्रपुरी के अनुसार, कुंभ के वर्ष में ऐसा दृश्य हर बार देखा जाता है।

सोमवती अमावस्या के शाही स्नान
ANI

2010 के कुंभ में भी, 13 अप्रैल की शाम को, सूर्य का यह गोल आकार नजर आया था।  जानकारों के अनुसार, 14 अप्रैल से 14 मई तक देवता बारी-बारी से कुंभ में स्नान करने आते हैं।

सोमवती अमावस्या के शाही स्नान
ANI


सोमवती अमावस्या के शाही स्नान
ANI


सोमवती अमावस्या के शाही स्नान
ANI


सोमवती अमावस्या के शाही स्नान
ANI


सोमवती अमावस्या के शाही स्नान
ANI


वहीं, शाही स्नान पर श्रद्धालुओं ने हरिद्वार में मत्था टेका। चार बजे तक, 27 लाख 75 हजार भक्तों और संतों ने कोविड की छाया में गंगा में डुबकी लगाई। हरकी पैड़ी स्थित ब्रह्मकुंड में सभी 13 अखाड़ों के संतों ने राजसी ठाठ के साथ शाही स्नान किया। गंगा के किनारे सभी घाटों पर भक्तों की भारी भीड़ थी। भक्तों ने स्नान और दान कर पुण्य लाभ कमाया।

सोमवती अमावस्या के शाही स्नान
ANI


सोमवती अमावस्या के शाही स्नान
ANI


सोमवती अमावस्या के शाही स्नान
ANI


हरकी पैड़ी और ब्रह्मकुंड सुबह आठ बजे तक श्रद्धालुओं के स्नान के लिए खुले रहे। हरकी पैड़ी क्षेत्र के घाटों पर भक्तों की भारी भीड़ के कारण सुबह सात से आठ बजे तक पैक किया गया था। मेला पुलिस ने सुबह आठ बजे के बाद भक्तों से हरकी पैड़ी क्षेत्र के घाटों को खाली करवाया और अखाड़ों के संतों के स्नान के लिए आरक्षित किया। हरकी पैड़ी क्षेत्र की साफ-सफाई और स्वच्छता का कार्य किया गया।

ये भी पढ़ें –

 24 जुलाई तक इन राशि के जातकों पर रहेगी मां लक्ष्मी की विशेष कृपा

पंचांग अपडेट : 29 दिन का सावन,2 दिन पूर्णिमा, 11 अगस्त को रक्षाबंधन और 12 को स्नान-दान का पर्व, जानिए श्रावण मास क्यों है खास

ग्रह-नक्षत्र का शुभ-अशुभ प्रभाव: इस माह शनि के राशि परिवर्तन और अंगारक योग से राशियों पर होगा असर, जानिए कौन जातक संभलें और किसका होगा बेहतर समय

सूर्य बदल रहे राशि :15 जुलाई तक मिथुन राशि में रहेंगे सूर्य देवता, इन राशियों के लिए रहेगा शानदार समय

Hindu-Marriage 2022: आखिर असुर, राक्षस, पैशाच, ब्रह्म, देव और गंधर्व विवाह क्या होते हैं? किस तरह से विवाह करने का जीवन पर क्या असर होता हैॽ

Was This Article Helpful?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *