Mahashivratri 2022: ग्रहों का दुर्लभ योग: 179 साल बाद महाशिवरात्रि पर मकर राशि में होंगे पंच ग्रह एक साथ, जानिए क्या करें उपाय और क्यों शिवरात्रि पर रात में करनी चाहिए विशेष पूजा?

Mahashivratri 2022: ग्रहों का दुर्लभ योग
Photo courtesy | getty images

                                        

1 मार्च मंगलवार को शिवरात्रि (mahashivratri 2022) के दिन दुर्लभ ग्रह योग बन रहे हैं। इस साल शिवरात्रि (Lord Shiva) पर पांच ग्रह एक साथ मकर राशि में रहेंगे। इस दिन की जाने वाली पूजा धार्मिक लाभ देती है, नकारात्मक विचारों को दूर करती है, कुंडली के ग्रह दोषों को शांत करती है।

वाराणसी के ज्योतिषी पं. शिवरात्रि पर पुरुषोत्तम मिश्रा, बुध, शुक्र, मंगल, शनि और चंद्रमा मकर राशि में रहेंगे। सूर्य और गुरु कुम्भ राशि में रहेंगे। 179 साल पहले 27 फरवरी 1843 को शिवरात्रि थी और उस दिन भी मकर राशि में पांच ग्रह बुध, शुक्र, शनि, चंद्रमा और बृहस्पति थे। उस समय गुरु मंगल के स्थान पर मकर राशि में थे।

3 मार्च 1552 को 470 वर्षों तक शिवरात्रि थी और उस दिन मकर राशि में सूर्य, मंगल, शनि, चंद्रमा और केतु का पंचग्रही योग था। इस साल शिवरात्रि मंगलवार को है। मंगल मकर राशि में उच्च का होगा। शनि अपनी ही राशि मकर में है। बुध और शुक्र भी मित्र राशि में रहेंगे। चंद्रमा और शनि की युति होगी। धनिष्ठा नक्षत्र रहेगा। इस नक्षत्र का स्वामी मंगल है। इस योग से मंहगाई, युद्ध जैसी स्थिति उत्पन्न होने के योग बनते हैं। प्राकृतिक आपदाएं आ सकती हैं। लोगों में असंतोष रहेगा।


ये भी पढ़ें-
 मां कौशल्या के मंदिर से गौ भक्त मोहम्मद फैज खान पदयात्रा पर निकले

शिवरात्रि पर रात्रि में करनी चाहिए विशेष शिव पूजा

जैसा कि नाम से पता चलता है, शिवरात्रि का अर्थ है रात का उपवास। इस पर्व पर रात्रि के चार घंटे में उठकर भगवान शिव का अभिषेक करना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि शिवरात्रि के दिन शिव और पार्वती पृथ्वी के भ्रमण पर जाते हैं। जो लोग इस रात को भक्ति करते हैं, उन्हें शिव-पार्वती की विशेष कृपा प्राप्त होती है।

ऐसे कर सकते हैं शिव की पूजा
Image | freepik

ऐसे कर सकते हैं शिव की पूजा

शिवरात्रि के दिन स्नान करने के बाद शिव की पंचोपचार या षोडशोपचार पूजा करनी चाहिए। व्रत रखने वालों को भोजन नहीं करना चाहिए। क्रोध, काम, नशा, लोभ, चोरी जैसी बुराइयों से दूर रहें। ओम नमः शिवाय का जाप करते रहें।

उत्तर दिशा की ओर मुख करके शिव की पूजा करना अधिक शुभ होता है। शिव की पूजा करके माथे पर चंदन या राख का एक त्रिपुंड लगाना चाहिए। शिवलिंग पर चढ़ायी जाने वाली चीजें पूजा से पहले उतार देनी चाहिए। बिल्वपत्र को धोकर पूजा के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।

रात का पहला प्रहर शाम छह बजे शुरू होता है। शिव के षोडशोपचार की पूजा करें। गन्ने के रस से अभिषेक। रात्रि नौ बजे द्वितीय प्रहर की पूजा करें। दही से अभिषेक। रात्रि 12 बजे तीसरे प्रहर की पूजा करें। दूध से अभिषेक करें। दोपहर 3 बजे चौथे प्रहर की पूजा करें. अगले दिन किसी ब्राह्मण को भोजन कराकर अपना व्रत पूर्ण करें।

पूजा के मंत्र

1. ॐ नम: शिवाय

2. ॐ हौं जूं स: ॐ भूर्भुवः स्वः ॐ त्र्यंबकम् यजामहे सुगंधिम् पुष्टिवर्द्धनम्।

ऊर्वारुकमिव बंधनान् मृत्योर्मुक्षिय मामृतात्।। ॐ स्वः भुवः भूः ॐ सः जूं हौं ॐ

क्यों महाशिवरात्रि पर्व पर भस्म का तिलक लगाने से पुण्य मिलता है
Photo courtesy | lokmat

क्यों महाशिवरात्रि पर्व पर भस्म का तिलक लगाने से पुण्य मिलता है

शिवरात्रि का पर्व भगवान शिव के दिव्य अवतार के लिए शुभ है। उनके निराकार से साकार रूप में अवतरण की रात को महाशिवरात्रि कहा जाता है। चतुर्दशी तिथि के स्वामी भगवान शिव हैं। शिवरात्रि व्रत हर महीने के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को मनाया जाता है, जिसे मासिक शिवरात्रि व्रत कहा जाता है। लेकिन महाशिवरात्रि का पर्व फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मनाया जाता है। यह व्रत चतुर्दशी की आधी रात को करना चाहिए। इस साल यह महा शिवपर्व 1 मार्च को मनाया जाएगा।

महाशिवरात्रि पर क्या करें

शिव पुराण के अनुसार इस पर्व पर सुबह जल्दी उठकर स्नान करके राख से सिर पर त्रिपुंड और तिलक लगाएं। इसके बाद रुद्राक्ष की माला गले में धारण करें। ऐसा करने से पुण्य की प्राप्ति होती है और जाने-अनजाने किए गए पाप भी दूर हो जाते हैं। इस दिन शिवालय में जाकर विधिपूर्वक शिवलिंग की पूजा करें और भगवान शिव को प्रणाम करें। इसके बाद पूरे दिन उपवास या उपवास करना चाहिए। यह कभी न खत्म होने वाली महानता देता है।

शिवरात्रि: शिव तत्व की रात

शिवरात्रि का अर्थ है रात, जिसका शिव तत्व से घनिष्ठ संबंध है। भगवान शिव की सबसे प्यारी रात शिवरात्रि कहलाती है। इस व्रत में रात भर जागरण और रुद्राभिषेक करने का विधान है।

स्कंद पुराण में कहा गया है कि जो महाशिवरात्रि की पूजा, जागरण और व्रत करता है, उसका पुनर्जन्म नहीं हो सकता, अर्थात उसे मोक्ष की प्राप्ति होती है। ब्रह्मा, विष्णु और पार्वती के पूछने पर भगवान शिव ने बताया कि शिवरात्रि का व्रत करने से महान पुण्य की प्राप्ति होती है। शिव पुराण में मोक्ष के चार शाश्वत मार्ग बताए गए हैं। इन चारों में शिवरात्रि व्रत का विशेष महत्व है। तो यह किया जाना चाहिए।

भगवान शिव आपको विकारों से मुक्ती देते हैं
Photo courtesy | rewa riyasa

भगवान शिव आपको विकारों से मुक्ती देते हैं

भगवान शिव हमें काम, क्रोध, लोभ, मोह, मत्स्यादि के दोषों से मुक्त करते हैं और हमें परम सुख, शांति, ऐश्वर्य आदि प्रदान करते हैं। महाशिवरात्रि व्रत को व्रतराज भी कहा जाता है। यह शिवरात्रि यमराज के राज्य को नष्ट कर शिवलोक को देने वाली है। जो लोग शास्त्र विधि से इसके जागरण से व्रत करते हैं, उन्हें मोक्ष की प्राप्ति होती है। शिवरात्रि के समान पापों और भयों को दूर करने वाला कोई दूसरा व्रत नहीं है। ऐसा करने से सारे पाप नष्ट हो जाते हैं।

शिव वेदों का रूप हैं
Photo courtesy | getty images

शिव वेदों का रूप हैं

शिव का अर्थ है वेद। यह भी कहा गया है कि ‘वेदः शिवः शिवोवेदः’ अर्थात् वेद ही शिव हैं और शिव ही वेद हैं। शिव वेदों का रूप हैं। यह योग वेद अध्ययन, आध्यात्मिक चिंतन आदि शुरू करने के लिए उत्कृष्ट है। सभी बौद्धिक कार्य; इन सभी को शिव योग में सर्वश्रेष्ठ माना जाता है। इस योग में दान, दया और लोक कल्याण के कार्यों को बहुत सफल माना जाता है।

 शिवरात्री पर क्या पहनना माना जाता है शुभ

शिवरात्रि के दिन हरा रंग पहनना सबसे शुभ माना जाता है। कहा जाता है कि इस दिन हरा वस्त्र पहनने वालों पर भोलेनाथ प्रसन्न होते हैं। हरे रंग के सूती कपड़े के अलावा लाल, सफेद, पीला और नारंगी रंग पहनना भी शुभ माना जाता है। महाशिवरात्रि पर काले रंग के कपड़े पहनना सख्त वर्जित है। कहा जाता है कि शिव जी को काले रंग के कपड़े बिल्कुल भी पसंद नहीं हैं। लड़कों के लिए भी इस दिन धोती पहनना शुभ माना जाता है।

इन बातों का रखें ध्यान Mahashivratri 2022
Photo courtesy | getty images

इन बातों का रखें ध्यान

  • महाशिवरात्रि के दिन लड़कियों को सजना-संवरना बहुत पसंद होता है। ऐसे में उन्हें मंदिर में पूजा करने जाते समय कुछ बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए।
  • ऐसा माना जाता है कि बहुत अधिक श्रृंगार करके पूजा नहीं करनी चाहिए। आप जितनी सरल पूजा करते हैं, उतना ही अच्छा माना जाता है।
  • नए कपड़े पहनना अनिवार्य नहीं माना जाता है, लेकिन पूजा के लिए बिना धुले कपड़े पहनना गलत है।
  • भक्तों को सलाह दी जाती है कि वे शिवलिंग पर चढ़ाए जाने वाले सामान का सेवन न करें  ऐसा करना शास्त्रों में अशुभ माना जाता है।
  • व्रत रखने वालों को काले और गहरे रंग के कपड़े पहनने की मनाही है।

यदि आप अपने जीवन को खुशियों से भरा देखना चाहते हैं, तो आपको पहले शिव मंदिर जाना चाहिए और शिवलिंग पर जलाभिषेक करना चाहिए और फिर चंदन का लेप लगाना चाहिए। और भगवान शिव के इस मंत्र का जाप करना चाहिए। मंत्र है – ‘ओम शं विश्वरूप अनादि अनामय शाम ओम’। यदि आप मन की शांति चाहते हैं तो दूध से हवन करें और शिव के अघोर मंत्र का जाप करें। मंत्र है-

‘ऊँ अघोरेभ्यो अथघोरेभ्यो, घोर घोर तरेभ्यः’

सर्वेभ्यो सर्व शर्वेभ्यो, नमस्ते अस्तु रूद्ररूपेभ्यः’

यदि आप विवादों और षडयंत्रों से बचना चाहते हैं तो आपको दही से हवन करना चाहिए और भगवान शिव के इस विशेष मंत्र का जाप करना चाहिए। मंत्र है-

Mahashivratri 2022
Photo courtesy | getty images

‘ऊँ ऐं ह्रीं क्लीं आं शं शंकराय मम सकल जन्मांतरार्जित पाप विध्वंसनाय श्रीमते

आयुःप्रदाय, धनदाय, पुत्रदारादि सौख्य प्रदाय महेश्वराय ते नमः कष्टं घोर भयं वारय वारय

पूर्णायुः वितर वितर मध्ये मा खण्डितं कुरु कुरु सर्वान् कामान् पूरय पूरय शं

आं क्लीं ह्रीं ऐं ऊँ सम संख्याम सावित्रीम् जपेत्-

ॐ तत्पुरुषाय च विद्महे महादेवाय च धीमहि तन्नो रुद्र प्रचोदयात’

अगर आप अपने बच्चो की तरक्की चाहते हैं तो महाशिवरात्रि के दिन शिवलिंग पर एक मुट्ठी बेर चढ़ाने चाहिए और शिवजी के इस मंत्र का जप करना चाहिए । मंत्र है – ‘ऊँ क्लीं क्लीं क्लीं वृषभारूढ़ाय वामांगे गौरी कृताय क्लीं क्लीं क्लीं ऊँ नमः शिवाय’

अगर आप राजनीति के क्षेत्र में सफलता पाना चाहते हैं तो आपको दूध और घी के साथ अन्न से होम करना चाहिए और शिवजी के त्र्यम्बक मंत्र का जप करना चाहिए । मंत्र है –

Mahashivratri 2022
Photo courtesy | zee news

ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्

उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्’

यदि आप अपना वैवाहिक जीवन खुशहाल बनाना चाहते हैं तो आपको शिवलिंग पर जल अर्पित करना चाहिए और साथ ही बेल के तने पर थोड़ा- घी अर्पित करना चाहिए और साथ ही शिवजी के इस मंत्र का जप करना चाहिए। मंत्र है- ‘ऊँ शिवाय नमः ऊँ’

 

Mahashivratri 2022: ग्रहों का दुर्लभ योग
Photo courtesy | zee news

                             

यदि आप ऑफिस में अधिकारियों के साथ अच्छे संबंध बनाना चाहते हैं तो आपको बालू, राख, गोबर, गुड़ और मक्खन का मिश्रण कर एक छोटा-सा शिवलिंग बनाना चाहिए और उसकी विधि-पूर्वक पूजा करनी चाहिए और पूजा के बाद पूरा दिन सारी चीज़ों को यथास्थान पर रखा रहने दें और अगले दिन शिवलिंग समेत उपयोग की गई सारी चीज़ों को किसी जलाश्य या तालाब में प्रवाहित कर देना चाहिए इसके बाद शिवजी के इस मंत्र का जप करना चाहिए। मंत्र है –

‘नमामिशमीशान निर्वाण रूपं

विभुं व्यापकं ब्रह्म वेद स्वरूपं’

यदि आप चाहते हैं कि आप खूब धन-सम्पत्ति संपन्न हों और बिजनेस में तरक्की हो तो आपको शिवजी के इस मंत्र का जप जरूर करना चाहिए । मंत्र है– ‘ऊँ शं शिवाय शं ऊँ नमः’, साथ ही आपको मंत्र जप के साथ ही बेलफल से हवन भी करना चाहिए।

यदि आप अपने घर पर आई किसी मुसीबत को दूर करना चाहते हैं और घर से कलह दूर करना चाहते हैं तो आपको शिवजी के इस मंत्र का जप करना चाहिए । मंत्र है- ‘ऊँ शं भवोद्भवाय शं ऊँ नमः’ , साथ ही शाम को दिन ढलने के बाद आपको शिव मन्दिर जाकर दीपदान करना चाहिए।

डिस्क्लेमर- ये लेख जन सामान्य सूचनाओं और ज्योतिष विशेषज्ञों पर आधारित है। थम्सअप भारत  इसकी सत्यता की पुष्टि नहीं करता। पाठकों को सलाह दी जाती है कि वे संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ से सलाह जरूर लें।

mahashivratri 2022 photo | mahashivratri 2022 in Hindi | mahashivratri 2022 status | mahashivratri 2022 holiday | mahashivratri 2022 photos | mahashivratri 2022 telugu | mahashivratri 2022 status download | mahashivratri 2022 marathi | mahashivratri 2022 date | isha mahashivratri 2022 | mahashivratri 2022 in India | isha mahashivratri 2022 tickets price | sadhguru mahashivratri 2022 | mahashivratri 2022 isha sadhana

Like and Follow us on :

Was This Article Helpful?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *