YEAR ENDER 2020 : साल 2020 में हमने बहुत खोया, लेकिन इस साल से हमने कुछ सीखा भी, क्या हैं वो बातें, जानिए Read it later

YEAR ENDER 2020

 कहते हैं समय से बेहतर शिक्षक कोई नहीं हो सकता। वर्ष 2020 भी ऐसा ही रहा। हमने वर्ष के साथ आए कोरोना में बहुत कुछ खो दिया, लेकिन कुछ नई चीजें भी सीखीं। हमने कुछ पुरानी चीजों के महत्व को भी समझा, जिन्हें हम जानते थे लेकिन अनदेखा कर दिया करते थे।

विज्ञान और मानव व्यवहार के विशेषज्ञों की मानें तो मनुष्य कठिनाइयों और आपदाओं से सबसे अधिक सीखते हैं। निश्चित रूप से कोरोना महामारी एक बड़ी समस्या है, लेकिन इससे पहले भी आपदाएं आई हैं, हमने हर आपदा से सीखा है और हमारे जीवन के तरीके को भी बदल दिया है। कुंजी यह है कि हम नई सीख कब तक याद रखेंगे? मानव व्यवहार के दृष्टिकोण से, एक व्यक्ति बस बड़ी चीजों को याद करता है, लेकिन छोटी चीजों को भूल जाता है। कोरोना ने हमें छोटी-छोटी चीजों का महत्व सिखाया है, जिन्हें हमें नहीं भूलना चाहिए।

हम धन्यवाद 2020 में इन 5 चीजों के लिए बोल सकते हैं

सभी नकारात्मकता के बीच, कुछ चीजें हैं जिनके लिए हम 2020 के लिए आभारी हो सकते हैं। कोरोना के कारण इस साल बहुत सारी चीजें डिजिटल हो गई हैं। डिजिटल होने से चीजें आसान, सस्ती और पारदर्शी भी हो गई हैं।

year-ender-2020

डिजिटल भुगतान में वृद्धि हुई: 

फिजिकल टच के डर से लोगों ने नकद लेनदेन बंद कर दिया और इसके कारण डिजिटल भुगतान ने नकदी की जगह ले ली। भारत सरकार के आंकड़ों के अनुसार, 70% से अधिक भुगतान अकेले खुदरा क्षेत्र में डिजिटल हो गए हैं। इसने लेनदेन को आसान और तेज़ बना दिया है और हमारे जीवन को अधिक गति प्रदान की है।

work from getty
image | getty

रिमोट या ऑनलाइन काम करना:

सोशल डिस्टेंसिंग को मेंटेन करने के लिए सर्विस सेक्टर ‘वर्क फ्रॉम होम’ हुआ। देश की कई कंपनियों ने अगले कई सालों तक होम से वर्क को मंजूरी दी। कुछ कंपनियां इसे एक स्थायी विकल्प के रूप में देखती हैं। जो लोग कई किलोमीटर तक काम करने या घर से दूर रहने को मजबूर थे, उन्हें 2020 में रिमोट काम करने का विकल्प मिला।

ई-लर्निंग / स्कूल:

जब भी कोई आपदा या समस्या आती है, तो इसका सबसे बुरा प्रभाव बच्चों पर पड़ता है। स्कूल बंद होते हैं और बच्चों की पढ़ाई बाधित होने लगती है। लेकिन, इस साल, कोरोना के कारण, जब स्कूल लगभग बंद हो गए थे, तब बच्चों के लिए विकल्प तलाशे जाने लगे और फिर ई-लर्निंग की शुरुआत हुई। इसके लिए बच्चे 2020 को थैंक्स कह सकते हैं। इसके अलावा, यह विकल्प उनकी पढ़ाई को टूटने नहीं देगा।

वर्चुअल वेडिंग:

इस साल शादियों पर भी कोरोना का असर दिखा। कई शादियाँ रद्द कर दी गईं, लेकिन इस बीच वर्चुअल शादी का अनोखा आइडिया इजाद हो गया। पूरी दुनिया में लगभग 12 हजार शादियां ऑनलाइन हुईं।

वर्चुअल ट्रैवलिंग:

इस साल दुनिया कोरोनावायरस के कारण एक ठहराव पर आ गई। लोग महीनों घर पर रहे। जब लॉकडाउन का दौर चल रहा था, तब कहीं भी आवाजाही की मंजूरी नहीं थी। इस बीच, ट्रैवल कंपनियों ने वर्चुअल यात्रा के आइडिया का इजाद किया। यह भी आने वाले समय में एक यात्रा विकल्प साबित होगा।

4 बातें जो हमने 2020 से सीखीं

स्वच्छता का महत्व: घर और आसपास की सफाई महत्वपूर्ण है। यह हम सभी जानते हैं, लेकिन इसके बावजूद, कई लोग स्वच्छता के प्रति लापरवाह हैं और इसे अनदेखा करते हैं। इस साल कोरोना के कारण, हमने स्वच्छता के महत्व को समझा और इसके बारे में गंभीर थे।

हाथ धोना अधिक:

हम सभी हाथ धोते हैं, लेकिन ज्यादातर लोग खाना खाते समय ऐसा करते हैं। आमतौर पर हम हाथ धोने पर ज्यादा ध्यान नहीं देते हैं। कोई भी चीज छूने या किसी से मिलने के बाद शायद ही हाथ साफ करता है। लेकिन इस साल हम सब बस हाथ धोते रहे।

योग और व्यायाम का महत्व:

हम में से बहुत कम लोगों द्वारा नियमित योग और व्यायाम किया जाता था। यह न केवल हमें स्वस्थ रखता है, बल्कि सकारात्मक भी है। हमारा इम्यून सिस्टम भी मजबूत बना रहता है। इस वर्ष को कोरोना की छाया में बिताया गया था, सभी उनकी प्रतिरक्षा प्रणाली और स्वास्थ्य के बारे में गंभीर थे। इसके चलते योग और व्यायाम को एक चलन के रूप में स्थापित किया गया।

आयुर्वेद और परंपराओं में लौटे:

क्या आपने पहले काढ़ा, गर्म पानी, गिलोय, काली मिर्च और हल्दी वाला दूध पीया था? लेकिन, आज हम में से कई लोग ऐसा कर रहे हैं। डॉक्टर भी बेहतर प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए ऐसी चीजों को लेने की बात कर रहे हैं। 2020 में, हमने अपनी परंपराओं के महत्व को समझा और उन्हें बहुत तेजी से अपनाया।

Like and Follow us on :

Was This Article Helpful?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *