अमेरिका में बड़ा विमान हादसा टला: 231 यात्रियों को ले जा रहे प्लेन के इंजन में आग लगी; इंजन के पाटर्स जलते रहे, लेकिन पायलट ने सुरक्षित लैंडिंग कराई

boeing 777 engine fire in america

boeing 777 engine fire in america – अमेरिका में रविवार को एक बड़ा विमान हादसा टल गया। डेनवर से होनोलूलू तक बोइंग 777 इंजन ने उड़ान भरने के तुरंत बाद आग पकड़ ली। उस समय विमान 1 हजार फीट की ऊंचाई पर था। हालांकि, पायलट की सूझबूझ से दुर्घटना टल गई। उन्होंने तुरंत नियंत्रण स्टेशन को गड़बड़ कर दिया और डेनवर में वापस सुरक्षित लैंडिंग कराई। विमान में 231 यात्री और चालक दल के 10 सदस्य थे।

लोगों से अपील – मलबे से दूर रहें

राष्ट्रीय परिवहन सुरक्षा बोर्ड (NTSB) ने इस घटना की जांच के लिए एक टीम का गठन किया है। विमान का मलबा एक बड़े क्षेत्र में फैल गया है। मफलर पुलिस ने लोगों से अपील की है कि वे मलबे को न छुएं और न ही उससे संपर्क करें।

विमान में बैठे यात्री ने जलते इंजन का वीडियो बनाया

boeing 777 engine fire in america

प्लेन के इंजन में आग लगते ही फ्लाइट में कोहराम मच गया। हालांकि, पायलट ने उसे हिम्मत दी। साथ ही उन्होंने कहा कि वह सुरक्षित लैंडिंग के लिए हर संभव कोशिश कर रहे हैं। इस दौरान एक यात्री ने जलते हुए इंजन का वीडियो बनाया। सोशल मीडिया पर शेयर होते ही यह वायरल हो गया।
boeing 777 engine fire in america
यह इंजन का आगे का कवर है, जो टूटकर रिहायशी इलाके में गिरा। गनीमत रही कि उस समय वहां कोई नहीं था

एक यात्री डेविड डेलुसिया ने डेनवर पोस्ट को बताया – मैं ईमानदारी से कह रहा हूं कि हम किसी बिंदु पर मरने जा रहे थे। ऐसा सोचने का कारण भी था। धमाके के बाद हम लगातार ऊंचाई से नीचे आ रहे थे।

बोइंग 777 इंजन 2018 में भी विफल रहा

boeing 777 engine fire in america
विमान में दो प्रैट एंड व्हिटनी PW4000 इंजन लगे थे। हैरानी की बात है कि इसके कई अहम पार्ट्स गिरने के बाद भी विमान सुरक्षित उतार लिया गया

विमान करीब 26 साल पुराना था। यह दो प्रैट एंड व्हिटनी PW4000 इंजन द्वारा संचालित था। फरवरी 2018 में, एक पुराने बोइंग 777 विमान का इंजन विफल हो गया। तब भी कुछ ही समय में एक सुरक्षित लैंडिंग की गई थी।

Like and Follow us on :

Facebook
Instagram
Twitter

Pinterest
Linkedin

Was This Article Helpful?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *