Teacher Recruitment Scam: अर्पिता मुखर्जी के घर फिर रेड में मिला 20 करोड़ कैश और 3 किलो सोना-बंगाल के मंत्री संग रिलेशनशिप में थीॽ ब्लैक डायरी ने खोले राज़

Teacher Recruitment Scam

Teacher Recruitment Scam: पश्चिम बंगाल में शिक्ष भर्ती घोटाले (WB SSC Scam) की जांच कर रहे प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Directorate) को अर्पिता चटर्जी के घर फिर से भारी मात्रा नकदी हाथ लगी है। ईडी ऑफिसर्स को 20 करोड़ रुपए से अधिक कैश और तीन किलोग्राम गोल्ड मिल चुका है। चार मशीनों से नोटों की गिनती की गई। अभी तक कुल मिलाकर 41 करोड़ रुपए बरामद किए गए हैं।

ज्ञात हो कि 23 जुलाई को भी ED ने टीमएसी मंत्री पार्थ चटर्जी (partha chatterjee) और उनकी करीबी अर्पिता मुखर्जी के ठिकानों पर छापेमारी की थी। उस दौरान अर्पिता के घर से 21 करोड़ रुपये नकद और 1 करोड़ रुपये के जेवरात जब्त किए गए थे।  इस दौरान एक कमरे में 500 और 2000 रुपये के नोटों के कई बंडलों  को थैलों और बैग में दबा दबा कर भर रखे थे। ईडी को जरूरी दस्तावेज भी मिले थे। इसके बाद दोनों को हिरासत में ले लिया गया।

#WATCH | West Bengal: Hugh amount of cash, amounting to at least Rs 15 Crores, recovered from the residence of Arpita Mukherjee at Belgharia.

She is a close aide of West Bengal Minister Partha Chatterjee. pic.twitter.com/7MMFsjzny1

— ANI (@ANI) July 27, 2022

Rs 15 crore+ already counted, cash counting process is still on at the Belghoria apartment of #ArpitaMukherjee. More #ED officers have arrived along with bank officials. ED sources say the cash counting will take time & the amount could be bigger than the first recovery pic.twitter.com/TE5htXfz8j

— Tamal Saha (@Tamal0401) July 27, 2022

BREAKING :

More than ₹20 crore recovered in fresh raids by ED from West Bengal Minister Partha Chatterjee’s close aide Arpita Mukherjee’s residence in Belghoria.#ArpitaMukherjee #ParthaChatterjee @pradip103 pic.twitter.com/mWc8562UUn

— Jan Ki Baat (@jankibaat1) July 27, 2022

#SSCScamProbe gets bigger!

Just look at the size of the cash counting machines brought in by #ED at Belghoria residence of #ArpitaMukherjee, aide of WB minister #ParthaChatterjee. pic.twitter.com/Uz2JtFrRhv

— Sreyashi Dey (@SreyashiDey) July 27, 2022

पांच ठिकनों पर ईडी की ओर से की जा रही छापेमारी

ईडी ने बुधवार को फिर से मंत्री पार्थ चटर्जी और उनकी करीबी अर्पिता मुखर्जी (arpita mukherjee) के विभिन्न ठिकानाें पर छापेमारी की। रिपोर्ट्स बतया जा रहा है कि ED ने पार्थ और अर्पिता के 5 स्थानों पर छापेमारी को अंजाम दिया है। ईडी की टीम ने उत्तर 24 परगना जिले के बेलघरिया और राजडांगा में अर्पिता के कार्यालयाें के साथ दोनों के रिलेटिव्स के घरों और अन्य फ्लैटों पर  छापेमारी की। ये ठिकानें कोलकाता और उसके आसपास  की जगहों पर हैं।

ये भी पढ़ें –  शिक्षक भर्ती घोटाला क्या है और पार्थ की कैश क्वीन अर्पिता मुखर्जी कौन हैॽ

बुधवार को ED की कार्रवाई में भी अर्पिता के घर से भारी मात्रा में 500 और 2000 के नोटों के बंडल बरामद हुए। ये रकम भी करोंड़ों में बताई जा रही। 

ब्लैक डायरी खोलेगी कई दबे राजॽ

 बता दें कि बंगाल के चर्चित शिक्षक भर्ती घोटाले में रोज नए राज उजागर हो रहे हैं। ED  की ओर से घोटाले में बंगाल के मंत्री पार्थ चटर्जी और उनकी करीबी अर्पिता मुखर्जी को गिरफ्तार किया जा चुका है। ईडी ने सोमवार को ही कलकत्ता हाईकोर्ट के समक्ष कई बातें कहीं। इसमें किसी ब्लैक डायरी का भी जिक्र किया गया है। बता दें कि ये डायरी ईडी ने अर्पिता मुखर्जी के निवास से बरामद की थी। डायरी से कई बड़े राज से पर्दा उठने की उम्मीद है। 

Teacher Recruitment Scam
फाइल फोटो।

रिश्ते में थे पार्थ और अर्पिता?

रिपोर्ट्स में कहा जा रहा है कि एडिशनल सॉलिसिटर जनरल सूर्यप्रकाश वी राजू ने न्यायालय में कहा कि अर्पिता मुखर्जी से जुड़े  कई दस्तावेज टीएमसी मंत्री पार्थ चटर्जी के घर से बरामद किए गए हैं। उन्होंने ये भी कहा कि दोनों ही लोग रिलेशनशिप में थे और ये दोनों एक-दूसरे के बेहद करीबी हैं। 

पार्थ और अर्पिता मोबाइल पर हमेशा संपर्क में थे। ऐसे में दोनों की आमने-सामने बैठाकर पूछताछ  जरूरी है। इधर पार्थ चटर्जी के एडवोकेट ने दोनों के बीच रिलेशनशिप की बात को झूठा बताते हुए कहा कि पार्थ यदि अपनी जूनियर को फोन करते हैं तो इसका मतलब ये कतई नहीं है कि दोनों के बीच अफेयर था।

ब्लैक डायरी खोल दिए ये राज

  •  ब्लैक डायरी से कई बड़े राज जाहिर हुए हैं। 40 पन्नों की की इस नोट बुक में शिक्षक भर्ती घोटाले से जुड़ी बातें लिखी हैं।
  • ईडी का कहना है कि 40 में से 16 पन्नों में इस बिग स्कैम के समय पैसे के लेन-देन की बातें दर्ज है। कई बातें कोडवर्ड में लिखी हुई हैं।  
  • इस डायरी में यह भी नोड डाला गया है कि मेरिट लिस्ट में किन-किन लोगों को रखना है। ऐसे उम्मीदवारों के नाम भी दर्ज हैं‚ जिनके परीक्षा में पासिंग मार्क्स भी नहीं हैं मगर उनके नंबर बढ़ाकर उन्हें पास कर दिया गया है। 
  • वहीं ये भी बात दर्ज है कि किसने कितनी रकम दी है और कितना बकाया है, वहीं उन एजेंट्स के नाम भी दर्ज हैं जिनकों रकम कलैक्शन के लिए भेजा जाता था। 
  • ब्लैक डायरी के साथ शिक्षा विभाग के नाम एक 5 लाख रुपए से भरा लिफाफा भी जब्त किया गया है।
  • इसी तरह ग्रुप D कर्मियों के प्रवेश पत्र भी बरामद किए गए हैं। इससे जाहिर हो रहा है कि पार्थ चटर्जी ही इस घोटाले के मुख्य सूत्रधार थे।

अर्पिता मुखर्जी आखिर कौन है ? (who is arpita mukherjee tmc)

अर्पिता मुखर्जी (arpita mukherjee tmc biography) खुद को अभिनेत्री के तौर पर पेश करती हैं। उनके अनुसार साल 2008 से 2014 के मध्य अर्पिता (arpita mukherjee bengali film) ने बंगाली और उड़िया भाषा की फिल्मों में साइड रोल की भूमिका की थीं।  मध्यम वर्गीय परिवार से ताल्लुक रखने वाली अर्पिता  कोलकाता के बेलघोरिया में निवास करती हैं। 

arpita mukherjee
Photo Credit | Getty Imeges

वे बांग्ला फिल्मों के एक्टर प्रोसेनजीत चटर्जी के साथ फिल्म ‘मामा भगने’ में भूमिका की थी। साथ ही अर्पिता कोलकाता में सबसे बड़ी दुर्गा उत्सव समिति की स्टार प्रचारक के तौर पर भी भूमिका निभा चुकी हैं। खास बात ये है कि इस समिति से पार्थ चटर्जी भी ताल्लुक रखते हैं। 

 शिक्षक भर्ती घोटाला क्या है ?

दरअसल साल 2016 में वेस्ट बंगाल के स्कूल सेवा आयोग (SSC) ने शिक्षकों की भर्ती के लिए एक परीक्षा आयोजित की थी। 2017 में जब इसका परिणाम जारी हुआ तो इस लिस्ट में सिलीगुड़ी की बबीता सरकार का नाम टॉप-20 में था। इसके बाद आयोग ने ये लिस्ट रिस्त कर दी थी।

 लेकिन इसके बाद ही बबीता से कुल 16 नंबर कम लाने अंकिता अधिकारी टॉप पोजिशन आ गई। बता दें कि अंकिता मंत्री परेश अधिकारी की बेटी है। इस निर्णय के विरुद्ध बबीता और अन्य कुछ लोगों ने कलकत्ता हाईकोर्ट में पीटीशन दायर की। इसके बाद कोर्ट ने CBI जांच के आदेश दे दिए थे। 

इसके बाद कोर्ट के निर्देशानुसार CBI ने पार्थ चटर्जी (partha chatterjee) से पूछताछ की क्योंकि उस समय वे ही राज्य के एजुकेशन मिनिस्टर थे। इसके बाद में प्रवर्तन निदेशालय ने पार्थ चटर्जी और उनके करीबियों के घर रेड मारी‚ जिसके तहत अर्पिता मुखर्जी के घर से 21 करोड़ नकद, 50 लाख की जूलरी और 20 मोबाइल फोन जब्त किए गए। इस कार्रवाई के बाद तुरंत पार्थ और अर्पिता को हिरासत में ले लिय गया।

मंत्री सहित TMC के सभी पदों से पार्थ को सस्पेंड किया

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शिक्षक भर्ती स्कैम में गिरफ्तार पार्थ चटर्जी को मंत्री पद से सस्पेंड कर दिया है। गिरफ्तारी के 5 दिन बाद ममता ने ये कार्रवाई की है। ममता के भतीजे अभिषेक बनर्जी ने शाम को पार्टी की अनुशासन समिति बैठक बुलाकर उन्हें पार्टी संगठन के सभी पदों से भी हटा दिया।

पार्थ के पदों में पार्टी महासचिव, पार्टी उपाध्यक्ष और तीन अन्य पद थे। अभिषेक ने कहा कि पार्थ को जांच जारी रहने तक पार्टी से सस्पेंड रखा जाएगा। यदि वे बेकसूर  हुए तो वे फिर से पार्टी में आ सकेंगे।

arpita mukherjee tmc biography | Teacher Recruitment Scam | arpita mukherjee | Enforcement Directorate | arpita mukherjee bengali film | SSC | WB SSC Scam | partha chatterjee | 

ये भी पढ़ें –  

President Draupadi Murmu : शक्षिका को पुटी नाम पसंद नहीं था‚ उन्होंने ही द्रौपदी नाम रखा‚ इकलौती बेटी हैं बैंक अधिकारी तो दामाद में रग्बी प्लेयर‚ जानिए राष्ट्रपति की अनछुई बातें

Presidential Elections: राजेंद्र प्रसाद से कोविंद तक जानिए राष्ट्रपतियों से जुड़े रोचक तथ्य, आपकी GK में खूब काम आएंगे 

झुंझुनूं के जगदीप धनखड़ NDA के उपराष्ट्रपति उम्मीदवार: भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने किया ऐलान

Was This Article Helpful?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *