ब्रिटिश क्वीन एलिजाबैथ की हत्या करने पहुंचा सिख गिरफ्तार: बोला- महारानी से 1919 के जलियांवाला बाग का बदला लेना है

 

ब्रिटिश क्वीन एलिजाबैथ की हत्या करने पहुंचा सिख गिरफ्तार

क्रिसमस पर ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ द्वितीय की हत्या करने के लिए एक सिख महारानी के महल में घुस आया। जानकारी के अनुसार 1919 के जलियांवाला बाग हत्याकांड का बदला लेने के लिए युवक रानी की हत्या करना चाहता था। पुलिस ने आरोपी को हथियार सहित गिरफ्तार कर लिया। ब्रिटिश मीडिया के मुताबिक 19 साल के इस युवक का नाम जसवंत सिंह छैल है। क्रिसमस के दिन ये वाकया हुआ था, लेकिन इस घटना की जानकारी अब सामने आई है।

महारानी को मारने की कोशिश करूंगा : आरोपी

क्रिसमस के दिन सोशल मीडिया पर अपलोड किए गए वीडियो में आरोपी ने कहा- मैंने जो किया है और करूंगा उसके लिए मुझे खेद है। मैं शाही परिवार की महारानी एलिजाबेथ को मारने की कोशिश करूंगा। यह 1919 के जलियांवाला बाग हत्याकांड में मारे गए लोगों का मेरा बदला होगा। यह उन लोगों का भी बदला है जो अपनी जाति के कारण मारे गए या अपमानित हुए। मैं एक भारतीय सिख हूं, ‘एक सिथ’। मेरा नाम जसवंत सिंह छैल था, लेकिन अब मेरा नाम डार्थ जोन्स है।’

मेंटल हैल्थ एक्ट में हुआ गिरफ्तार 

स्कॉटलैंड यार्ड ने कहा कि उसके वीडियो की जांच की जा रही है। रानी को मारने के लिए आरोपी अजीबोगरीब हुडी और नकाब पहनकर महल में दाखिल हुआ था। सीसीटीवी फुटेज में उसे दीवार पर चढ़ते हुए देखा गया है। उसके हाथ में धनुष था। पुलिस ने आरोपी को मेंटल हेल्थ एक्ट के तहत हिरासत में लिया है।

हॉलीवुड मूवी स्टार वार्स से इंस्पायर आरोपी का मास्क
ब्रिटिश महारानी लंबे वक्त बाद क्रिसमस की पूर्व संध्या पर नजर आईं थीं।

हॉलीवुड मूवी स्टार वार्स से इंस्पायर आरोपी का मास्क

वीडियो में आरोपी द्वारा पहना गया मास्क यानि मुखोटा हॉलीवुड फिल्म स्टार वार्स से इंस्पायर बताया जा रहा है। ‘सिथ’ इस फिल्म का विलेन कैरेक्टर है। सिथ की तरह ‘डार्थ जोन्स’ भी इस फिल्म से जुड़ा है। चैल के वीडियो में बैकग्राउंड में स्टार वार्स के चरित्र डार्थ मालगस की तस्वीर थी। इसके साथ ही दोस्तों को भेजे गए मैसेज में मैं उन सभी से माफी मांगता हूं जिनके साथ मैंने गलत किया या झूठ बोला। अगर आपको यह संदेश मिला है, तो मेरी मृत्यु निकट है। इस वीडियो को ज्यादा से ज्यादा लोगों तक शेयर करें।

जलियांवाला बाग नरसंहार की घटना, जनरल डायर का क्रूर निर्णय

13 अप्रैल 1919 को बैसाखी के दिन जनरल डायर ने अमृतसर के जलियांवाला बाग में रॉलेट एक्ट के खिलाफ सभा कर रहे हजारों लोगों पर गोलियां चला दीं थी। इस गोलीबारी में एक हजार से ज्यादा लोग मारे गए थे। इसमें महिलाएं, पुरुष और बच्चे शामिल थे। 1,200 से अधिक लोग घायल भी हुए थे। सैकड़ों महिलाएं, बूढ़े और बच्चे जान बचाने के लिए वहां बने एक कुएं में कूद गए, जिसमें उनकी मौत हो गई थी।

Britain’s Queen Elizabeth Murder Attempt | Sikh Jaswant Singh Arrest By Police | Britain Queen Elizabeth Indian Sikh Murder | Britain Queen Indian Sikh Jallianwala Bagh Changed | 

Was This Article Helpful?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *