मां का अनोखा कोरोना काल रूप: 30 हजार दवाओं और सीरिंज से असम के कलाकार ने तैयार की मां दुर्गा की प्रतिमा, शेयर करें मां का अद्भुत रूप Read it later

durga maa in asam

असम के एक कलाकार ने 30 हजार एक्सपायर्ड दवाओं और सीरिंज की मदद से मां दुर्गा की प्रतिमा तैयार की है। असम में धुबरी के कलाकार संजीब बसक को यह प्रतिमा तैयार करने में दो माह का वक्त लगा है। उन्होंने इसे मेडिकल वेस्ट से तैयार किया है। संजीब इससे पहले माचिस की तीलियों और तारों का प्रयोग करके भी मां की प्रतिमा तैयार कर चुके हैं।

durga maa in asam

लॉकडाउन में मेडिकल स्टोर्स एक्सपायर दवाएं फेंक रहे थे तभी आया आइडिया

संजीब डिजास्टर मैंनेजमेंट के साथ मिलकर काम करते हैं। वह कहते हैं, मैंने देखा कि मेडिकल स्टोर एक्सपायर हो चुकीं दवाओं को फेंक रहे हैं। वे ऐसा इसलिए कर रहे थे क्योंकि लॉकडाउन के दौरान कम्पनियां को वापसी के लिए ये दवाएं नहीं पहुंचा पा रहे थे। तभी मैंने तय किया कि इन दवाओं और सीरिंज की मदद से मां दुर्गा की प्रतिमा तैयार करूंगा।

durga maa in asam

2019 में असम बुक ऑफ रिकॉर्ड में दर्ज हुआ था नाम

संजीब कहते हैं, ये मेडिकल वेस्ट कैसे कम किया जाए इसको लेकर मैंने डिजास्टर मैनेजमेंट से बात की। तभी तय किया कि इससे प्रतिमा तैयार की जा सकती है। संजीब ने बिजली के तारों से भी मां दुर्गा की 166 किलो की प्रतिमा तैयार की थी। इसके लिए इनका नाम 2019 में असम बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में दर्ज किया गया था।

durga maa in asam

कई अवॉर्ड अपने नाम कर चुके हैं संजीब

37 साल के संजीब आर्ट्स से ग्रेजुएट हैं लेकिन प्रोफेशनल कलाकार नहीं थे। धीरे-धीरे उन्होंने प्रतिमा तैयार करने की कोशिश की और यह उनकी हॉबी बन गई। अब जब भी उन्हें समय मिलता है तो वो इसे तैयार करते हैं। पिछले 8 सालों में संजीब को मां दुर्गा की अलग तरह तरह की प्रतिमा बनाने के लिए कई अवॉर्ड भी मिल चुके हैं।

चौंकाने वाला खुलासा:इंसानों में विलुप्त हो रही अकल दाढ़, कच्ची चीज चबाने की आदत छूटी और हाथों में अब तीसरी आर्टरी भी पाई जा रही, वैज्ञानिक बोले- 250 सालों में अजीबोगरीब बदलाव दिखे

Like and Follow us on :

Was This Article Helpful?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *