वाइट मून नहीं अब कलरफुल चांद का करें दीदार, 55,000 तस्वीरों से तैयार की अब तक की खूबसूरत तस्वीर

16 वर्षीय प्रथमेश जाजू
ANI

चांद की तस्वीरें लेना आम आदमी से लेकर एस्ट्रोफोटोग्राफर तक की एक खास तरह की हॉबी होती। हम ऐसा इसलिए कह रहे हैं कि पिछले कुछ दिनों से चांद की एक बेहद खूबसूरत तस्वीर काफी चर्चित हो रही है और इसे पुणे के 16 वर्षीय प्रथमेश जाजू ने अपने कैमरे में खास तकनीक के जरिए कैद किया है। खास बात यह है कि यह तस्वीर जो आपको बेहद साफ नजर आ रही है, इसे वास्तव में 55 हजार तस्वीरों को मिलाकर प्रथमेश ने तैयार किया है। उनके अनुसार इसमें 186 गीगाबाइट डेटा का इस्तेमाल किया गया था। प्रथमेश ने बताया कि उनकी ख्वाहिश भविष्य में एस्ट्रोफिजिसिस्ट बनने की है। यही कारण है कि फिलहाल वे एस्ट्रोफोटोग्राफी से अपने इस शौक को पूरा कर रहे हैं।

Pune: A 16-year-old boy Prathamesh Jaju gain popularity on internet by clicking one of the clearest pictures of moon

He says,”Raw data was 100GB & when you process it the data gets bigger so it was around 186GB. When I stitched them together, the final file was around 600MB” pic.twitter.com/ia2AecW37D

— ANI (@ANI) May 19, 2021

यूं तैयार की चांद की साफ तस्वीर

यूं तैयार की चांद की साफ तस्वीर
ANI

प्रथमेश बताते हैं कि उन्होंने सबसे पहले चांद के छोटे-छोटे हिस्सों के 38 वीडियो कैप्चर किए। प्रत्येक वीडियो में लगभग 2000 फ्रेम थे। फिर उन्हें स्टेबल कर के एक फोटो में तब्दील किया। फिर इस पूरे प्रॉसेस को चंद्रमा की पूरी तस्वीर बनाने के लिए एक साथ एग्जिक्यूट किया। जाजू ने बताया कि इसके लिए उन्होंने Celestron 5 Cassegrain OTA (टेलीस्कोप), ZWO ASI120MC-S सुपर-स्पीड USB कैमरा, SkyWatcher EQ3-2 माउंट और GSO 2X BARLOW लेंस का इस्तेमाल किया। फिर SharpCap की मदद से फोटो खींचे और उन्हें स्टेबल किया।
prathamesh-jaju

प्रथमेश ने बताया कि उन्होंने इस माह की 3 मई को रात 1 करीब बजे लगातार चार घंटे तक वीडियो और इमेज कैप्चर किए। इसके बाद इसे प्रोसेस करने में 38-40 घंटे लगे, जोकि अमूमन  इतना वक्त लगता ही है। उन्होंने बताया कि उनका मकसद 55,000 तस्वीरों के जरिए चांद की सबसे क्लियर तस्वीर उतारना था। ऐसे में सभी तस्वीरों को एक साथ स्टिच किया और चांद की महीन जानकारी हासिल करने के लिए तस्वीर को और शार्प किया।’

बेहद साफ चांद और उसमें मौजूद गड्ढे

prathamesh-jaju-moon-pic
ANI

वायरल हो रही इन फोटोज  में मून बेहद साफ नजर आ रहा है, वहीं चांद की सतह पर मौजूद गड्ढे भी फोटोज में साफ दिखाई दे रहे हैं। प्रथमेश के अनुसार चंद्रमा  के छोटे-छोटे हिस्सों के 38 वीडियो उन्होंने रिकॉर्ड किए थे। वहीं हर वीडियो में करीब 2000 फ्रेम्स हैं।

प्रथमेश ने इसका राज बताते हुए कहा कि यह फोटो 3डी इफेक्ट देने के लिए ली गई दो विभिन्न तस्वीरों का एचडीआर कंपोसाइट है। उन्होंने कहा कि यह थर्ड क्वॉर्टर मिनरल मून का उनका अब तक का सबसे डिटेल्ड और एकदम साफ शॉट है। प्रथमेश के अनुसार इसके लिए उन्होंने कुछ आर्टिकल पढ़े और यूट्यूब पर वीडियो देखे थे और वहां से इन तस्वीरों को क्लिक करने और प्रोसेसिंग के बारे में जानकारी जुटाई।

  

तस्वीर है कितनी रंगीन ?

इस तस्वीर में आप देखेंगे ​की चांद का रंग भी अलग नजर आ रहा है जैसा कि आमतौर आपने पहले कभी नहीं देखा होगा। प्रथमेश ने बताया कि इस फोटो हर कलर चांद पर मौजूद खनिजों की स्थिति को बताता है। कैमरे की मदद से लिए गए इस चांद के नीले रंग में ऐसे क्षेत्र हैं जहां लोहे, टाइटेनियम और ऑक्सीजन से बना इल्मेनाइट हो सकात है और नारंगी और बैंगनी रंग वो जगह है जहां इनकी मात्रा कम हो सकती है। इसी तरह हम अंदाजा लगा सकते हैं कि जहां धूप की किरणें ज्यादा होती हैं वहां सफेद या ग्रे रंग चांद पर दिखाई देता है।

इसी तरह ​सूरज की सिंदूरी फोटो भी रही थी चर्चा में

इसी तरह कुछ दिन पहले लाखों तस्वीरों से बनी सिंदूरी सूरज की फोटो भी लोगों के आकषर्ण का केंद्र बनी थी और यह इतनी क्लीयर थी कि सूरज की इस फोटो में सोलर फ्लेयर में होता विस्फोअ भी साफ दिखाई दे रहा था। एस्ट्रोफोटोग्राफर एंड्रयू मैकार्थी ने उस दौरान कहा था कि 230 मेगापिक्सल की यह तस्वीर उनके द्वारा ली गई यह तस्वीर अब तक की सबसे साफ तस्वीर है। उन्होंने बताया था कि वे तीन साल से सूर्य और चंद्रमा की तस्वीरें खींच रहे हैं। उन्होंने बताया कि इस खास फोटो को तैयार करने के लिए 100 फोटो प्रति सेकेंड की रफ्तार से कुल 1 लाख फोटो खींचे गए तो अंत में ये सूर्य की तस्वीर सामने आई। 

चंद्रमा के बारे में अन्य जानकारी

अब तक दुनियाभर से पृथ्वी के एकमात्र उपग्रह ‘चंद्रमा’ पर कई देशों ने समय समय पर अपने-अपने यान और अंतरिक्ष यात्री भेजे हैं। चंद्रमा पर मिशन के दौरान भेजे गए देशों की बात करें तो भारत से पहले कुल 06 देश चंद्रमा पर अपने यान भेज चुके हैं। इनमें से केवल 03 देश अमेरिका, रूस और चीन के यान को ही सफलता मिल पाई। 

चंद्रमा पर अब तक उतरे अंतरिक्ष यात्री

मिशन अपोलो-11: अमेरिका से चांद की सतह पर उतरने वाला पहला अंतरिक्ष यात्री था, इसे अमेरिका ने 20 जुलाई 1969 को अपोलो-11 मिशन के तहत भेजा था। चंद्रमां की सतह पर उतरने वाले पहले अंतरिक्ष यात्री का नाम नील आर्मस्ट्रांग और दूसरे का नाम बज़ एल्ड्रिन था। ये दोनों अंतरिक्ष यात्री अमेरिका के ही थे।

मिशन अपोलो-12: अमेरिका ने नवंबर 1969 में चंद्रमा पर मिशन अपोलो-12 भेजा और इस मिशन में पेटे कॉनराड वे इंसान थे जिन्होंने तीसरे व्यक्ति के तौर पर चंद्रमा पर कदम रखा था। जबकि इस मिशन के चालक दल के एलन बीन चंद्रमा पर कदम रखने वाले चौथे व्यक्ति थे।

पुणे के छात्र ने खीचीं चांद की तस्वीरें | चांद की वायरल तस्वीरें | What is astrophotography | viral images of moon | moon images by pune boy | Moon Images by 16 years old Pune boy | How to click images of moon | Coloured images of Moon | Colorful Moon images | clearest picture of moon | Pune News | Pune News in Hindi | Latest Pune News | Pune Headlines | पुणे Samachar

Like and Follow us on :

Facebook

Instagram

Twitter
Pinterest
Linkedin
Bloglovin

Was This Article Helpful?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *